कानपुर मे मृतकों का रिकार्ड न देने पर डॉक्टरों से सपाइयों की बहस

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कानपुर मे मृतकों का रिकार्ड न देने पर डॉक्टरों से सपाइयों की बहस


🗒 रविवार, जून 10 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

जीएसवीएम मेडिकल कालेज के एलएलआर अस्पताल (हैलट) के आइसीयू में एसी बंद होने के बाद हुई मौतों की जांच करने समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव की टीम शनिवार को अस्पताल पहुंची। टीम ने आइसीयू में बुधवार रात से गुरुवार शाम तक मरने वाले मरीजों का रिकार्ड मांगा तो डॉक्टरों ने देने से इंकार कर दिया। इसको लेकर टीम के सदस्यों व डॉक्टरों में बहस हुई।

कानपुर मे मृतकों का रिकार्ड न देने पर डॉक्टरों से सपाइयों की बहस

आइसीयू से मरीजों से मिलकर बाहर आए सपा के एमएलसी डॉ. राजपाल कश्यप, विधायक अमिताभ बाजपेई, इरफान सोलंकी, महानगर अध्यक्ष मो. मुईन एवं ग्रामीण जिलाध्यक्ष राघवेंद्र सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि भाजपा शासनकाल में व्यवस्था खराब हो चुकी है। अफसर मनमानी कर रहे हैं। पांच मरीजों की मौत हो गई। मरने वाले मरीजों के नाम एवं पते बताने के लिए डॉक्टर तैयार नहीं हैं। उनका न कोई रिकार्ड मुहैया कराया जा रहा है, न जानकारी दी जा रही है। सरकार के निर्देश पर पूरे प्रकरण को ही दबाने का प्रयास किया जा रहा है। इस पूरे मामले की रिपोर्ट तैयार कर अध्यक्ष अखिलेश यादव एवं प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम को सौपेंगे।

एलएलआर में इमरजेंसी की एक्सरे मशीन भी खराब : एलएलआर अस्पताल (हैलट) के इमरजेंसी ब्लॉक की सर्जरी यूनिट में एक्सरे मशीन खराब पड़ी है। रात के समय हादसे में घायलों को एक्सरे जांच के लिए इंडोर ब्लाक स्थित रेडियोडायग्नोस्टिक विभाग भेजा जाता है। इससे मरीजों व उनके तीमारदारों को परेशानी होती है।

यह मशीन फरवरी से खराब है। मशीन लगाने वाली कंपनी ने बगैर भुगतान के मरम्मत से इंकार कर दिया था। इस पर 27 मार्च को 1.25 लाख रुपये भुगतान किया गया, फिर भी काम नहीं हुआ। कंपनी ने तीन साल की वारंटी दी है। सात साल तक मरम्मत का अनुबंध भी किया है। बावजूद इसके कंपनी पार्ट न होने की बात कह रही है। इमरजेंसी में अब नई एक्सरे मशीन लगाने का प्रस्ताव भेजा गया है। अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरसी गुप्ता का कहना है कि मशीन का एक्सरे ट्यूब खराब है। कंपनी को कई बार पत्र भेजे गए एवं 50 से अधिक बार फोन किया गया, मगर मरम्मत नहीं की गई।

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर मे जिस प्रेमी के लिये मां से लड़ी, उसी ने दिया धोखा तो युवती ने रेलवे पुल से लगा दी छलांग

» प्रधान मंत्री के स्वच्छता अभियान को मुंह चिढ़ाता स्टेशन का सिटी साइड , अंदर से लेकर गेट न . दो तक़ ठेले ही ठेले ।

» मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. नवनीत कुमार ने हैलट अधिकारियो को दी हिदायत , स्वच्छता और अनुशासन हीनता पर कड़ी कार्यवाही निर्देंश , समय समय पर होगा निरिक्षण

» बढ़ते अपराधों पर काबू पाने के लिये निकाला नायाब तरीका , देर रात्रि सिविल ड्रेस में क्षेत्र में निकलते हैं साइकिल से

» योगी सरकार के दावों की पुलिस उड़ा रही धज्जियां , एसओ खुद दे रहे अतिक्रमण को बढ़ावा लगवा रहे दुकानें

 

नवीन समाचार व लेख

» अब सड़क निर्माण में दोगुनी रफ्तार से काम कर रही है मोदी सरकार

» ओबीसी बिल और एनआरसी पर विपक्ष को चुनौती: अमित शाह

» योगी सरकार के मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने कहा मुगलसराय जंक्शन का नाम बदलने से ट्रेन लेट होना बंद नहीं होगा

» जयगुरुदेव आश्रम में समर्थकों बीच चली गोली

» मदद के बहाने लखनऊ-कानपुर हाईवे पर उड़ा दिया एक करोड़ का सोना