यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बिजनौर में एक महिला ने अपनी बेटी को दो लाख रुपया मे बेच दिया


🗒 रविवार, जून 10 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

केंद्र के साथ ही राज्य सरकार भले ही बेटी बचाओ अभियान में लगी हैं, लेकिन गरीबी इनके अभियान में बाधक बन रही है। बिजनौर में एक महिला ने अपने कलेजे के टुकड़े बेटी को सिर्फ इसलिए बेच दिया क्योंकि वह इसका पालन करने में सक्षम नहीं थी। बेटी की कीमत दो लाख रुपया लगी। उसके पड़ोसियों का कहना है कि पति शराबी है, महिला किसी तरह कमाकर बच्चों का पालन करती है। यह मामला सामने आने पर प्रशासन सक्रिय हो गया है।

बिजनौर में एक महिला ने अपनी  बेटी को  दो लाख रुपया मे बेच दिया

मुफलिसी से जूझ रही मां ने सात साल की बेटी को दो लाख रुपये में बेच दिया। बिजनौर में एक गरीब माँ ने आर्थिक तंगी के चलते अपने बेटी को दो लाख रुपया में बेच दिया। दिल को झकझोर देने वाली सूचना जैसे ही आसपास के लोगों को पता चली तो उनके होश उड़ गए। लोगों ने बताया कि गरीब महिला आर्थिक तंगी से जूझ रही है, उसे कोई भी सरकारी सुविधाएं और सहायता नहीं मिल रही है। महिला का पति शराबी है, वह रोजाना पैसे के लिए मारपीट करता है। यह गरीब महिला आसपास के घरों में बर्तन, झाड़ू पोछा का काम करती है और परिवार का पेट पालती है। परिवार की हालत खस्ता होने के कारण महिला ने यह कदम उठाया है। फिलहाल मीडिया में मामला आने के बाद पुलिस और जिला प्रशासन पूरे मामले की तफ्तीश में जुट गया है।

मामला धामपुर थाना के पुराना मछली बाजार का है। दो हफ्ते पहले महिला दो बड़ी बेटियों को लेकर नहटोर गई थी वहां पर उसने एक वकील को अपनी बड़ी बेटी का सौदा कर दिया। बेटी को वकील के पास छोड़ कर महिला अपनी छोटी बेटी को साथ लेकर घर आ गई। जब परिजनों ने बड़ी बेटी के घर ना आने के कारण पूछा। तो महिला ने बताया वह नहटौर में एक व्यक्ति के घर पर काम करेगी। जब परिवार के लोगों ने महिला पर दबाव बनाया तो पता लगा कि उसने बेटी को वकील के हाथ दो लाख रुपया में बेच दिया है।

उन्होंने बेटी को नागौर से वापस लाने का दबाव बनाया लेकिन वकील ने दो लाख वापस देने पर ही किशोरी को वापस करने की बात कही। इसके बाद परिजनों ने डीएम से शिकायत कर किशोरी को वापस दिलाने की गुहार लगाई है। वही डीएम ने मामला संज्ञान में आते ही अधिकारियों को किशोरी के घर वापस कराने का निर्देश दिए हैं।

डीएम अटल कुमार राय का कहना है कि मामला गंभीर है जांच कराकर मामले में कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उधर कोतवाल शक्ति सिंह का कहना है कि इस तरह का मामला उनके संज्ञान में नहीं है शिकायत मिलने पर कार्यवाही होगी।

परिवार का अभी तक राशन कार्ड नहीं

परिवार बेहद खराब आर्थिक स्थिति में जीवन यापन कर रहा है। उसका पति विवाह शादी में बैंड बाजा बजाता है। उनके चार बेटी व एक बेटा है। बेटा बहुत छोटा है। पीडि़त परिवार को सरकारी योजनाओं का लाभ भी नहीं मिल पा रहा है। परिवार का अभी तक राशन कार्ड भी नहीं बना है। उसे राशन की दुकान से राशन नहीं मिल पा रहा है, ना ही उसे जीवन यापन के लिए किसी सरकारी योजना का लाभ मिला। महिला का पति भी शराबी है जो काम करता है। वह उसे शराब पीने में खर्च कर देता है। महिला को स्वयं ही मेहनत मजदूरी कर बच्चों का पेट पालना पड़ता है।

