यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब फतेहगढ़ सेंट्रल जेल आते ही सुनील राठी की अधिकारियों से झड़प


🗒 रविवार, जुलाई 15 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में शनिवार रात सेंट्रल जेल लाया गया मुन्ना बजरंगी हत्याकांड का आरोपित सुनील राठी यहां पहुंचते ही बिदक पड़ा। बागपत से साथ लाया सामान जेल गेट से वापस किए जाने पर उसकी जेल अधिकारियों के साथ झड़प हुई। फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि आखिर सामान में ऐसा क्या था जिसे सुनील साथ में अंदर ले जाना चाहता था। इस मामले पर जेल प्रशासन ने झड़प की बात से इन्कार किया है, वहीं सामान के बाबत सवाल पर कहा कि सुनील का बैग चेक ही नहीं किया गया। बैग को बागपत से साथ आए सुरक्षाकर्मियों को लौटा दिया गया। 

अब फतेहगढ़ सेंट्रल जेल आते ही सुनील राठी की अधिकारियों से झड़प

सेंट्रल जेल के कैदी नंबर 27314 से जुड़ी कुछ बातें

  • बागपत से साथ लाया सामान गेट पर वापस होने पर बिदका
  • क्या सामान अंदर ले जाना चाहता था, इस पर उठ रहे सवाल
  • मेरठ में एक हिस्ट्रीशीटर को पहुंचाना था सुनील राठी का बैग
  • बागपत से फतेहगढ़ सेंट्रल जेल लाने पर भी उठने लगे सवाल
  • सुनील राठी अब फतेहगढ़ सेंट्रल जेल का कैदी नंबर 27314 
  • सुभाष ठाकुर और सुनील राठी के बीच मुलाकात पर रोक

राठी अब कैदी नंबर 27314

माफिया डान मुन्ना बजरंगी को बागपत जेल में गोलियों से भूनने का आरोपित सुनील राठी अब सेंट्रल जेल का कैदी नंबर 27314 है। जेल गेट पर तलाशी, मेडिकल परीक्षण और जेल का जामा पहनाए जाने के बाद उसे कड़ी सुरक्षा के बीच हाई सिक्योरिटी सेल में रखा गया। उसे सामान्य कैदियों की तरह भोजन दिया गया। इससे पहले जेल लाए जाने पर सुनील राठी पुलिस के वज्र वाहन से पूरी ठसक के साथ नीचे उतरा। बड़े गौर से गेट और आस-पास के माहौल पर नजर डाली। जेल गेट में घुसते ही सुनील की गहनता से तलाशी ली गई और जेल के कपड़े पहनने के लिए दिए गए। 

बजरंगी की हत्या सहित 18 मुकदमे 

बागपत से यहां भेजे गए रिकार्ड के अनुसार सुनील राठी पर मुन्ना बजरंगी की हत्या सहित कुल 18 मुकदमे दर्ज हैं। दो में आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है। अन्य मुकदमे विचाराधीन हैं। 

जान का खतरा बता जेल प्रशासन को पत्र लिखा

सुनील राठी ने रविवार को अपनी जान का खतरा बताकर जेल प्रशासन को पत्र लिखा है। जेल सूत्रों के मुताबिक पत्र में उसने लिखा है कि सेंट्रल जेल में उसके कई पुराने दुश्मन पहले से निरुद्ध हैं। उसे किसी अन्य जेल में भेजा जाए। जेल प्रशासन ने पत्र को कार्यवाही के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को भेजा है। इस बाबत पूछे जाने पर प्रभारी जेल अधीक्षक विजय विक्रम सिंह ने बताया कि वह इस संबंध में कुछ नहीं बता सकते। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर जानकारी दी जाएगी।ऐसी जानकारी सामने आ रही है कि बागपत से फतेहगढ़ के रास्ते में सुनील राठी से मेरठ में एक व्यक्ति से मुलाकात कराई गई। सूत्रों के मुताबिक लगभग पांच मिनट की इस मुलाकात पर फिलहाल प्रशासन पूरी तौर पर अनभिज्ञता जता रहा है। हालांकि इस मुलाकात को लेकर कयासों का दौर जारी है। 

हिस्ट्रीशीटर को पहुंचाना था राठी का बैग

 

