यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उत्तर प्रदेश मे में 25 करोड़ तक बढ़ी लागत को विभाग खुद दे सकेंगे मंजूरी


🗒 मंगलवार, जून 12 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

उत्तर प्रदेश सरकार विकास के किसी भी काम में कोई बाधा नहीं चाहती। इसका संकेत सरकार ने आज कैबिनेट मीटिंग में दिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अध्यक्षता में आज कैबिनेट बैठक में सरकार की योजनाओं के त्वरित क्रियान्वयन में आने वाली अड़चनों को दूर करने की गरज से परियोजनाओं की पुनरीक्षित लागत के प्रस्तावों के मूल्यांकन की व्यवस्था में संशोधन किया है।

उत्तर प्रदेश मे  में 25 करोड़ तक बढ़ी लागत को विभाग खुद दे सकेंगे मंजूरी

कैबिनेट बैठक में इस प्रस्ताव पर मुहर लगी है। पहले परियोजना की लागत में 50 प्रतिशत से अधिक वृद्धि होने पर अत्यंत कम धनराशि के प्रस्ताव भी व्यय वित्त समिति को भेजे जाते थे लेकिन, सरकार ने तय किया है कि 25 करोड़ रुपये तक की पुनरीक्षित लागत के प्रस्ताव को प्रशासकीय विभाग खुद मंजूरी दे सकेंगे। इससे अधिक के प्रस्तावों का परीक्षण ही व्यय वित्त समिति को भेजा जाएगा।

लोकभवन में आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में संपन्न हुई कैबिनेट की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई। इसके समेत कुल सात फैसले किये गए। राज्य सरकार के प्रवक्ता के मुताबिक प्रमुख सचिव वित्त की अध्यक्षता में व्यय वित्त समिति गठित है। परियोजनाओं की लागत में 50 प्रतिशत से अधिक वृद्धि होने पर ऐसे सभी पुनरीक्षित प्रस्ताव व्यय वित्त समिति के पास भेजे जाने की वजह से योजनाओं में विलंब होने के साथ-साथ जनशक्ति पर भी बोझ पड़ता है। कैबिनेट ने इस संशोधन प्रस्ताव को मंजूर किया है।

नई व्यवस्था के तहत पांच करोड़ रुपये तक के पुनरीक्षित लागत के प्रस्तावों का परीक्षण प्रशासकीय विभाग करेगा। जिन विभागों में मुख्य अभियंता तैनात हैं, वह विभाग पांच करोड़ रुपये से अधिक और 25 करोड़ रुपये तक की पुनरीक्षित लागत के प्रस्तावों का परीक्षण कर सकेंगे। जिन विभागों में मुख्य अभियंता तैनाती नहीं हैं, उनमें पांच करोड़ रुपये से अधिक और 25 करोड़ रुपये तक की पुनरीक्षित लागत के प्रस्तावों का परीक्षण नियोजन विभाग के अधीन गठित प्रायोजना मूल्यांकन एवं रचना प्रभाग (पीएफएडी) और प्रशासकीय विभाग करेंगे। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» अब लविप्रा नहीं मानेगा पूर्व उपाध्यक्ष के बेटे की पॉवर ऑफ अटार्नी

» योगी सरकार सपा-बसपा को आरक्षण के हथियार से ही मात देने में जुटी

» अखिलेश यादव को अमर सिंह ने बताया घटिया व बेहूदा, कहा हिसाब दें, बंगला कैसे बनाया

» कैबिनेट बैठक आज, रामदेव के मेगा फूड पार्क समेत कई प्रस्तावों को मिलेगी मंजूरी

» अाधुनिक आलमबाग बस टर्मिनल जनता को सौंपा, मुख्यमंत्री योगी ने

 

नवीन समाचार व लेख

» रायबरेली जिले के लालगंज कस्बे में श्रद्धालुओं ने किया प्रसाद वितरण

» महोबा मे धर्म परिवर्तन को लेकर आए दिन आ रहे मामले, धर्म परिवर्तन के मामले में हो सख्त कार्रवाई

» रायबरेली डीएम व एसपी ने परशदेपुर व नसीराबाद के ईदगाह का किया निरीक्षण

» रायबरेली मे वृद्ध ने दीवाल गिराये जाने की एसडीएम से की शिकायत

» रायबरेली सदर विधायक ने भंडारे में बांटा प्रसाद