यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

योगी आदित्यनाथ ने हरदोई पेट्रोल पंप प्रकरण की जांच मुख्य सचिव राजीव कुमार को सौंपी


🗒 शुक्रवार, जून 08 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हरदोई पेट्रोल पंप प्रकरण का संज्ञान लेकर जांच मुख्य सचिव राजीव कुमार को जिम्मेदारी सौंप दी है। उल्लेखनीय है कि गुरुवार को इस मामले में मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव एसपी गोयल पर रिश्वत मांगने के आरोप सार्वजनिक हुए थे। भाजपा ने शिकायतकर्ता अभिषेक गुप्ता पर पार्टी की छवि खराब करने का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराया था। इस तहरीर के आधार पर शुक्रवार सुबह पुलिस ने गुप्ता को हिरासत में ले लिया गया है। 

योगी आदित्यनाथ ने हरदोई पेट्रोल पंप प्रकरण की जांच मुख्य सचिव राजीव कुमार को सौंपी

राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्य सचिव राजीव कुमार को अभिषेक गुप्ता के हरदोई में एक पेट्रोल पंप की स्थापना संबंधी प्रकरण की तथ्यात्मक स्थिति से अवगत कराने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री के संज्ञान लेने के साथ ही मामला पेचीदा हो गया है। अभिषेक गुप्ता ने ई-मेल से 18 अप्रैल को राज्यपाल को शिकायत भेजी कि हरदोई की संडीला तहसील के रैसो में एस्सार ऑयल लिमिटेड द्वारा स्वीकृत पेट्रोल पंप स्थापित किया जाना है लेकिन पेट्रोल पंप के मुख्य मार्ग की चौड़ाई कम होने से आवश्यक भूमि उपलब्ध कराने के लिए उनका आवेदन प्रमुख सचिव, मुख्यमंत्री स्तर पर लंबित है। राज्यपाल द्वारा 30 अप्रैल को मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा गया कि पेट्रोल पंप के मुख्य मार्ग की चौड़ाई बढ़ाने के लिए भूमि उपलब्ध कराने को प्रमुख सचिव एसपी गोयल 25 लाख रुपये रिश्वत मांग कर रहे हैं। यही पत्र गुरुवार को सार्वजनिक हो गया

सरकार की ओर से बताया गया कि अभिषेक गुप्ता अपनी जमीन पर पेट्रोल पंप लेना चाहते थे, लेकिन उसका फ्रंट मानक के अनुसार नहीं था। इस जमीन के आगे ग्राम सभा की जमीन है और मानक पूरा करने के लिए अभिषेक ने ग्राम सभा की जमीन के एक्सचेंज का प्रस्ताव रखा। अधिकारियों ने नियम का हवाला दिया कि सरकारी जमीन का एक्सचेंज सार्वजनिक हित के कार्यों के लिए ही हो सकता है जबकि पेट्रोल पंप निजी व्यवसाय के दायरे में आता है। इसी आधार पर अभिषेक का प्रस्ताव मान्य नहीं हुआ। इसके बाद अभिषेक गुप्ता ने मुख्यमंत्री के विशेष सचिव को भाजपा संगठन के एक प्रमुख नेता का हवाला देते हुए फोन किया और दबाव बनाने की कोशिश की। सफलता न मिलने पर अभिषेक गुप्ता ने एसपी गोयल पर रिश्वत मांगने का गलत आरोप मढ़ दिया। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» UP के आठ प्रमुख शहरों को हवाई मार्ग से जोडऩे की तैयारी

» सांसद अमर सिंह की राय, RSS से सीखें राजनीतिक दल

» गोरखपुर जेल से यूक्रेन की मॉडल डारिया मोलचन जमानत मिलने के बाद रिहा

» अखिलेश यादव ने कहा CM योगी आदित्यनाथ के प्रमुख सचिव का घूस मांगने का प्रकरण दुखद, CBI जांच हो

» लखनऊ पुलिस हिरासत में प्रमुख सचिव CM पर घूस मांगने का आरोप लगाने वाला अभिषेक गुप्ता

 

नवीन समाचार व लेख

» UP के आठ प्रमुख शहरों को हवाई मार्ग से जोडऩे की तैयारी

» आगरा सर्किट हाउस में BJP विधायक बृजभूषण पर मारपीट का आरोप, विधायक ने नकारा

» योगी आदित्यनाथ ने हरदोई पेट्रोल पंप प्रकरण की जांच मुख्य सचिव राजीव कुमार को सौंपी

» सांसद अमर सिंह की राय, RSS से सीखें राजनीतिक दल

» स्लग तेज रफ्तार वाहन का कहेर पिता पुत्र की हुई घटना स्थल पर ही मौत ।