यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जनपद हाथरस में सिपाही के रिश्वत मांगने का वीडियो वायरल, एसपी ने किया सस्पेंड


🗒 मंगलवार, जुलाई 31 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

हाथरस में अधिवक्ता के चेंबर में बेझिझक रिश्वत मांगने वाले हेड कांस्टेबल की वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस अधीक्षक ने उसे निलंबित कर दिया है। सीओ सिटी को मामले की जांच सौंपी है। जमानत के कागजात थाने ले जाने व लाने के नाम पर हेड कांस्टेबल ने रिश्वत मांगी थी। रिश्वत न मिलने पर पैरोकार कागज नहीं ले गया। वीडियो बनने के बाद अधिवक्ता ने एसपी से शिकायत की, जिसके बाद यह कार्रवाई की गई।

जनपद हाथरस में सिपाही के रिश्वत मांगने का वीडियो वायरल, एसपी ने किया सस्पेंड

गांव तरफरा के रहने वाले नाजिम पुत्र दीन मोहम्मद के खिलाफ तीन जनवरी 2018 को छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज हुआ था। इस मामले में नाजिम को जेल जाना पड़ा। नाजिम की पैरवी अधिवक्ता राजपाल ¨सह दिशवार कर रहे हैं। हाईकोर्ट से नाजिम की जमानत मंजूर हुई। अधिवक्ता ने एचसी का आदेश एडीजे द्वितीय कोर्ट में दाखिल किया। जमानत के लिए दो जमानतियों की वेरीफिकेशन होनी थी। इसके लिए तहसील व थाने पर कागज जाने थे। तहसील का पैरोकार अलग होता है।

थाने से कोर्ट व कोर्ट से थाने कागज ले जाने के लिए पैरोकार नियुक्त होते हैं। हर थाने पर एक पैरोकार होता है, जिसका काम केवल कागज लाना ले जाना ही होता है। अधिवक्ता के अनुसार कोतवाली सदर के पैरोकार अशोक भारद्वाज ने शनिवार को कागज ले जाने के लिए दीन मोहम्मद से एक हजार रुपये की मांग की। दीन मोहम्मद आर्थिक रूप से कमजोर है। यही नहीं बेटे के मामले में पैरवी करने में उसका घर भी गिरवी रखा है। दीन मोहम्मद ने काफी मिन्नत की, लेकिन पैरोकार नहीं माना।

आरोप है कि पैरोकार अशोक ने यहां तक कहा कि अपने अधिवक्ता से एक हजार रुपये दिलवा दो। दीन मोहम्मद ने जब अधिवक्ता राजपाल ¨सह को यह बात बताई तो उन्होंने पैरोकार को चैंबर में बुलाया। सोमवार को पैरोकार अशोक चेंबर में पहुंचा। यहां अधिवक्ता ने भी रुपये कम करने की गुजारिश की, लेकिन वह नहीं माना। राजपाल ¨सह दिशवार ने बातचीत की पूरी वीडियो बना ली। वीडियो में पैरोकार अशोक साफ कह रहा कि यदि रुपये नहीं मिले तो वह कागज जमा नहीं करेगा।

कागज ले जाकर थाने पर पटक देगा, वापस नहीं लाएगा। इसके बाद बेधड़क रिश्वत मांगते हुए पैरोकार ने अपने तमाम खर्चे गिना दिए। बोला कि सीओ पेशी से थाने व न्यायालय आने-जाने में अपना तेल फूंकना पड़ता है और तमाम खर्चे होते हैं। तीन महीने में उसे पहली बार कोई वेरीफिकेशन मिली है। ऐसे में वह रुपये क्यूं न ले। अधिवक्ता ने आठ मिनट की वीडियो बनाकर एसपी को भेजी तथा वाट्सएप पर ही शिकायत की। वीडियो देखने के बाद एसपी भी अवाक रह गए और उन्होंने तत्काल हेड कांस्टेबल अशोक भारद्वाज को निलंबित करते हुए सीओ सिटी को जांच सौंप दी है।

वीडियो के आधार पर पैरोकार को निलंबित किया गया है। पैरोकार का यही काम होता है। इसके लिए रिश्वत मांगना गंभीर मामला है। सीओ सिटी को जांच दी गई है। जांच के बाद विभागीय कार्रवाई भी की जाएगी। सुशील घुले,एसपी

युवक के पिता की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। कोई भी इस तरह रिश्वत नहीं मांगता। हमारे लिए भी यह हैरानी भरा था। इसलिए वीडियो बनाकर एसपी से शिकायत की गई। एसपी की कार्रवाई प्रशंसनीय है। इससे रिश्वतखोरी पर लगाम लगेगी। -राजपाल सिंह दिशवार, अधिवक्ता व भाजपा नेता

हाथरस से अन्य समाचार व लेख

» जिला हाथरस में भाजपा से चुनाव लड़ सकतीं हैं सारिका सिंह, दस साल बाद हुई घर वापसी

» पत्रकार को दबंगों की दबंगई की वीडियो बनाने पर पत्रकार को जान से मारने की कोशिश

» जिला हाथरस में सर्राफों को ठगने वाली युवती पकड़ी गई

» जिला हाथरस में भूख हड़ताल बैठे लोगों का सब्र टूटा, धनगर समाज का अ‌र्द्घ नग्न प्रदर्शन

» मुरसान कलेक्ट्रेट के पास के गाँव में निकला अजगर

 

नवीन समाचार व लेख

» मथुरा में प्रचार के दौरान अब नहीं मिलते बच्चों को झंडा बिल्ला

» मथुरा के मांट में मतदान से एक घण्टे पूर्व होगा मॉक पोल

» मथुरा के मांट में पुलिस ने किया पैदल मार्च

» मथुरा के मांट में भारतीय स्टेट बैंक ने मनाया होली मिलन समारोह

» मथुरा के बलदेव में एसएसपी ने किया हुरंगा की तैयारियो का निरीक्षण