यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पूर्व केंद्रीय मंत्री रामजीलाल सुमन के खिलाफ भाजपाइयों ने दी तहरीर


🗒 रविवार, दिसंबर 02 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

विवादित बयान देने पर सपा के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व केंद्रीय मंत्री रामजीलाल सुमन के खिलाफ भाजपाइयों ने पुलिस को तहरीर दी है। साथ ही मामला दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है। इसमें सुमन के बयान पर आपत्ति जताई गई है। सुमन ने राजा महेंद्र प्रताप सिंह की जयंती पर शनिवार को मुरसान में आयोजित सभा के दौरान जिन्ना को देशभक्त और वीर सावरकर को गद्दार बताया था। इस पर नाराजगी जताते हुए भाजपाई रविवार को भाजपा नेता कप्तान सिंह ठेंनुआ के नेतृत्व में मुरसान थाने गए और तहरीर दी।

पूर्व केंद्रीय मंत्री रामजीलाल सुमन के खिलाफ भाजपाइयों ने दी तहरीर

भाजपाइयों कहा कि सुमन ने देश के गद्दार को देशभक्त और राष्ट्र भक्त को गद्दार कहा है । इनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाए। इसकी जानकारी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को भी दी जाएगी। बयान का विरोध शनिवार की शाम से ही होने लगा था। सभा दोपहर हुई थी। इसमें सुमन ने पाक संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की एएमयू में तस्वीर लगने का विरोध करने वालों को आड़े हाथ लेते हुए जिन्ना को देशभक्त और वीर सावरकर गद्दार बताया। उन्होंने कहा था कि भाजपाई जिन्ना की तस्वीर का तो विरोध कर रहे हैं, जबकि सावरकर जैसे गद्दार की तस्वीर उन्होंने ही संसद में लगवाई।सुमन ने कहा था कि भाजपाई बंटवारे के इतिहास को नहीं जानते। जिन्ना ने गांधी जी, जवाहर लाल नेहरू, सरदार पटेल के साथ आजादी की लड़ाई लड़ी और जेल तक गए। भाजपा के पूर्वजों का देश की आजादी में कोई योगदान नहीं रहा। जिन वीर सावरकर की वह पूजा करते हैं, वह सावरकर अंडमान निकोबार में अंग्रेजों से माफी मांगकर आए थे। सही मायने में वीर सावरकर देश के गद्दार थे। जिन्ना तो भगत सिंह के वकील भी रहे और उन्हें बचाने के प्रयास किए। जिन्ना की तस्वीर हटाने की बात करने वाले लोग गांधी जी, नेहरू और सरदार पटेल की भी तस्वीर हटवा दें।सुमन ने कहा था कि आजादी की लड़ाई में आरएसएस का भी कोई योगदान नहीं रहा। श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने कोलकाता में कहा था कि हम अंग्रेजों के खिलाफ कोई आंदोलन नहीं करेंगे। भाजपा का न तो कोई आदर्श है न  कोई विचारधारा है। भाजपाई सरदार पटेल को अपना आदर्श बताते हैं, जबकि गृहमंत्री रहते सरदार पटेल ने आरएसएस पर प्रङ्क्षतबंध लगाया था। वह बाबा साहब भीमराव आंबेडकर को आपना आदर्श बताते हैं, जबकि बाबा साहब हमेशा ही संघ की विचारधारा के खिलाफत करते रहे।

हाथरस से अन्य समाचार व लेख

» जिला हाथरस में भाजपा से चुनाव लड़ सकतीं हैं सारिका सिंह, दस साल बाद हुई घर वापसी

» पत्रकार को दबंगों की दबंगई की वीडियो बनाने पर पत्रकार को जान से मारने की कोशिश

» जिला हाथरस में सर्राफों को ठगने वाली युवती पकड़ी गई

» जिला हाथरस में भूख हड़ताल बैठे लोगों का सब्र टूटा, धनगर समाज का अ‌र्द्घ नग्न प्रदर्शन

» मुरसान कलेक्ट्रेट के पास के गाँव में निकला अजगर

 

नवीन समाचार व लेख

» बृज को मांट गांव से जोड़ने वाला हुआ क्षतिग्रस्त,प्रशासन कर रहा किसी बड़े हादसे का इंतजार

» समाज के लिए अनुकरणीय हैं संतों के प्रयास -लक्ष्मीनारायण चौधरी

» बेनतीजा रही महागठबंधन की बैठक, फिर होगा मंथन

» लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की दूसरी सूची जारी राजबब्बर, प्रिया दत्त सहित 21 को टिकट

» कांग्रेस से मेरा कोई संबंध नहीं, मोदी के खिलाफ लड़ूंगा चुनाव: चंद्रशेखर