यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

रामगोपाल यादव का कहना कि भाजपा संसद बुलाने से डर रही और मुसलमान भाजपा से भयभीत


🗒 रविवार, नवंबर 19 2017
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सपा के राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव का कहना है कि केंद्र सरकार गुजरात विधानसभा व उत्तर प्रदेश के निकाय चुनाव में हार के भय से संसद सत्र नहीं बुला रही है। संसद जीएसटी सरीखे मुद्दे उठेंगे। सरकार को चुनाव पर इसका व्यापक असर पडऩे का भय सता रहा है। इस समय संसद का सत्र चलना चाहिए था और इसी वजह से इस वर्ष नहीं बुलाया गया। रविवार को पत्रकारों से वार्ता में रामगोपाल ने कहा कि पूरे देश में भाजपा के खिलाफ माहौल है। गुजरात के चुनाव को लेकर भाजपा में बेचैनी है। उसके लिए यह कांटे का चुनाव है। वहां 15 वर्ष भाजपा की सरकार रही है और वोट का अंतर दो फीसद था। इस बार जो अनुमान है वो वोट का अंतर घट जाएगा और भाजपा का 5 फीसद वोट घटने की खबरें आ रही हैं। भाजपा ने पूरी ताकत गुजरात में लगा दी है। निकाय चुनाव में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व उपमुख्यमंत्री के दौरों को लेकर उन्होंने कहा कि यह लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से डरे हुए हैं। इनकी जिम्मेदारी है और हर हाल में इन्हें चुनाव जीतना है। इसलिए ये निकाय चुनाव में भी जगह-जगह जा रहे हैं। 

रामगोपाल यादव का कहना कि भाजपा संसद बुलाने से डर रही और मुसलमान भाजपा से भयभीत

समाजवादी पार्टी महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष अबू आसिम आजमी का आरोप है कि मोदी और योगी सरकार में अल्पसंख्यकों की बात नहीं सुनी जा रही। भाजपा सरकार में मुस्लिम डरा हुआ है। परेशान जनता को आज भी पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर ही भरोसा है। आजमी रविवार को कानपुर में सपा की महापौर प्रत्याशी माया गुप्ता के समर्थन में विभिन्न स्थानों पर जनसभाएं करने आए थे। दैनिक जागरण से बातचीत में उन्होंने कहा कि मुसलमानों की स्थिति यह है कि गोकशी के आरोप के डर से उन्होंने गाय-बैल पालने के बजाय छोड़ दिए हैं। पहले नीलगाय से समस्या होती थी, अब उप्र में गाय-बैल से परेशानी है। निकाय चुनाव पर बोले कि हमारी लड़ाई सिर्फ भाजपा से है। भाजपा से जनता की उम्मीदें टूट चुकी हैं लेकिन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झूठ बोलने में माहिर हैं। साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सभाओं में जनता नहीं पहुंच रही। पूर्व मुख्यमंत्री एवं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष से मिलने अब भी भीड़ आती है। अयोध्या मुद्दे पर बोले कि कुछ बिकाऊ मुसलमान सहमति पर राम मंदिर निर्माण की बात कह रहे हैं। जब मामला कोर्ट में विचाराधीन है तो चर्चा होनी ही नहीं चाहिए। सहमति के आधार पर मस्जिद भी तो बन सकती है।

इटावा से अन्य समाचार व लेख

» इटावा में छेडख़ानी की शिकायत पर दलित किशोरी की गला घोंटकर हत्या

» मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना का दूल्हा टॉयलेट के बहाने मंडप से भागा

» इटावा में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, 2 गिरफ्तार

» इटावा से सटे नीलकंठ मंदिर क्षेत्र में घुसा तेंदुआ मचा रहा उत्पात

» शिवपाल यादव फरवरी में देंगे अपने राजनीतिक भविष्य को दिशा

 

नवीन समाचार व लेख

» जालौन जनपद मे सलीम हत्याकांड का पुलिस ने किया भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार

» कुंभ मेला: मुख्य सचिव ने लिया तैयारियों का जायजा, दिया 1 हजार नई बसों का आदेश

» दयाशंकर सिंह ने फिर की मायावती पर टिप्पणी, BSP को बताया 'परचून की दुकान'

» श्रीदेवी के परिवार की मीडिया से निजता का ख्याल रखने की अपील

» सिंभावली चीनी मिल मामले में प्रवर्तन निदेशालय की छापेमारी