बागपत जेल में कुख्यात मुन्ना बजरंगी की हत्या के आरोपित सुनील राठी को मेरठ कैंट में एक बैग मिलना था, इसीलिए उसकी गाड़ी को मेरठ में रोका गया। यह बैग जिले के एक हिस्ट्रीशीटर को लेकर जाना था। पांच मिनट तक हिस्ट्रीशीटर का इंतजार हुआ। जब वह नहीं आया तो गाड़ी आगे बढ़ गई। हालांकि प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि बाद में हिस्ट्रीशीटर वहां पहुंचा, लेकिन लौट आया। शनिवार को जब सुनील राठी को फतेहगढ़ सेंट्रल जेल ले जाया जा रहा था तो मेरठ एसएसपी राजेश कुमार पांडेय से भी सुरक्षा मांगी गई थी। इसके बाद दौराला में एक वज्र वाहन को बुलेटप्रूफ जैकेट से लैस जवानों के साथ भेजा गया था। फिर कैंट में सुनील राठी की गाड़ी रोकी गई। यहां हिस्ट्रीशीटर का इंतजार हुआ।

बागपत से फतेहगढ़ लाने पर भी सवाल

अब सवाल यह है कि यह हिस्ट्रीशीटर सुनील राठी को बैग में क्या देना चाहता था? सूत्रों का यह भी कहना है कि कैंट क्षेत्र की एक दुकान से कुछ सामान भी खरीदा गया है। सवाल यह खड़ा हो रहा है कि इतने दुर्दांत अपराधी को ले जा रही गाड़ी को सिक्योरिटी अफसर ने रोकने की इजाजत क्यों दी? एसएसपी राजेश कुमार पांडेय का कहना है कि सुनील राठी की गाड़ी को कैंट में रोकना बड़ी लापरवाही है। इस मामले में बागपत एसपी से बात करके जांच की जाएगी। जो भी दोषी होगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी।

सुभाष ठाकुर व सुनील राठी से मुलाकात पर रोक

सुनील राठी को सर्किल दो की हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा गया है। जेल में डॉन दाऊद के शार्प शूटर रहे सुभाष ठाकुर के अलावा अजीत उर्फ हप्पू, सलीम व छोटा राजन गैंग के दो शार्प शूटर भी बंद हैं। इनकी सुनील से दुश्मनी है। ऐसे में कोई साजिश न रची जाए, इसके लिए जेल प्रशासन ने इन सभी अपराधियों की मुलाकात पर रोक लगा दी है। 

डीआइजी जेल ने लिया सुरक्षा का जायजा

आगरा के डीआइजी जेल संजीव त्रिपाठी रविवार देर शाम सेंट्रल जेल पहुंचे और लगभग दो घंटे यहां रुक कर सुनील राठी के साथ ही जेल में निरुद्ध अन्य हाई प्र्रोफाइल माफिया की सुरक्षा का भी निरीक्षण किया। उन्होंने जेल अधिकारियों के साथ मंत्रणा की। जेल प्रशासन को सुरक्षा व्यवस्था में किसी प्रकार की चूक न करने और कोई जोखिम न उठाने के निर्देश दिए। 

फर्रूखाबाद से अन्य समाचार व लेख

» जनपद फर्रुखाबाद में मजार पर पहुंची महिला से झाडफ़ूंक के बहाने तांत्रिक ने की छेड़छाड़

» फर्रुखाबाद पुलिस एनकाउंटर में घायल हुआ 50 हजार का इनामी, दरोगा को लगी गोली

» देर रात फतेहगढ़ सेंट्रल जेल सुनील राठी को कड़ी सुरक्षा में लाया गया

» फर्रुखाबाद मे ग्रामीणों ने प्रेमी युगल को पेड़ से बांधकर पीटा, बाल काटकर सिर पर बनाया चौराहा

» फर्रुखाबाद जिले मे तीन साल की बच्ची के साथ टॉफी दिलाने के बहाने किया रेप

 

नवीन समाचार व लेख

» जिले में सात लाख पौधे रोपित होंगे

» पुलिस ने पकड़ी कार सवार दो लड़कों से 97 ग्राम चरस पकडी

» इलाहाबाद कुंभ मेले के नाम पर निकाला फर्जी टेंडर, ठगी का शिकार हुआ कारोबारी

» इलाहाबाद के कांग्रेस नेताओं द्वारा जारी किये गए पोस्टर राहुल और PM मोदी के गले लगने पर

» ममता सरकार ने किया समझौता, आयुष्मान भारत योजना में बंगाल भी शामिल