यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कानपुर से रेलवे भर्ती की परीक्षा में सॉल्वर गैंग के सरगना समेत दस गिरफ्तार


🗒 शनिवार, दिसंबर 08 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

रेलवे भर्ती की ग्रुप डी परीक्षा में एसटीएफ ने शनिवार को बड़े सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश किया है। एसटीएफ ने सॉल्वर गैंग के सरगना समेत दस लोगों को शहर के कल्याणपुर क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। शिक्षक पात्रता परीक्षा में मुरादाबाद में सॉल्वर पकड़े जाने के बाद से एसटीएफ गिरोह की धरपकड़ के लिए जुटी थी। एसटीएफ टीम ने मोबाइल फोन, फर्जी वोटर आइडी कार्ड, रेलवे भर्ती के एडमिट कार्ड आदि बरामद किए हैं। 

कानपुर से रेलवे भर्ती की परीक्षा में सॉल्वर गैंग के सरगना समेत दस गिरफ्तार

एसटीएफ के कानपुर परिक्षेत्र प्रभारी घनश्याम यादव के अनुसार मुरादाबाद में टीईटी में सॉल्वर की गिरफ्तारी के बाद कानपुर से गिरोह के तार जुड़े होने के संकेत पर टीम कई दिनों से तलाश में जुटी थी। शनिवार को एसटीएफ टीम ने रेलवे भर्ती ग्रुप-डी की परीक्षा में सॉल्वर बिठाने में जुटे गिरोह के सरगना समेत दस लोगों को पकड़ लिया। एसटीएफ ने सॉल्वर गैंग के सरगना राहुल कुमार पुत्र गणेश निवासी नवाबगंज प्रयागराज, साल्वरों में महेश कुमार यादव पुत्र श्रीप्रसाद निवासी मारोंना सुपौल बिहार, प्रवेश यादव पुत्र रामप्रसाद निवासी मरोंना सुपौल बिहार, सुनील कुमार शाह पुत्र सत्यनारायण निवासी परिकोच मरोंना सुपौल बिहार, ललित कुमार पुत्र उपेंद्र यादव निवासी तुलसियाही सुपौल बिहार, अजय कुमार पुत्र अशोक ताँती निवासी बरी बहारी नालन्दा बिहार, विकास कुमार पुत्र गांधीप्रसाद मालाकार निवासी सिलाव नालन्दा बिहार राज्य को गिरफ्तार कर लिया। 
वहीं भर्ती परीक्षा देने वाले मुकेश कुमार सिंह पुत्र स्व. उमाशंकर निवासी भोरे गोपालगंज बिहार, अजय कुमार यादव पुत्र जयकरन सिंह खिजिरपुर नवाबगंज प्रयागराज व रामबाबू पाल पुत्र शंकरलाल निवासी राजूपुर झूसी प्रयागराज को भी पकड़ा है। टीम ने ग्यारह मोबाइल फोन, 21 एडमिट कार्ड, एक फर्जी वोटर आई कार्ड, पांच ब्लैंक चेक, तीन ड्राइविंग लाइसेंस, एक पेटीएम कार्ड, 19 आधार कार्ड, छह एटीएम कार्ड, तीन पैनकार्ड, एक मोटरसाइकिल, एक स्कूटी तथा 56 हजार रुपये बरामद किए है। 

पकड़े गए सरगन से पूछताछ में समाने आया है कि प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रश्नपत्र आउट कराकर, साल्वर बैठाकर प्रत्येक अभ्यर्थी से पांच से छह लाख रुपये तक वसूलते थे। यह गैंग उत्तर प्रदेश सहित कई अन्य राज्यों में भी अलग-अलग परीक्षाओं में अपने कंडीडेट का पेपर साल्व करवाते थे। सरगना रंजीत यादव व गुड्डू यादव महेंद्रू पोस्टऑफिस पटना में किराए के कमरे में रहते थे। 
रंजीत मूलरूप से जिला मधुबनी बिहार का रहने वाला है। पटना के साइबर कैफे में मनोज व राहुल मिलकर फर्जी प्रवेश पत्र व फोटो बनाने का काम करते हैं। गिरोह के लिए रंजीत, जितेन्द्र व गुड्डू रुपये वसूलने का काम करते थे। परीक्षा के लिए संबंधित राज्य के सरगना के साथ साल्वर को परीक्षा केंद्रों में भेजते थे। निगरानी करने के लिए केंद्र पर मौजूद रहते थे ताकि साल्वर बिना परीक्षा दिए भाग न जाए। ये लोग एक अभ्यार्थी से पांच से छह लाख रुपये तक वसूलते थे।

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ नेता शिव कुमार बेरिया ने कहा अखिलेश ने हमेशा अपमानित किया, जीवित रहते कभी सपा में नहीं जाऊंगा

» कानपुर मे 18 दिसंबर से बिठूर महोत्सव, झलकेंगी विभिन्न प्रांतों की संस्कृतियां

» कानपुर आइआइटी के पास गांव के मार्ग पर उठ रहा था धुंआ, ग्रामीण पहुंचे तो नजारा देख फैली सनसनी

» शिवकुमार बेरिया सपा से छह साल के लिए निष्कासित

» कानपुर मे दिल्ली के 'डेरा गिरोह' के सरगना समेत 11 शातिर टप्पेबाज हत्थे चढ़े

 

नवीन समाचार व लेख

» अब दलितों को लुभाने के लिए भाजपा ने उत्तर प्रदेश में बनाया बड़ा समीकरण

» पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ नेता शिव कुमार बेरिया ने कहा अखिलेश ने हमेशा अपमानित किया, जीवित रहते कभी सपा में नहीं जाऊंगा

» अब स्याना में बड़े बवाल का सीन रीक्रिएट करेगी पुलिस

» कानपुर से रेलवे भर्ती की परीक्षा में सॉल्वर गैंग के सरगना समेत दस गिरफ्तार

» नेताजी जनाक्रोश रैली में आएं या न आएं, फर्क नहीं पड़ता: शिवपाल सिंह यादव