यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब महिला कल्याण विभाग में सेक्शन ऑफिसर का नियुक्ति पत्र फर्जी निकला, मुकदमा दर्ज


🗒 बुधवार, जुलाई 11 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

महिला कल्याण विभाग में फर्जी नियुक्ति पत्र पकड़ में आए हैं। जालसाजों ने दो युवाओं को सहायक प्रबंधक एवं सेक्शन ऑफिसर पद का फर्जी नियुक्ति पत्र जारी कर दिया। विभाग के अफसरों को इसकी जानकारी तब हुई जब इन अभ्यर्थियों को पदभार ग्रहण कराने के लिए एक प्लेसमेंट एजेंसी संचालक का फोन आया। नियुक्ति पत्र देखते ही विभाग के अफसर समझ गए। अफसरों ने इस मामले की एफआइआर दर्ज करा दी है। 

अब महिला कल्याण विभाग में सेक्शन ऑफिसर का नियुक्ति पत्र फर्जी निकला, मुकदमा दर्ज

महिला कल्याण विभाग के लखनऊ मंडल के उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारी सर्वेश कुमार पाण्डेय के पास मंगलवार रात प्लेसमेंट एजेंसी चलाने वाले रोहित गुप्ता ने फोन किया। उसने कहा कि उनके यहां के दो युवाओं राघवेन्द्र सिंह पुत्र छत्रपाल सिंह व योगेश कुमार पुत्र हर प्रसाद का चयन सहायक प्रबंधक एवं सेक्शन ऑफिसर पद पर हुआ है। अफसर ने रोहित से वाट्सएप पर नियुक्ति से संबंधित पत्रों को भेजने के लिए कहा। इस पर उसने दोनों के नियुक्ति पत्र व इसके साथ शपथ पत्र सहित कई अन्य प्रपत्र भेज दिए। 

नियुक्ति पत्र कार्यालय महिला एवं बाल विकास विभाग उत्तर प्रदेश लखनऊ मंडल, संबंधित कार्यालय महिला जन कल्याण निगम 4/43 विभूति खंड गोमतीनगर के पते से जारी किया गया है। इसमें प्रदेश सरकार का राजकीय चिह्न भी मुद्रित है। नियुक्ति पत्र देखते हुए सर्वेश कुमार पाण्डेय को मामला समझने में देर न लगी। उन्होंने इस नियुक्ति पत्र को निदेशक महिला कल्याण से लेकर अपर मुख्य सचिव तक को भेज दिया। अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार ने मामले को गंभीर मानते हुए इसकी प्राथमिकी दर्ज कराने के निर्देश दिए। इस पर सर्वेश व जिला प्रोबेशन अधिकारी सुधाकर शरण पाण्डेय ने लखनऊ के कैसरबाग कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है।सर्वेश कुमार पाण्डेय ने बताया कि प्लेसमेंट एजेंसी चलाने वाले रोहित गुप्ता ने बताया कि उससे लखनऊ के दो व्यक्तियों ने महिला कल्याण विभाग में नियुक्ति कराने के नाम पर दो-दो लाख रुपये लिए थे। इसके बाद उन्नाव के राघवेन्द्र सिंह व झांसी के योगेश कुमार का नियुक्ति पत्र उन लोगों ने भेज दिया था। इसके फर्जी होने की जानकारी उन्हें नहीं थी।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आतंकियों का मुकदमा वापस लेना भी राष्ट्रद्रोह से कम नहीं

» 28 अक्टूबर को यूपी टीईटी की समय सारिणी में शिक्षक पात्रता परीक्षा 2018

» शिवपाल का सेक्युलर मोर्चा दांव समाजवादी पार्टी को नश्तर की तरह चुभेगा

» विधानसभा में अनुपूरक बजट पारित, सपा ने बजट किसान-युवा विरोधी बताया

» अब लाखों लोग शिवपाल के साथ 29 माह पहले ही मुखर होने लगे थे अलगाव के स्वर

 

नवीन समाचार व लेख

» फर्रुखाबाद के कायमगंज मे जबरन शादी से नाखुश युवती ने पेड़ पर गुजारी रात

» उन्नाव मे सीओ की पिटाई से आहत भाजपा कार्यकर्ता ने खाया जहर

» मैनपुरी में पुलिस ने मुठभेड़ के बाद किया नकली शराब बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश, हरियाणा से लाया जाता था केमिकल

» इलाहाबाद की नैनी सेंट्रल जेल से आजीवन कारावास की सजा काट रहा कैदी भागा

» अब रेलवे प्रेस बंद होने से टिकटों की छपाई पर संकट, खत्म हो सकते हैं जनरल टिकट