यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पश्चिमी विक्षोभ का असर खत्म अब साफ रहेगा उत्तर प्रदेश का मौसम


🗒 मंगलवार, फरवरी 13 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 पश्चिमी विक्षोभ का असर अब खत्म हो गया है। इससे मौसम साफ हो जाएगा। बादल और बूंदाबांदी वाली ठंड कम हो जाएगी। बुधवार सुबह के समय हल्का कोहरा और पूर्वाह्न तक हल्की बदली भी छा सकती है लेकिन मध्याह्न बाद मौसम साफ हो जाएगा। इसी के साथ ठंड की विदाई के संकेत आने लगे हैं। इस बीच कुछ जुलों को छोड़कर ज्यादातर जिलों में हल्की बारिश का खेती पर कोई खास दुष्प्रभाव नहीं पड़ा। हवा की रफ्तार कम रहने की वजह से फसलों को नुकसान नहीं हुआ।

पश्चिमी विक्षोभ का असर खत्म अब साफ रहेगा उत्तर प्रदेश का मौसम

गौरतलब है कि शुक्रवार-शनिवार को पहाड़ी इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ विकसित हुआ था। इसी वजह से सोमवार की रात को हल्की बारिश हुई थी। आसपास के जिलों में ओलावृष्टि भी हुई, लेकिन गनीमत रही कि यहां न तो तेज बारिश हुई और न ही ओलावृष्टि हुई। इसी वजह से फसलें सुरक्षित रहीं। ओलावृष्टि अथवा तेज बारिश होने पर फसलों को नुकसान पहुंच सकता था। मंगलवार को बादलों और सूर्य के बीच आंख-मिचौली चलती रही, लेकिन वातावरण में ठंड लगभग नदारद रही। अब बुधवार से तापमान में और इजाफा होगा। मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ का असर अब खत्म हो गया है। बुधवार को सुबह हल्का कोहरा अवश्य रह सकता है, लेकिन मध्याह्न से आसमान साफ हो जाएगा। अच्छी धूप भी रहने की संभावना है। 

मंगलवार को मौसम के बदले मिजाज और पुरवा हवा के प्रभाव से कई जिलों में बरसात हो गई। इससे जाती ठंड लौटती सी महसूस हुई। गेहूं की फसल पानी पाकर खिलखिला उठी। हालांकि कुछ क्षेत्रों में सरसों व आलू की फसल को थोड़ा नुकसान भी हुआ है। सोमवार को सुबह मौसम सामान्य था। दोपहर में कुछ बादल दिखे। हवा सर्द होकर बूंदाबांदी हुई और कुछ समय बाद रुक गई। साथ ही तेज हवा भी चली। प्रतापगढ़ के सनई अनुसंधान केंद्र के मुताबिक हवा बहुत तेज नहीं थी। लगभग पांच किमी प्रति घंटा की गति से हवा चली थी। अगर यह तेज होती तो फसलों को भारी नुकसान होता। मौसम के अचानक बदले तेवरों से कुछ इलाकों के किसान आहत हैं। इसमें जालौन महोबा और प्रतापगढ़ समेत कई जिले शामिल हैं। इस क्षेत्र में सरसों के कई किसान हैं। ओले व बरसात से माहू रोग का खतरा बढ़ गया है। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य से मिलने पहुंचे ब्रज और गोरक्षा बेल्ट के कांग्रेसी

» बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय के शिक्षक छात्रों ने फूंका डीएम और एसपी का पुतला

» लखनऊ मे हत्या कर नहर में फेंका युवती का शव, दुष्कर्म की आशंका

» राजधानी लखनऊ मे बिस्‍तर में था खून से लथपथ पति का शव, रातभर बगल में लेटी रही पत्‍नी

» आलमबाग बस टर्मिनल पर विकास अधिकारी ने नशे की हालत में परिचालक पर ताना लाइसेन्सी असलहा

 

नवीन समाचार व लेख

» अगस्ता वेस्टलैंड मामले में आरोपित क्रिश्चियन मिशेल की जमानत पर फैसला सुरक्षित

» रॉबर्ट वाड्रा से ईडी के अधिकारियों ने करीब नौ घंटे तक दागे सवाल

» फर्रुखाबाद न्यायालय में राहुल गांधी और प्रियंका के खिलाफ परिवाद दर्ज

» प्रयागराज मे गंगा स्नान करने गए दो युवक डूबे, एक का शव मिला

» प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य से मिलने पहुंचे ब्रज और गोरक्षा बेल्ट के कांग्रेसी