यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला इलाहाबाद में दिनदहाड़े रिटायर्ड दारोगा की हत्या के मामले में हाईकोर्ट ने मांगा पुलिस से जवाब


🗒 मंगलवार, सितंबर 04 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

संगमनगरी इलाहाबाद में कल रिटायर्ड दारोगा की दिनदहाड़े पीट-पीटकर हत्या के मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट बेहद नाराज है। कोर्ट ने इलाहाबाद पुलिस ने इस हत्या की बाबत जवाब मांगा है। इसके साथ ही पूछा है कि इस मामले में अभी तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई है।

जिला इलाहाबाद में दिनदहाड़े रिटायर्ड दारोगा की हत्या के मामले में हाईकोर्ट ने मांगा पुलिस से जवाब

इलाहाबाद के शिवकुटी थाना क्षेत्र के तेलियरगंज सिलाखाना में कल दिन में रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद की एक टॉप टेन अपराधी ने सरेआम पीटकर हत्या कर दी। शिवकुटी थाने के टॉप टेन अपराधी जुनैद और उसके परिवार के लोगों ने महिला पॉलीटेक्निक के पीछे सड़क पर रिटायर्ड दारोगा को पकड़ लिया और वहां राड व पाइप से पीटकर मौत के घाट उतार दिया।बताया जा रहा है कि लाखों कीमत के मकान पर कब्जे को लेकर हत्या हुई। सीसीटीवी फुटेज में दारोगा पर हमले की तस्वीरें कैद हुई है। इसके बाद हिस्ट्रीशीटर जुनैद समेत दस लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।इलाहाबाद के तेलियरगंज क्षेत्र में रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद की सोमवार को दिनदहाड़े लाठी-डंडे से पिटाई कर दी गई थी। बाद में अस्पताल में समद ने दम तोड़ दिया था। इसका वीडियो मंगलवार को वायरल हुआ।सिलाखाना में रहने वाले रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद (68) सुबह पौने दस बजे मोहल्ले में ही मस्जिद की तरफ जाने वाली रोड पर पहुंचे कि हिस्ट्रीशीटर जुनैद उर्फ जुन्ना और उसके बेटे समेत दस लोगों ने उन्हें घेरकर पीटना शुरू कर दिया। रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद किसी काम से घर से बाहर निकले तभी पहले से घात लगाए बैठे दबंग हिस्ट्रीशीटर ने उनके ऊपर हमला बोल दिया। जिससे लहूलुहान होकर रिटायर्ड दरोगा अब्दुल समद मौके पर ही गिर पड़े। उसके बाद हिस्ट्रीशीटर और उसके बेटों ने दरोगा पर लाठियों की बौछार कर दी। दरोगा को गंभीर हालत में बेली अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन देर शाम रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद ने दम तोड़ दिया।

पुलिस के मुताबिक, समद और हिस्ट्रीशीटर जुनैद के बीच एक मकान को लेकर विवाद में मुकदमेबाजी थी। इसी मामले को लेकर एक बार पहले भी मारपीट हो चुकी थी। करीब दो वर्ष पहले रिटायर्ड दारोगा मूल रूप से प्रतापगढ़ के पट्टी थाना क्षेत्र के रखहा गांव के रहने वाले थे।चौंकाने वाली बात यह है कि इस दौरान आस-पास से गुजर रहे लोगों ने भी उन्हें बचाने की कोशिश नहीं की। कुछ ने अपना रास्ता बदल दिया तो कई वारदात को अनदेखा करते हुए वहां से गुजर गए। बता दें कि रिटायर्ड दारोगा अब्दुल समद पर हमला करने वाले हिस्ट्रीशीटर जुनैद का पुराना आपराधिक इतिहास है। वहीं एसपी सिटी बृजेश कुमार श्रीवास्तव ने मामले में कड़ी कार्रवाई करने की बात कही है। 

इलाहाबाद से अन्य समाचार व लेख

» इलाहाबाद में शुरू हुई दस रुपए में योगी थाली, गरीबों को मुफ्त

» जनपद इलाहाबाद में गंगा और यमुना उफान पर, निचले इलाकों में घुसा पानी

» शिक्षक भर्ती चयन से बाहर किए 6127 अभ्यर्थियों को जिले आवंटित

» UP सरकार को 68500 सहायक अध्यापक भर्ती में आरक्षण पर देना होगा जवाब: इलाहाबाद हाईकोर्ट

» सहायक शिक्षक 6896 अभ्यर्थी लिखित परीक्षा पास होने के बाद भी चयन से बाहर

 

नवीन समाचार व लेख

» जनपद वाराणसी में साइकिल सवार को बचाने में स्कूली बस पलटी आधा दर्जन बच्चे घायल

» मेरठ की छात्रा ने छेड़छाड़ के विरोध में आग के हवाले की गई

» अमर सिंह अब आजम खां के खिलाफ कोर्ट जाएंगे, कहा-क्षत्रिय धर्म का पालन करेंगे

» जिला इलाहाबाद में दिनदहाड़े रिटायर्ड दारोगा की हत्या के मामले में हाईकोर्ट ने मांगा पुलिस से जवाब

» अखिलेश ने पत्‍‌नी-बच्चों संग जन्माष्टमी पर्व पर किए कान्हा के दर्शन, तिलक लगाकर हुआ स्वागत