यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

राजधानी स्थित बलरामपुर अस्पताल में 25 दिन तक चले जटिल ऑपरेशन के बाद युवक को मिली नई जिंदगी


🗒 गुरुवार, जुलाई 19 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

राजधानी स्थित बलरामपुर अस्पताल में एक 30 वर्षीय युवक को नई जिंदगी दी गई। दुर्घटना का शिकार हुए युवक की टूटी छह पसलिया, सिर में चोट व कोहनी की हड्डी में दस टुकड़े हो गए थे। केजीएमयू में समय से इलाज न मिलने पर उसे बलरामपुर लाया गया। डॉक्टरों ने जटिल ऑपरेशन कर मरीज की जान बचा ली।

 राजधानी स्थित बलरामपुर अस्पताल में 25 दिन तक चले जटिल ऑपरेशन के बाद युवक को मिली नई जिंदगी

ये है पूरा मामला: निदेशक डॉ. राजीव लोचन के मुताबिक, सचिवालय में कार्यरत कम्प्यूटर ऑपरेटर विमल सिंह (30) एक जून को हादसे का शिकार हो गए थे। इस दौरान उनकी छह पसलिया टूट गईं। साथ ही सिर में चोट व कोहनी की हड्डी में दस टुकड़े हो गए थे। परिजनों ने मरीज को केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया। जहा पर पाच दिन भर्ती रहा। मगर इलाज से संतुष्ट न होने पर परिजनों ने बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराया। यहा डॉक्टरों ने मरीज की जाच की। इसमें पसली टूटने से अंदरूनी चोट की भी पुष्टि हुई। इससे फेफड़े में कुछ जगह रक्त का थक्का भी जमा पाया गया। ऐसे में डॉक्टरों ने जमे रक्त को बाहर निकाला। साथ ही हाईग्रेड फीवर को कंट्रोल करने के लिए एंटीबॉयोटिक दवाओं की डोज दी। डॉक्टरों ने छह दिन तक दवाओं का कोर्स चलाया। इसके बाद डॉ.ऋषि सक्सेना व अन्य डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन कर मरीज को जिंदगी दी। अस्पताल में करीब 25 दिन तक मरीज का इलाज चला। ये है पूरा मामला: निदेशक डॉ. राजीव लोचन के मुताबिक, सचिवालय में कार्यरत कम्प्यूटर ऑपरेटर विमल सिंह (30) एक जून को हादसे का शिकार हो गए थे। इस दौरान उनकी छह पसलिया टूट गईं। साथ ही सिर में चोट व कोहनी की हड्डी में दस टुकड़े हो गए थे। परिजनों ने मरीज को केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया। जहा पर पाच दिन भर्ती रहा। मगर इलाज से संतुष्ट न होने पर परिजनों ने बलरामपुर अस्पताल में भर्ती कराया। यहा डॉक्टरों ने मरीज की जाच की। इसमें पसली टूटने से अंदरूनी चोट की भी पुष्टि हुई। इससे फेफड़े में कुछ जगह रक्त का थक्का भी जमा पाया गया। ऐसे में डॉक्टरों ने जमे रक्त को बाहर निकाला। साथ ही हाईग्रेड फीवर को कंट्रोल करने के लिए एंटीबॉयोटिक दवाओं की डोज दी। डॉक्टरों ने छह दिन तक दवाओं का कोर्स चलाया। इसके बाद डॉ.ऋषि सक्सेना व अन्य डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन कर मरीज को जिंदगी दी। अस्पताल में करीब 25 दिन तक मरीज का इलाज चला।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» प्रसपा पार्टी के 30 प्रत्याशी घोषित, फीरोजाबाद से ताल ठोंकेंगे शिवपाल

» राजधानी में शोहदे ने की छेड़खानी, विरोध पर किशोरी के पिता को पीटा फिर फाड़े मां के कपड़े

» राजधानी मे गैर इरादतन हत्या मामले में सपा के पूर्व MLA के बेटे को सात साल की सजा: कार से पांच मजदूरों को रौंदने का मामला

» अखिलेश यादव ने चुटकी ली भाजपा अपने सांसदों को फिर से टिकट न देकर खुद को फेल मान लिया

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने होली की बधाई देते हुए कहा-समरसता और सौहार्द का प्रतीक है पर्व

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला अलीगढ़ में डॉ.आंबेडकर की मूर्ति चोरी, सड़क पर फूटा अनुयायियों का गुस्सा

» मेरठ मे होली पूजन को निकलीं दो महिलाओं से लूट,एक को गोली मारी

» जिला चंदौली मे अराजतत्वों ने होलिका में फेंकी आंबेडकर प्रतिमा, अपमान पर भड़के ग्रामीण, चक्काजाम

» होली के हुड़दंग में सियासी दांव-पेंच की पिचकारी चलाएंगे राजनीतिक दलों के नेता

» प्रसपा पार्टी के 30 प्रत्याशी घोषित, फीरोजाबाद से ताल ठोंकेंगे शिवपाल