यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब नार्मल डिलीवरी के लिए गर्भवती को मिलेगी लेबर रूम में अपनों को साथ ले जाने की सुविधा


🗒 गुरुवार, जून 21 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

कहा जाता है कि बच्चे को जन्म देने के बाद नारी का दूसरा जन्म होता है। डिलीवरी के समय गर्भवतियों को असहनीय पीड़ा का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर लेबर रूम में उनके साथ अपने लोग मौजूद रहें तो यह पीड़ा आधी हो जाती है। विदेश की तर्ज पर प्रदेश के महिला अस्पतालों में भी गर्भवतियों को डिलीवरी के समय महिला बर्थ कम्पेनियन को अपने साथ ले जाने की सुविधा मिलेगी। विशेषज्ञों का दावा है कि इस तरह की सुविधा शुरू होने से नार्मल डिलीवरी को भी बढ़ावा मिलेगा। 

अब नार्मल डिलीवरी के लिए गर्भवती को मिलेगी लेबर रूम में अपनों को साथ ले जाने की सुविधा

एनएचएम की ओर से इंस्टीट्यूशनल डिलीवरी को बढ़ावा देने के लिए बर्थ कम्पेनियन की शुरुआत की जा रही है। इसमें गर्भवतियों को लेबर रूम में सौहाद्र्रपूर्ण व्यवहार देने के लिए उनके साथ एक महिला रिश्तेदार को अंदर जाने की अनुमति दी जाएगी। इसमें यह देखा जाएगा कि महिला रिश्तेदार शादीशुदा हो और उसका बच्चा भी हो। वहीं अगर किसी गर्भवती के साथ कोई भी महिला रिश्तेदार न हो तो ऐसी स्थिति में महिला का पति भी लेबर रूम में जा सकता है। 

क्वीन मेरी अस्पताल की स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ प्रो.रेखा सचान ने बताया कि बर्थ कम्पेनियन एक पुराना कांसेप्ट है जो अमेरिका में काफी समय से चल रहा है। प्रसव के समय लेबर रूम में किसी महिला अटेंडेंट के रहने से गर्भवतियों को काफी भावनात्मक सहारा मिलता है। रिश्तेदार के साथ एक अच्छा तालमेल होता है। वहीं नॉर्मल डिलीवरी में जब दर्द उठता है तो ऐसे में घर का कोई रिश्तेदार अगर महिला को हिम्मत दे तो उसे काफी सहारा मिलता है।

डब्ल्यूएचओ ने की 2002 में शुरुआत

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने वर्ष 2002 में ही बर्थ कम्पेनियन को मातृ एवं शिशु के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए बहुत जरूरी माना था।

क्वीन मेरी अस्पताल में है सुविधा

राजधानी के लास्ट रेफरल सेंटर क्वीन मेरी अस्पताल में बर्थ कम्पेनियन की सुविधा वीआइपी लेबर रूम थ्री में है।

जारी की गई सूचना

एसीएमओ डॉ. अजय राजा ने बताया कि बर्थ कम्पेनियन का शासनादेश सारे जिला अस्पताल और सीएचसी और बाल महिला चिकित्सालयों में जारी कर दिया गया है। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» मथुरा में फर्जी शिक्षकों की भर्ती के मामले में निलंबित बीएसए सहित अन्य से पूछताछ

» एटीएस ने आतंकी फंडिंग नेटवर्क के मास्टर माइंड रमेश शाह को गिरफ्तार किया अब उठेगा टेरर फंडिंग नेटवर्क से परदा

» लखनऊ पुलिस का दावा, व्यापारी ने ही करवाया था खुद पर हमला

» फिर राज बब्बर ने गठित की प्रदेश कांग्रेस कमेटी की चार सदस्यीय कमेटी

» योग को मिल चुका 46 इस्लामिक देशों का समर्थन

 

नवीन समाचार व लेख

» मथुरा में फर्जी शिक्षकों की भर्ती के मामले में निलंबित बीएसए सहित अन्य से पूछताछ

» जनपद चित्रकूट में भीषण बिजली संकट को लेकर नारेबाजी, हंगामा और सड़क जाम

» दुर्घटना बाहुल्य क्षेत्रों में सुरक्षात्मक साईन बोर्ड स्थापित न करने पर होगी कार्रवाई: डीएम

» बहराइच  मे 24 जून को प्रस्तावित सामूहिक विवाह कार्यक्रम स्थगित

» डी एम ने दिया कड़े निर्देश - गुणवत्ताविहीन परियोजनाओं से सम्बन्धित ठेकेदारों को ब्लैक लिस्टेड किया जाय