यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कर्नाटक में जोर-शोर से लिंगायत मुद्दा उठाने के बाद पार्टियों ने अपनाया सतर्क रुख


🗒 रविवार, अप्रैल 15 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

कर्नाटक में 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनावों के पहले प्रभावशाली लिंगायतों और वीरशैव लिंगायतों को ‘‘धार्मिक अल्पसंख्यक’’ का दर्जा दिए जाने के विवादास्पद मुद्दे का चुनाव पर पड़ने वाले असर को लेकर चिंतित राजनीतिक दलों ने सधा हुआ रुख अपना लिया है।

कर्नाटक में जोर-शोर से लिंगायत मुद्दा उठाने के बाद पार्टियों ने अपनाया सतर्क रुख

लिंगायत/वीरशैव को दर्जा दिए जाने के लिए सिद्धरमैया सरकार के भीतर ही विभाजन पर सत्तारूढ़ दल अब मुद्दे पर सतर्कता बरत रहा है। राज्य की आबादी में लिंगायत/वीरशैव की 17 प्रतिशत हिस्सेदारी है। करीब 100 निर्वाचन क्षेत्रों, खासकर उत्तरी कर्नाटक में उनका वोट निर्णायक होता है। 

कर्नाटक विधानसभा के सदस्यों की संख्या 224 है। कांग्रेस ने इस मुद्दे को जोर - शोर से उठाया और मंत्रिमंडल के कुछ लिंगायत मंत्रियों ने ‘‘अलग धर्म’’ की मांग को लेकर आंदोलन चलाया लेकिन अब वे सतर्कता बरत रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि या तो मुद्दा पार्टी के लिए काम कर सकता है या उसपर हिंदू समुदाय को बांटने का आरोप लग सकता है। राज्य मंत्रिमंडल ने 19 मार्च को लिंगायतों और वीरशैव लिंगायतों को धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा प्रदान करने के लिए केंद्र को सिफारिश करने का फैसला किया था।
दूसरी तरफ, मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा इस कदम को अपने वोट बैंक में सेंध लगाने के तौर पर देख रही है और अब तक उसने अपना रूख पूरी तरह साफ नहीं किया।भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह राज्य के हालिया दौरे के दौरान लिंगायतों के 10 से ज्यादा मठों में गए थे। इसे समुदाय का समर्थन बनाए रखने का प्रयास बताया गया। राज्य की तीसरी बड़ी पार्टी जेडीएस भी मुद्दे पर सधा हुआ रुख अपना रही है। हालांकि, लिंगायत समुदाय से पार्टी के एक वरिष्ठ नेता बसवराज होरट्टी भी अलग धर्म का दर्जे की मांग को लेकर आंदोलन का हिस्सा थे। 

चुनाव से अन्य समाचार व लेख

» छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल बेल्ट में घमासान तेज, गांवों में जाने से कतरा रहे नेता

» चुनावों में नहीं हो पाएगा WhatsApp का बेजा इस्तेमाल, लगेगी रोक, अकाउंट हो जाएगा ब्लॉक

» VVPAT से नहीं खिंचेगा फोटो, अफवाहों पर ध्यान न दें मतदाता: चुनाव आयोग

» कभी कांग्रेस को नेहरू, इंदिरा के नाम पर मिलते थे वोट, अब चुनौतियों से जूझ रही पार्टी: पी चिदंबरम

» कांग्रेस छत्तीसगढ़ में बसपा से चाहती है गठबंधन, सपा पर दांव नहीं खेलेगी

 

नवीन समाचार व लेख

» भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय ने कहा बसपा और कांग्रेस ने अंबेडकर के सपनों को रौंदा

» भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा नोटबंदी तुगलकी फरमान, नेताओं को बुजुर्ग बताकर दरकिनार कर रही भाजपा

» जिला अलीगढ़ में बुलंदशहर के पशु व्यापारी से सात लाख लूटे

» जिला मेरठ की महिला से अलीगढ़ के दारोगा ने किया दुष्कर्म, फेसबुक से बढ़ी थीं नजदीकियां

» जिला गोरखपुर में 16 वर्ष की युवती की गोली मारकर हत्या