यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बिहार में चुनावी बिसात बिछने से पहले ही दलों के पैंतरे, सहयोगी पार्टी दिखा रहे आंखे


🗒 रविवार, फरवरी 04 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

लोकसभा चुनाव में अभी थोड़ी देर होने के बावजूद प्रदेश में राजनीतिक दलों ने पैंतरा दिखाना आरंभ कर दिया है। अपने कार्यक्रम और बयानों से राजग के घटक दल जहां भाजपा को आंखें दिखा रहे हैं, वहीं कुछ छोटे दलों पर डोरे भी डाले जा रहे हैं। नए पार्टनर की तलाश भी कुछ दल कर रहे हैं।

बिहार में चुनावी बिसात बिछने से पहले ही दलों के पैंतरे, सहयोगी पार्टी दिखा रहे आंखे

30 जनवरी को रालोसपा की मानव कतार कार्यक्रम के बाद अटकलों का बाजार गर्म है। राजद के कई वरिष्ठ नेता रालोसपा अध्यक्ष एवं केंद्र सरकार में राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा के साथ खड़े दिखे।

कुशवाहा का शिक्षा सुधार के उद्देश्य को लेकर आयोजित यह कार्यक्रम अपने आपमें राजग के लिए बहुत संवेदनशील था, क्योंकि प्रदेश में इस समय राजग की ही सरकार है। मानव कतार में शामिल हुए राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी दो दिन बाद बिहार पीपुल्स पार्टी के संस्थापक आनंद मोहन से मिलने सहरसा जेल पहुंच गए।

बिहार पीपुल्स पार्टी दो वर्ष पूर्व हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा के साथ खुद को जोड़ कर राजग की धुरी पर चल रही थी। बताया जाता है कि राजद की ओर से आनंद मोहन पर डोरे डालने के साथ-साथ पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी पर भी 'वर्क आउट' करने को सोचा जा रहा है। पप्पू यादव राजद के की टिकट पर ही पिछला लोकसभा चुनाव जीते थे, और फिर उन्होंने अपनी अलग पार्टी बना ली।

इधर, राजग में शामिल हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने शनिवार को यह बयान देकर भाजपा-जदयू की चिंता बढ़ा दी कि उन्हें अगले विधानसभा चुनाव में कम से कम 50 सीटें चाहिए।

कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष पद से डा. अशोक चौधरी को हटाए जाने के बाद से जदयू के पक्ष में बयानबाजी का सिलसिला थमा, लेकिन कांग्रेस विधान पार्षद रामचंद्र भारती 21 जनवरी को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा आयोजित मानव श्रृंखला कार्यक्रम में शामिल हुए।

पार्टी लाइन की परवाह किए बिना वह मुख्यमंत्री की प्रशंसा में जुटे हैं। कांग्रेस नेताओं का यह रवैया महागठबंधन के लिए लगातार परेशानी का सबब बन रहा है। नीतीश कुमार के अलग होने और लालू प्रसाद के जेल जाने से महागठबंधन पहले ही बहुत कमजोर हो चुका है। महागठबंधन ने शरद यादव से फिलहाल बहुत उम्मीदें  पाल रखीं हैं जो 20 फरवरी को अपनी पार्टी लांच कर रहे हैं। शरद यादव सोमवार को जेल में बंद लालू प्रसाद से भी मिलने वाले हैं।

लोक सभा चुनाव से अन्य समाचार व लेख

» मेघालय पर चढ़ेगा किसका रंग, कांग्रेस के कुशासन के खिलाफ भाजपा ने छेड़ी जंग

» हाथ से ' दोस्ती' लेकिन पैर से लोकसभा उपचुनाव में 'साइकिल' चलेगी: नरेश उत्तम पटेल

» समाजवादी पार्टी का संकेत गोरखपुर व फूलपुर लोकसभा उपचुनाव अकेले लड़ेगी

» बेरोजगारों को नौकरी की जगह पकौड़ा बेचने की सलाह दे रही मोदी सरकार: मायावती

» जिला उन्नाव मे हो रही हे चुनाव अचार सहीता की अनदेखी

 

नवीन समाचार व लेख

» नहीं होगा सरकारी बैंकों का निजीकरण, अरुण जेटली ने खारिज की मांग

» अन्‍ना हजारे ने मुख्‍य सचिव से विधायकों की मारपीट पर अरविंद केजरीवाल को लताड़ा

» मारपीट की घटना से आहत मुख्य सचिव ले सकते हैं दिल्ली सरकार से तबादला

» सत्ता में आने पर कांग्रेस पारित कराएगी महिला आरक्षण विधेयक : राहुल

» औरैया जिला अस्पताल में सरकारी को जगह नहीं, प्राइवेट एम्बुलेंस का कब्जा