छात्र दिलीप हत्याकांड में टीटीई विजय निलंबित, विभागीय जांच शुरू

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

छात्र दिलीप हत्याकांड में टीटीई विजय निलंबित, विभागीय जांच शुरू


🗒 मंगलवार, फरवरी 13 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

एलएलबी के छात्र दिलीप सरोज की नृशंस हत्या करने वाले दबंग टीटीई विजय शंकर सिंह को निलंबित कर दिया गया है। एसएसपी आकाश कुलहरि ने टीटीई विजय की करतूत और फरारी से संबंधित पत्र वाराणसी मंडल के डीआरएम को भेजा। इस पर वाराणसी मंडल के डीआरएम ने उसे तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए उसके खिलाफ विभागीय जांच बैठा दी। जांच रिपोर्ट आने के बाद बर्खास्तगी की कार्रवाई शुरू होगी। इस बीच आज प्रतापगढ़ में दिलीप सरोज के पिता को ढांढस बंधाने उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य पहुंचे और दिलीप के पिता को आश्वस्त किया कि सरकार उसने साथ है। 

छात्र दिलीप हत्याकांड में टीटीई विजय निलंबित, विभागीय जांच शुरू

आरोपी विजय सुलतानपुर जिले के धनपतगंज, कूड़ेभार का रहने वाला है और गाजीपुर में तैनात है। पूर्वोतर रेलवे, वाराणसी मंडल के जनसंपर्क अधिकारी अशोक कुमार के मुताबिक, विजय शंकर सिंह को निलंबित किया जा चुका है। अब उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जा रही है। जांच के लिए एक टीम का गठन किया गया है। बता दें कि आरोपी विजय शंकर सिंह वालीबाल का राष्ट्रीय खिलाड़ी रहा है। उसे रेलवे में नौकरी खेल कोटे से मिली थी। उसकी तलाश में पुलिस टीमें फैजाबाद, सुलतानपुर, आजमगढ़, गाजीपुर और बलिया में कैंप कर रही हैं। 

इलाहाबाद से अन्य समाचार व लेख

» UP मे शिक्षामित्रों की तैनाती के आदेश से जिले-जिले मचा हड़कंप, मार्गदर्शन मांगा

» उत्तर प्रदेश पुलिस और पीएसी की आरक्षी परीक्षा में गलत पेपर वितरण में इंस्पेक्टर समेत सात नामजद

» इलाहाबाद हाइकोर्ट ने कहा सामान्य-ओबीसी 45 और एससी-एसटी 40 फीसद अंक पाकर बनेंगे सहायक शिक्षक

» इलाहाबाद हाईकोर्ट की मॉनिटरिंग में होगी सीबीआई जांच, 13 अगस्त तक सभी जानकारी तलब

» इलाहाबाद मे आशा ज्योति केन्द्र से एक छात्रा गायब, चौकी प्रभारी सहित 10 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला मऊ मे मासूम को बचाने में पिता भी ट्रेन से गिरकर घायल

» चंदोली मे मासूमों को गंगा नदी में फेंक मा ने भी लगाई छलाग

» कांग्रेस के लिए मध्य प्रदेश की 103 सीटें बनी सिरदर्द, कईयों पर 25 वर्षों से नहीं मिली जीत

» ओबीसी आरक्षण का लाभ तीन-चार जातियों तक ही सिमटा रहा

» नगर निगम वसूलेगा जुर्माना अब गंदगी फैलाना प्लाट मालिकों को पड़ेगा भारी