अब देवरिया नारी संरक्षण गृह मामले की सीबीआइ जांच होगी

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब देवरिया नारी संरक्षण गृह मामले की सीबीआइ जांच होगी


🗒 मंगलवार, अगस्त 07 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

देवरिया में नारी संरक्षण गृह में चल रहे सेक्स रैकेट के मामले की सीबीआइ जांच होगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज बताया कि पूरे प्रकरण के अन्य पहलुओं की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआइटी) का गठन भी किया गया है। साथ ही वहां के डीएम रहे सुजीत कुमार को आरोप पत्र दिया गया है। जिला प्रोबेशन अधिकारी और प्रभारी जिला प्रोबेशन अधिकारी को निलंबित कर उन्हें चार्जशीट दी गई है।

अब देवरिया नारी संरक्षण गृह मामले की सीबीआइ जांच होगी

देवरिया कांड की जांच कर रही अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार और एडीजी महिला कल्याण अंजू गुप्ता की टीम ने बालिकाओं का बयान लेने के बाद मंगलवार को अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंप दी। इसके बाद रात साढ़े नौ बजे प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर मुख्यमंत्री ने कहा कि 2009 से यह संस्था चल रही थी। पूर्व की सरकारों में इसे बढ़ावा मिला। सरकारों के इस पाप को देखते हुए इस संस्था के सभी काम की जांच कराई जाएगी और इसमें जो भी शामिल होगा किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। इसीलिए इसकी सीबीआइ जांच का फैसला किया गया है ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके।मुख्यमंत्री ने बताया कि ने कहा कि एसआइटी का नेतृत्व एडीजी कानून व्यवस्था करेंगे। इसमें दो महिला अधिकारी एसपी ईओडब्ल्यू व एसपी पीटीसी मेरठ को शामिल किया है। एसटीएफ को भी एसआइटी की मदद के लिए कहा गया है। बाल कल्याण समिति पर इस संरक्षण गृह के निरीक्षण की जिम्मेदारी थी लेकिन उसने लापरवाही बरती। इसलिए उसे भंग कर दिया गया है। पुलिस की भूमिका की भी जांच कराई जाएगी कि 30 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज कराने के बाद भी उसने कार्रवाई क्यों नहीं की। सीएम ने बताया कि संरक्षण गृह की बालिकाओं को वाराणसी स्थानांतरित कर दिया गया है। बालकों को भी सुरक्षित गृहों में भेजा गया है। 

उल्लेखनीय है कि देवरिया बाल गृह बालिका से रैकेट संचालित होने का पर्दाफाश होने के बाद पुलिस को आगे की कार्रवाई पूरी करने में दिनभर का समय लग गया है। आज राजकीय बाल गृह पहुंच महिला थानाध्यक्ष के नेतृत्व में महिला कांस्टेबलों ने मुक्त कराई गई 20 लड़कियों के बयान दर्ज किये। अब बुधवार को उन्हें 164 का बयान दर्ज कराने के लिए न्यायालय में पेश किया जाएगा। राजकीय बालगृह में सुरक्षा के मद्देनजर कोतवाली पुलिस तैनात कर दी गई है।  रविवार की रात बाल गृह बालिका से एक बालिका के भागकर एसपी के पास पहुंचने और फिररैकेट का पर्दाफाश करने के साथ ही 20 लड़कियों व तीन बच्चों को मुक्त कराया गया। इसके बाद इन्हें राजकीय बाल गृह में रखा गया है। सोमवार को एसडीएम सदर व सीओ सिटी ने लड़कियों का बयान दर्ज किया था। मंगलवार को महिला थानाध्यक्ष के नेतृत्व में पहुंची महिला पुलिस टीम ने 161 का बयान दर्ज किया। कार्रवाई पूरी करने के बाद बुधवार को इन्हें अब न्यायालय में पेश किया जाएगा, जहां 164 का बयान दर्ज होगा। महिला थानाध्यक्ष जितेंद्र तिवारी ने कहा कि 161 का बयान दर्ज कर लिया गया है। अब 164 के लिए उन्हें न्यायालय में पेश किया जाएगा। 

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» अखिलेश यादव ने कहा-यूपी में कांग्रेस राष्ट्रीय पार्टी है या नहीं यह एक बड़ा सवाल

» योगी सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया युवाओं को लोक कल्याण मित्र प्रोग्राम से जोड़ा जाएगा, तीस फीसद महिला कोटा

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की घोषणा होमगार्ड का दैनिक भत्ता अब 375 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये

» बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने उठाई गरीब मुस्लिमों को भी आरक्षण देने की मांग

» अब विधान मंडल सदस्य कर सकेंगे बिना एमसीओ विमान यात्रा

 

नवीन समाचार व लेख

» अब देवरिया नारी संरक्षण गृह मामले की सीबीआइ जांच होगी

» योगी सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया युवाओं को लोक कल्याण मित्र प्रोग्राम से जोड़ा जाएगा, तीस फीसद महिला कोटा

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की घोषणा होमगार्ड का दैनिक भत्ता अब 375 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये

» बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने उठाई गरीब मुस्लिमों को भी आरक्षण देने की मांग

» अब विधान मंडल सदस्य कर सकेंगे बिना एमसीओ विमान यात्रा