यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

81 फीसद महिलाएं बिना डॉक्टरी सलाह के लेती हैं गर्भपात की दवा


🗒 सोमवार, दिसंबर 25 2017
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

साल में लगभग एक करोड़ 56 लाख महिलाएं गर्भपात कराती हैं। 75 फीसद महिलाएं बिना डॉक्टरी सलाह के ही दवा का सेवन करती है। यह खुलासा द लांसेट ग्लोबल हेल्थ ने भारत में गर्भपात की स्थिति और सुविधा पर शोध के बाद किया है। शोध में उत्तर प्रदेश सहित देश के कई राज्य शामिल हैं।

81 फीसद महिलाएं बिना डॉक्टरी सलाह के लेती हैं गर्भपात की दवा

शोध में देखा गया कि प्रति एक हजार में से 15 से 49 आयु वर्ग की 47 प्रतिशत महिलाएं गर्भपात कराती हैं। स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. मेनका सिंह कहती हैं कि भारत में महिलाओं को गर्भपात के लिए काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। इसमें सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में गर्भपात की सीमित उपलब्धता भी शामिल है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रशिक्षित कर्मचारियों की कमी और अपर्याप्त आपूर्ति और उपकरण प्राथमिक कारण हैं। अनुमानत: 4.81 करोड़ में से लगभग आधी महिलाएं गर्भधारण के लिए इच्छुक नहीं थीं। हजार में से 70 महिलाएं अनचाहा गर्भधारण करती हैं। इसमें कुछ तो प्रसव तक जाती है, लेकिन 47 महिलाएं अनचाहे गर्भ से छुटकारा पा लेती हैं। अनचाहे गर्भधारण की दर बंग्लादेश 67 और नेपाल 68 के समान है जबकि पाक 93 की दर से बहुत कम है।

 शोधकर्ताओं ने पाया कि 81 फीसद गर्भपात एमएमए (मिफेप्रिस्टोन-मिसोप्रोस्टल) के द्वारा किया जाता है। इनमें 14 प्रतिशत गर्भपात स्वास्थ्य सुविधाओं में शल्य चिकित्सा के लिए किए गए। शेष पांच प्रतिशत, स्वास्थ्य सुविधाओं के बाहर अन्य, आमतौर पर असुरक्षित, विधि का उपयोग किया गया था। शोधकर्ताओं ने कहा कि चार में से तीन महिलाओं ने गर्भपात के लिए एमएमए दवा अनौपचारिक विक्रेताओं से प्राप्त की या किसी जानने वाले से मंगाई।

 विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा-निर्देशों के मुताबिक एमएमए सुरक्षित और प्रभावी दवा है। एक एमएमए आहार जो कि मिसोप्रोस्टोल और मिफेप्रिस्टोन को जोड़ता है, 95 से 98 प्रतिशत प्रभावी है जो नौ सप्ताह की गर्भावस्था की सीमा के भीतर प्रयोग किया जाता है।

ग्रामीण और गरीब महिलाओं के स्वास्थ्य देखभाल के लिए सार्वजनिक क्षेत्र ही मुख्य आधार है। केवल एक-चौथाई सार्वजनिक क्षेत्र यह सुविधा देते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि स्वास्थ्य सुविधाओं में गर्भपात सेवाओं की उपलब्धता और गुणवत्ता में सुधार के लिए कई प्रस्ताव रखे हैं, ताकि प्रशिक्षण और गर्भपात देखभाल प्रदान करने में अधिक डॉक्टर शामिल हों।

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन साइंस मुंबई, पब्लिक काउंसिल न्यूयार्क अमेरिका, गटचर इंस्टीट्यूट न्यूयार्क, एस. कल्यानवाला स्वतंत्र विशेषज्ञों ने 4001 सरकारी, निजी और एनजीओ डीकेटी इंटरनेशनल, मैरी स्टाप्स इंटरनेशनल, परिवार सेवा संस्थान के अलावा आइएमएस हेल्थ से आंकड़े एकत्र करने के बाद यह शोध किया गया।

स्वास्थ सुझाव से अन्य समाचार व लेख

» टीबी का दो साल पहले ही पता लगा लेगी नई जांच

» 10 मिनट में दूर हो जाएगा घुटने और कूल्हे का दर्द

» आपको जवानी में ही बुढ़ापे की ओर धकेल रहा पीने का पानी

» छोटी-छोटी आदतें बदलकर आप भी कम कर सकते वायु प्रदूषण

» वायु प्रदूषण से दमा, फेफड़े, मधुमेह, मस्तिष्क व दिल की बीमारियां बढ़ीं

 

नवीन समाचार व लेख

» कांग्रेस को शक, लोकसभा में 'कोई' कर रहा है निगरानी; स्पीकर से की शिकायत

» 27 को पूर्ण चंद्र ग्रहण, 12 में से सात राशि वालों को कष्ट

» मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे के खिलाफ कानपुर में मुकदमे की अर्जी

» जनपद इटावा में पुलिस ने पूर्व महिला प्रधान को पीटकर निर्वस्त्र किया, बेटी को छत से फेंका

» इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एसपी प्रतापगढ़ को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया