यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

फर्रुखाबाद के संकिसा महोत्सव में बौद्ध और सनातनधर्मियों में जवाबी नारेबाजी


🗒 बुधवार, अक्टूबर 24 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

संकिसा में चल रहा बुद्ध महोत्सव बुधवार को विभिन्न कार्यक्रमों के साथ संपन्न हो गया। सुबह भगवान बुद्ध के अनुयाइयों ने परंपरागत धम्मयात्रा निकाली और धार्मिक स्थल पर पहुंचकर पूजा अर्चना की। इस दौरान सनातनधर्मी भी परिसर के बाहर मौजूद थे। दोनों पक्ष जवाबी नारेबाजी करते रहे। रथ पर भगवान बुद्ध के अनुयायियों धार्मिक स्थल की परिक्रमा लगाई। बाद में सनातनधर्मियों ने वहां पहुंचकर पूजा अर्चना की। उल्लेखनीय है कि संकिसा टीले को लेकर करीब 31 साल से विवाद जारी है। दोनों धर्मों के अनुयायी इस पर अपना अपना दावा ठोंक रहें हैं

फर्रुखाबाद के संकिसा महोत्सव में बौद्ध और सनातनधर्मियों में जवाबी नारेबाजी

पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस के सामने धम्मा लोको बुद्ध बिहार से सुबह भगवान बुद्ध के अनुयाइयों की धम्मयात्रा पुलिस की कड़ी सुरक्षा में शुरू हुई। यात्रा की अगुवाई भंते डा. धम्मपाल, कर्मवीर शाक्य, नगेंद्र शाक्य, सरिता शाक्य आदि भंते कर रहे थे। लोग धार्मिक नारेबाजी करते हुए आगे बढ़ रहे थे। एक रथ पर भगवान बुद्ध का चित्र सजाया गया था। धार्मिक स्थल पर पहुंचकर कर अनुयाइयों ने परिक्रमा लगाई। इसके बाद मोमबत्ती, अगरबत्ती लगाकर पूजा अर्चना की। भंते डा. धम्मपाल ने अनुयाइयों को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान बुद्ध ने 522 ईसा पूर्व स्वर्ग से संकिसा में उतरकर अपनी मां महामाया को उपदेश दिया था। इसलिए संकिसा का महत्व अधिक है। धार्मिक स्थल में भगवान की अस्थियां है। इस कारण हम लोग ऊपर न जाकर नीचे बैठकर पूजा अर्चना करते हैं। बौद्ध अनुयाई पूजा अर्चना कर रहे थे।इसी पूजा अर्चना और परिक्रमा के दौरान मां विसारी देवी सेवा समिति के संयोजक अतुल दीक्षित, भोलेपुर हनुमान मंदिर के महंत बाबा बालकदास के नेतृत्व में सनातनधर्मी भी परिसर की दीवार के किनारे खड़े होकर जवाबी नारेबाजी कर रहे थे। बुद्ध अनुयाइयों के वापस जाने के बाद सनातन धर्मियों को वहां आने की अनुमति दी गई। उन्होंने धार्मिक स्थल के ऊपर जाकर मां विसारी देवी मंदिर आदि की पूजा की व खीर प्रसाद वितरित किया। अपर पुलिस अधीक्षक त्रिभुवन सिंह, सीओ कायमगंज अखिलेश राय, नायब तहसीलदार चूड़ामणि फोर्स के साथ मौजूद रहे।

फर्रूखाबाद से अन्य समाचार व लेख

» फर्रुखाबाद मे सीएमओ ने खड़े होकर जलवाईं लाखों की दवाएं, बची दवाएं गंगा और कटरी में फेंकी

» दि फर्रुखाबाद डिस्ट्रिक्ट कोआपरेटिव बैंक लिमिटेड में बड़े गोलमाल का राजफाश कोआपरेटिव बैंक ने पूर्व सांसद को पहुंचाया 60 लाख का फायदा

» सजायाफ्ता की फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में ईट से कुचलकर की हत्या

» फर्रुखाबाद मे केंद्रीय मंत्री की सुरक्षा में तैनात दारोगा ने की आत्महत्या, रिवाल्वर से मारी गोली

» जिला फर्रुखाबाद में आंबेडकर प्रतिमा का हाथ तोड़कर माहौल बिगाडऩे की कोशिश, हंगामा

 

नवीन समाचार व लेख

» डायरेक्टर आलोक वर्मा ने लगाए सरकार पर दखलअंदाजी के गंभीर आरोप

» उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश मे ऑनलाइन टेरर फंडिंग से जम्मू-कश्मीर के खातों में भेजे करोड़ों रुपये

» फर्रुखाबाद के संकिसा महोत्सव में बौद्ध और सनातनधर्मियों में जवाबी नारेबाजी

» उत्तर प्रदेश में राम मंदिर के लिए महामंथन

» उप्र उच्चतर शिक्षा सेवा चयन आयोग परीक्षा कराने के अपने ही फैसले से संकट में