यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

BJP विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को आज उन्नाव लेकर जाएगी सीबीआई की टीम


🗒 रविवार, अप्रैल 15 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 सामूहिक दुष्कर्म तथा पीडि़ता के पिता की हत्या के मामले में कोर्ट से 28 अप्रैल तक न्यायिक अभिरक्षा मिलने के बाद अब सीबीआई भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को लेकर आज उन्नाव जाएगी। उन्नाव में आज सीबीआई की टीम सेंगर का इस प्रकरण के गवाहों का आमना-सामना कराएगी।

BJP विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को आज उन्नाव लेकर जाएगी सीबीआई की टीम

उन्नाव के बांगरमऊ से भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को लेकर सीबीआई की टीम आज उन्नाव जाएगी। टीम वहां पर इस घटना से जुड़े कई अहम सबूतों को एकत्र करेगी। वहां पर सीबीआई की टीम कुछ गवाहों से भी मौके पर पूछताछ कर सकती है।

सीबीआई की टीम ने कल आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को लखनऊ में सीबीआई कोर्ट में पेश किया था। जहां से आरोपी विधायक को सात दिन की हिरासत में सीबीआई को सौंप दिया गया। अब कोर्ट ने सेंगर को 21 अप्रैल को पेश करने को कहा है। सीबीआई ने कल ही इस मामले में कुलदीप सिंह सेंगर की करीबी मानी जाने वाली महिला शशि सिंह को उन्नाव में उसके गांव माखी से गिरफ्तार किया था। शशि सिंह भी इस केस में कुलदीप सिंह सेंगर के साथ नामजद है। शशि सिंह पर घटना के दिन पीडि़ता को भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के पास ले जाने का आरोप है। अब सीबीआई की टीम महिला और आरोपी विधायक को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ कर सकती है।

उन्नाव दुष्कर्म प्रकरण में गिरफ्तार बांगरमऊ के भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को कोर्ट ने 28 अप्रैल तक न्यायिक अभिरक्षा में लेने के बाद उनकी सात दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड मंजूर कर दी। शनिवार को सीबीआइ ने रिमांड मजिस्ट्रेट सुनील कुमार के समक्ष विधायक कुलदीप सेंगर को पेश किया और रिमांड अर्जी लगाई। रिमांड मजिस्ट्रेट सुनील कुमार ने आदेश में कहा कि पुलिस रिमांड की अवधि शनिवार 14 अप्रैल को सायं छह बजे से 21 अप्रैल को प्रात: दस बजे तक प्रभावी होगी। अदालत में आरोपित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को जांच अधिकारी आरआर त्रिपाठी ने पेश किया।

विधायक की ओर से अधिवक्ता सत्येन्द्र सिंह ने प्रार्थना पत्र प्रस्तुत कर न्यायिक रिमांड अस्वीकृत किए जाने का अनुरोध किया। बचाव पक्ष का तर्क था कि जिस समय की यह घटना बताई जा रही है, उस समय अभियुक्त दिल्ली में मौजूद था। अर्जी का विरोध करते हुए अभियोजन की ओर से सीबीआइ के वकील विनीत कुमार का तर्क था कि जांच अधिकारी ने पीडि़ता, उसकी मां एवं अन्य साथियों का बयान दर्ज किया है। मामले की जांच चल रही है एवं साक्ष्य एकत्रित किए जा रहे हैं। ऐसी स्थिति में बचाव पक्ष का प्रार्थना पत्र स्वीकार करने योग्य नहीं है। अदालत ने बचाव पक्ष के प्रार्थना पत्र को निरस्त कर दिया।