वकील के नहीं है कोई संतान

चर्चा है कि जिस वकील को किशोरी बेची गई है उसके कोई बच्चा नहीं है। उसने किशोरी को पालन-पोषण के उद्देश्य से खरीदा है। वार्ड सदस्य अरविंद कुमार का कहना है कि महिला कभी उससे नहीं मिली। किशोरी को बेचने का मामला गंभीर है जांच कराकर किशोरी को वापस लाया जाएगा। पीडि़त परिवार की पालिका की ओर से हर संभव मदद की जाएगी उसे सरकारी योजनाओं का लाभ भी दिया जायेगा।

पंचायत नाराज, हुक्का पानी बंद का फरमान

महिला के अपनी बेटी को बेच देने के बाद बिरादरी के लोगों ने इसको लेकर पंचायत की.और बेटी को वापस नहीं लाने पर महिला व उसके परिवार का हुक्का पानी बंद करने का फरमान सुना दिया। महिला का मायका नहटौर क्षेत्र में है। महिला की चार पुत्रियां व एक पुत्र है। पति को शराब की लत है और रोजगार का कोई साधन नहीं है। महिला मायके गई हुई थी। वहीं पर उसने अपनी सात वर्षीय पुत्री को एक वकील को दो लाख में बेच दिया। उसने यह कदम गरीबी के चलते उठाया। इसके बाद छह मई को वह धामपुर ससुराल लौट आई।

जब मोहल्लेवासियों को इसकी भनक लगी तो उन्होंने दो दिन पूर्व रात के समय बिरादरी की पंचायत की। इसमें दंपती को चेतावनी दी कि यदि वह अपनी लड़की को वापस नहीं लाए तो उनका हुक्का-पानी बंद कर दिया जाएगा। सात को महिला फिर मायके चली गई। फिलहाल परिवार के लोग कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। बेटी को भी अभी वापस नहीं लाया जा सका है। पुलिस अफसर मामले की जानकारी से इन्कार कर रहे हैं। आज पूर्ति विभाग की टीम पीडि़त परिवार के पास पहुंची और उनके राशन कार्ड आदि का फार्म भरवाया। सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने का आश्वासन भी दिया। उधर प्रभारी निरीक्षक शक्ति सिंह का कहना है कि तहरीर आने पर जांच कर कारवाई की जाएगी। 

बिजनौर से अन्य समाचार व लेख

» बिजनौर मे मोहम्मद साहब पर आपत्तिजनक टिप्पणी से उबाल, मुस्लिम समाज के लोगों ने किया घेराव

» बिजनौर जिले मे पति ने पत्‍नी को बाहर घुमाने के बहाने ले जाकर पत्नी पर किया चाकू से हमला

» बिजनौर में कैराना-नूरपुर उपचुनाव नतीजों के बाद भाजपा-सपा समर्थकों में पथराव

» कल दोबारा कैराना लोकसभा उपचुनाव में की तैयारी पूरी

» पांच बजे तक नूरपुर विधानसभा उपचुनाव मे 57.31 प्रतिशत मतदान

 

नवीन समाचार व लेख

» पूर्व SP नेहा पांडे से CBI सोमवार को दर्ज करेगी बयान

» SCO शिखर सम्मेलन में PM मोदी ने उठाया आतंक का मुद्दा, सुरक्षा का दिया 'SECURE मंत्र'

» कानपुर मे मृतकों का रिकार्ड न देने पर डॉक्टरों से सपाइयों की बहस

» जनपद हाथरस में पेड़ से टकराई टाटा मैजिक, आगरा के पांच लोगों सहित छह की मौत

» हाथरस में पुरानी रंजिश को लेकर दो भाइयों की गोली मारकर हत्या