यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब पकड़े जा चुके आतंकी कमरुज्जमा के ठिकाने पर पहुंची एनआइए की टीम, लोगों से की पूछताछ


🗒 शनिवार, मार्च 09 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

पुलवामा में आतंकी हमले के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने बीते वर्षों में गिरफ्तार हुए आतंकवादियों के ठिकानों की पड़ताल एकबार फिर तेज कर दी है। इसी कड़ी में सितंबर 2018 में कानपुर में पकड़े गए हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकवादी कमरुज्जमा उर्फ डॉ. हुरैरा के रहने वाली जगह पर शनिवार को एनआइए की टीम ने पड़ताल की। आसपास रहने वाले लोगों से पूछताछ शुरू की, टीम के साथ एक संदिग्ध युवक था, जिसकी पहचान लोगों से कराने का भी प्रयास किया। साथ ही टीम के शहर के अन्य कुछ जगहों पर भी जाने की जानकारी मिल रही है।

अब पकड़े जा चुके आतंकी कमरुज्जमा के ठिकाने पर पहुंची एनआइए की टीम, लोगों से की पूछताछ

हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकवादी कमरुज्जमा उर्फ डॉ. हुरैरा शहर के चकेरी स्थित मकान में किराये पर रहता था। उसकी गतिविधियां संदिग्ध होने के साथ कमरे पर आने वाले भी संदिग्ध थे। बीते वर्ष सितंबर माह में एटीएस और कानपुर नगर पुलिस ने चकेरी थानाक्षेत्र के एक मकान से उसे गिरफ्तार किया था।मूलरूप से असम का रहने वाला हुरैरा 2008 से 2012 तक फिलीपींस के पास पलाउ गणराज्य में भी रहा था। एक बेटे के पिता हुरैरा की शादी 2013 में असम में ही हुई थी। एटीएस ने उसकी गिरफ्तारी के बाद खुलासा किया था कि वह गणेश चतुर्थी पर कानपुर में बड़ा धमाका करने की जुगत में था। इसके बाद असम से उसके साथी शाहनवाज को गिरफ्तार किया था। इसी ने कमरुज्जमा को कानपुर में स्मार्ट फोन के साथ सिम कार्ड भी उपलब्ध कराया था।आतंकी कमरुज्जमा को सात दिनों तक रिमांड पर लेकर एटीएस ने पूछताछ की थी। यह आतंकवादी कश्मीर से कब कानपुर आकर छिपा था और उसके और कौन साथी रहे, इसकी जानकारी जुटाने में सुरक्षा एजेंसियां जुटी थीं। दो साथियों को असम पुलिस ने मेघालय बॉर्डर से गिरफ्तार किया था, इनमें शोदोल आलम और उमर फारुख थे। फारुख ने आतंकी कमरुज्जमा को मेघालय में मकान किराए पर दिलवाया था। वहीं शोदोल आलम एके-47 हथियार मुहया करने की कोशिश कर रहा था।बीते दिनों पुलवामा में आतंकी हमले के बाद सुरक्षा एजेंसियां अब देश के अलग अलग स्थानों से पूर्व में पकड़े गए आतंकवादियों से जुड़ी हर छोटी बड़ी जानकारी जुटाने में लगी हैं। पकड़े गए आतंकवादियों से कौन कौन मिलता था और वह कहां कहां पर जाता था। इसकी जानकारी के आधार पर पूछताछ शुरू की है। शनिवार को एनआइए की टीम शहर के चकेरी स्थित उसी मकान में पहुंची, जहां से आतंकी कंजरुज्जमा को गिरफ्तार किया गया था। टीम ने मकान में रहने वालों और आसपास के लोगों से गहन पूछताछ की और उस कमरे में पड़ताल की। टीम ने घर व कमरे की वीडियोग्राफी भी की। टीम के साथ एक संदिग्ध भी था, जिसकी पहचान मकान में रह रहे लोगों से कराने का प्रयास किया। लोगों ने कहा कि वह कमरुज्जमा जैसा नहीं था। जानकारी है कि अभी टीम शहर के अन्य कुछ जगहों पर भी जाकर पड़ताल कर सकती है।

कानपुर से अन्य समाचार व लेख

» कानपुर बर्रा बाईपास के पास पेट्रोल पंप पर खड़े चार ट्रकों में लगी भीषण आग, एक घंटे तक दहशत में रहे लोग

» कानपुर मे पीएम मोदी ने कहा सिरफिरे लोगों ने कश्मीरी भाइयों के साथ हरकत की, सरकार ने कार्रवाई की

» कानपुर में सीएम योगी ने पीएम मोदी के दौरे की तैयारियां परखीं, रैली स्थल पर ही मीटिंग

» इटावा-कानपुर हाईवे पर ईवीएम हटाने की मांग लेकर हाईवे पर जाम, पथराव करते लोगों पर चलीं पुलिस की लाठियां

» कांग्रेस किसानों की कर्ज माफी के नाम पर कर रही है राजनीति : केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर बर्रा बाईपास के पास पेट्रोल पंप पर खड़े चार ट्रकों में लगी भीषण आग, एक घंटे तक दहशत में रहे लोग

» जिला चित्रकूट के मऊ थाने से कुछ दूर दिनदहाड़े टेंपो चालक की गोली मारकर हत्या

» मेरठ के सोना लूट कांड में मुख्य आरोपित समेत तीन लुटेरे गिरफ्तार

» जिला वाराणसी में रोडवेज बस में लगी आग, क्षेत्र में हड़कंप, कडी मशक्‍कत के बाद बुझी आग

» ईशान का मनाया गया जन्मदिन छोटे मोटे पतले दोस्त रहे मौजूद