यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बलिया पति की रोज-रोज की पिटाई से अाहत महिला ने घाघरा नदी में मासूम बेटी व बेटे को फेंका


🗒 गुरुवार, अगस्त 23 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

आर्थिक तंगी ने एक मां को ऐसी दहलीज पर लाकर खड़ा कर दिया कि अपने बच्चों को ही नदी में फेंक दिया। एक बच्ची के साथ महिला भी खुद नदी में छलांग लगाने ही वाली थी कि कुछ लोगों ने उसे पकड़ लिया और जमकर पिटाई कर दी। बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया। घटना मांझी स्थित यूपी बिहार को जोड़ने वाले जय प्रभा सेतु की है।

बलिया पति की रोज-रोज की पिटाई से अाहत महिला ने घाघरा नदी में मासूम बेटी व बेटे को फेंका

घटना के संबंध में महिला ने बताया कि वह अंदर से टूट चुकी है अब उसे जीने की कोई चाह नहीं है। जीवित रह कर जब बच्चों को पाल नहीं सकती तो अब उसके सामने बस यही रास्ता रह गया था। महिला का नाम मनोरमा देवी है वह सिताब दियरा लाला टोला निवासी ललन राम की बेटी है। 11 वर्ष पहले बिहार के छपरा जनपद के मांझी थाना क्षेत्र के ताजपुर फुलवरिया निवासी बुनी लाल राम के पुत्र अमर जीत राम से हुई थी।बीच-बीच में पति से किसी न किसी बात को लेकर घर में झगड़ा बराबर होता रहता था। इसकी शिकायत अपने मायके वालों से वह किया करती थी। इस पर मायके वाले समझा बुझाकर चले जाते। कुछ दिन ठीक रहता फिर वही सब शुरू हो जाता था। इस बीच इसने तीन बच्चों को जन्म दिया। सास विद्यावती देवी और ससुर भी महिला को प्रताड़ित करते रहते थे। इसमें पति अमरजीत शराब पीकर घर पहुंचता और महिला की जमकर पिटाई करता था। यह चुप चाप मार खा कर सह कर रह जाती थीं।

महिला ने बताया कि तीन दिनों से उसकी तबीयत खराब चल रही है। इलाज तो कराना दूर बीती रात इलाज व काम को लेकर पति से झगड़ा हो गया और पति ने पिटाई कर दी। इस झगड़े व पिटाई से तंग आकर महिला अपने तीनो बच्चों के साथ मायके जाने के लिए निकल गई। जय प्रभा सेतु पर पहुंचने के बाद उसने अपना जीवन ही समाप्त करने के उद्देश्य से पहले डेढ़ वर्षीय प्रिंस को नदी में फेंक दिया। फिर पांच वर्षीय बेटी निशा को। इन दोनों को फेंकते देख सात वर्षीय अर्चना भागने लगीं।

अभी इसे पकड़ पाती तब तक कुछ लोगों ने उसे पकड़ लिया और महिला की पिटाई कर दी। इसके बाद पुलिस के हवाले कर दिया। उसे अपने जिंदा बच जाने का बहुत मलाल है। वह अब जिंदा नहीं रहना चाहती क्योंकि वह अंदर से टूट चुकी हूं। पुलिस तहकीकात में जुटी है। फिलहाल छपरा के मांझी पुलिस ने उसे अपने कब्जे में लिया है। साथ ही मासूमों के शवों की तलाश में पुलिस जुट गई है।

बलिया से अन्य समाचार व लेख

» बलिया में अरुणाचल प्रदेश निर्मित बिहार भेजी जा रही शराब बरामद

» बलिया BJP MLA के विवादित बोल, हिंदू समुदाय के लोगों को पैदा करने चाहिए 5 बच्चे

» जनपद बलिया में नदियां कर रहीं कटान, बढ़ी चिंता

» जनपद बलिया में 2 लाख रुपए कीमत की अवैध शराब बरामद

» बलिया मे जल्दबाजी में प्रसूता को अस्पताल पहुंचाने के लिए हाथ ठेला बना एंब्युलेंस

 

नवीन समाचार व लेख

» आजम खान नवजोत सिंह सिद्धू के बचाव में उतरे बोले-सरकार ने भेजा था पाकिस्तान

» राजधानी लखनऊ में भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा आज

» विधानमंडल सत्र में सीएम योगी आदित्यनाथ ने पढ़ा अटल बिहारी वाजपेयी पर शोक संदेश

» कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा उत्तर प्रदेश में 2024 तक भाजपा के साथ रहेगी सुभासपा

» जिला सोनभद्र के आदिवासी इलाके में तीर कमान से महिला पर वार, तीर आंख में फंसा