यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कांग्रेस व सपा-बसपा गठबंधन ने नहीं खोले पत्ते, भाजपा में भी इंतजार


🗒 शुक्रवार, मार्च 22 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सपा-बसपा गठबंधन ने वैसे तो पूरे प्रदेश का राजनीतिक समीकरण बदला है, लेकिन कुशीनगर लोकसभा में यह समीकरण कुछ अधिक ही बदला दिख रहा है। कांग्रेस ने राजदरबार के सदस्य आरपीएन सिंह को फिर से मैदान में उतारा है तो सपा ने अभी किसी पर दांव नहीं लगाया है। भाजपा में भी अभी उम्मीदवार को लेकर इंतजार है। पिछले लोकसभा के मुकाबिल बदले राजनीतिक समीकरण को नए तरीके से साधने में सभी दल लगे हैं। पिछली बार बसपा और सपा ने अलग-अलग खम ठोंका था तो अब हाथ मिलाकर मैदान में हैं। अपनी सियासी जुगलबंदी से गठबंधन जीत की ओर बढऩे की कोशिश करेगा तो राज दरबार को जीत की दरकार होगी और भाजपा के सामने अपनी सीट बचाए रखने की चुनौती।

कांग्रेस व सपा-बसपा गठबंधन ने नहीं खोले पत्ते, भाजपा में भी इंतजार

मतलब राजनीतिक समीकरण पूरी तरह से बदला होगा। ऐसे में पुराने सियासी दांव से इतर नए पैंतरे चलने की जुगत में सभी दल होंगे। आजादी के बाद सोशलिस्ट पार्टी, कांग्रेस, जनता दल, भाजपा यहां तक की निर्दल प्रत्याशी ने भी जीत दर्ज की है, लेकिन कभी बसपा या सपा ने जीत का स्वाद नहीं चखा। लोकसभा चुनाव में पहली बार उनका गठबंधन मैदान में होगा तो भाजपा व कांग्रेस अपनी परंपरागत सीट पर काबिज होने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। बदले सियासी समीकरण से बदले सियासी मिजाज को समझने में सभी दल लगे हैं तो इसको भांपने में मतदाता भी पीछे नहीं हैं।

वर्ष 2014 के चुनाव में किसको कितना मिला वोट

भाजपा 370051 (38.92 फीसद)

कांग्रेस 284511 (29.92 फीसद)

सपा 132881 (13.98 फीसद)

सपा 11256 (11.70 फीसद)

2009 के तुलना में किसको कितना फायदा और नुकसान फीसद

भाजपा  + 16.73 फीसद

कांग्रेस  - 0.71 फीसद

बसपा - 13.77 फीसद

सपा + 4.15 फीसद

चुनाव से अन्य समाचार व लेख

» वाराणसी में पीएम नरेंद्र मोदी की बायोपिक में अभिनेता विवेक ओबेरॉय इन दिनो बिजी

» छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल बेल्ट में घमासान तेज, गांवों में जाने से कतरा रहे नेता

» चुनावों में नहीं हो पाएगा WhatsApp का बेजा इस्तेमाल, लगेगी रोक, अकाउंट हो जाएगा ब्लॉक

» VVPAT से नहीं खिंचेगा फोटो, अफवाहों पर ध्यान न दें मतदाता: चुनाव आयोग

» कभी कांग्रेस को नेहरू, इंदिरा के नाम पर मिलते थे वोट, अब चुनौतियों से जूझ रही पार्टी: पी चिदंबरम

 

नवीन समाचार व लेख

» वाराणसी में पीएम नरेंद्र मोदी की बायोपिक में अभिनेता विवेक ओबेरॉय इन दिनो बिजी

» कांग्रेस व सपा-बसपा गठबंधन ने नहीं खोले पत्ते, भाजपा में भी इंतजार

» यूपी में एक-दो सीट जीतने को भी तरस जाएगी भाजपा अखिलेश यादव को भरोसा

» नेता बालकुमार पटेल का सपा से मोहभंग, अब कांग्रेस में शामिल

» अब फतेहपुर सीकरी से लड़ेंगे चुनाव कांग्रेस ने बदली राज बब्बर की सीट