सीबीआइ ने रिमांड अर्जी में कहा कि आरोपी बांगरमऊ जिला उन्नाव का बाहुबली विधायक है तथा प्रभावशाली होने के कारण मौखिक एवं दस्तावेजी साक्ष्य से छेड़छाड़ कर सकता है। यह भी कहा गया कि प्रकरण की इस रिपोर्ट याचिकाकर्ता आशा सिंह ने 13 अप्रैल को पुन: दर्ज कराई गई है जिसके बाद आरोपित को गिरफ्तार किया गया है। यह भी कहा कि इस प्रकरण के गवाहों का आरोपी से आमना-सामना कराकर सच्चाई का पता किया जाना है तथा कई और साक्ष्य एकत्रित करने हैं।

अदालत ने पुलिस रिमांड अर्जी को स्वीकार करते हुए कहा कि इस दौरान प्रति दिन प्रात: 10 बजे एवं शाम छह बजे आरोपित अपने अधिवक्ता से 15 मिनट के लिए मिलकर विधिक राय ले सकता है। सीबीआइ की ओर से स्पष्ट किया गया कि अभियुक्त की गिरफ्तारी अपहरण, दुराचार एवं पाक्सो एक्ट के अंतर्गत की गई है।

बुधवार आधी रात तक राजधानी की सड़कों पर घूमकर अपने बाहुबल का प्रदर्शन कर रहे विधायक सेंगर जब वह सीबीआइ कोर्ट पहुंचे तो कार से उतरते हुए बोले कि मुझे भगवान पर भरोसा है। मुझे न्यायपालिका पर भरोसा है। मैं निर्दोष हूं।

विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और दुष्कर्म पीडि़ता का कल मेडिकल टेस्ट हुआ। सीबीआइ टीम ने लखनऊ के गोमतीनगर स्थित डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में दोनों का अलग-अलग समय टेस्ट कराया। विधायक को गुपचुप तरीके से बीती रात करीब 2:30 बजे मेडिकल कराने अस्पताल लेकर आई। करीब 15 मिनट जांच चली। इसमें ब्लड प्रेशर, पल्स रेट जांची गई। पीडि़ता को उन्नाव से लेकर सीबीआइ दोपहर 11:30 बजे मेडिकल कराने लोहिया अस्पताल पहुंची। मेडिकल होने में करीब ढाई घंटे का समय लगा। मेडिकल कराने पीडि़ता के साथ उसके चाचा, भाई और भाभी भी आईं।

सीबीआई ने उन्नाव दुष्कर्म प्रकरण में गिरफ्तार विधायक सेंगर की सहयोगी महिला शशि सिंह को भी शनिवार को लखनऊ के बाहर से गिरफ्तार कर लिया। दोपहर बाद एक सूचना के आधार पर उन्हें गिरफ्तार किया गया। उससे पूछताछ की जा रही है। शशि सिंह को रविवार को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया जाएगा। इसके साथ ही उन्नाव में निलंबित किए गए पुलिसकर्मियों से भी सीबीआइ पूछताछ कर रही है।दुष्कर्म और मर्डर मिस्ट्री की तहकीकात के लिए सीबीआइ की टीम शनिवार को फिर माखी गांव पहुंची। टीम ने पहले माखी थाने में मामले से जुड़े अभिलेख कब्जे में लिए फिर स्थानीय पुलिस के साथ गांव जाकर ग्र्रामीणों से पूछताछ की। इस दौरान विधायक के खिलाफ कोई मुंह खोलने को तैयार नहीं हुआ लेकिन, टीम ने सवालों में घेरकर ग्रामीणों से जानकारियां जुटाईं। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» 467 लाख रुपये के अवैध निर्माण अखिलेश यादव के बंगले में

» अब PM आवास योजना के मकानों में अनिवार्य हो रेन वॉटर हार्वेस्टिंग

» UP सरकार प्राथमिकताओं वाली योजनाओं के लिए अनुपूरक बजट लाएगी

» आगरा और इलाहाबाद रेंज के आइजी हटाए गए और 15 आइपीएस अधिकारियों के तबादले

» यूपीसीबी निदेशकों के निर्विरोध निर्वाचन का रास्ता साफ