यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

तीन साल बाद आई रिपोर्ट में हुआ खुलासा,सिर और धड़ अलग-अलग महिला के थे


🗒 गुरुवार, सितंबर 13 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मडिय़ांव थाना क्षेत्र में चार दिसंबर 2015 को धड़ और सीतापुर में महिलाओं के सिर मिलने की घटना में करीब तीन साल होने को हैं, लेकिन विवेचना एक कदम भी आगे नहीं बढ़ सकी। पूरा दारोमदार डीएनए रिपोर्ट पर टिका था। लंबे इंतजार के बाद आई डीएनए रिपोर्ट में सिर और धड़ का आपस में मिलान नहीं हो पाया, जिससे गुत्थी और उलझ गई है। अब क्राइम ब्रांच इस केस की नए सिरे से जांच कर शिनाख्त का प्रयास करेगी।

तीन साल बाद आई रिपोर्ट में हुआ खुलासा,सिर और धड़ अलग-अलग महिला के थे

इस बीच तत्कालीन इंस्पेक्टर समेत आठ विवेचक बदल गए। विवेचना मडिय़ांव थाने से क्राइम ब्रांच पहुंच गई। गुत्थी सुलझना तो दूर अब तक सिर और धड़ की शिनाख्त तक नहीं हो सकी है। घटना के बाद से मडिय़ांव में तैनात रह चुके पांच थानेदार और क्राइम ब्रांच के दो इंस्पेक्टर इस केस की गुत्थी को अब तक नहीं सुलझा सके। विवेचना के दौरान अब तक 83 पर्चे काटे गए। स्टेट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एससीआरबी), जिला क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (डीसीआरबी) से भी संपर्क किया गया, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। केस न सुलझने पर पिछले वर्ष में तत्कालीन इंस्पेक्टर मडिय़ांव राघवन कुमार सिंह ने एसएसपी को पत्र लिखकर इस केस की जांच किसी बड़ी संस्था से कराने का अनुरोध किया था। तत्कालीन एसएसपी दीपक कुमार ने संबंधित मामले को चार सितंबर 2017 को क्राइम ब्रांच स्थानांतरित कर दिया था।चार दिसंबर 2015 को आइआइएम रोड स्थित सहारा सिटी होम्स की दीवार के किनारे दो महिलाओं के धड़ बोरों में मिले थे। वहीं दो सिर सीतापुर स्थित मानपुर थाना क्षेत्र स्थित एक पुलिया के नीचे मिले थे।

घटना के बाद मडिय़ांव थाने में तैनात रहे इंस्पेक्टर संतोष कुमार तिवारी, अजय प्रकाश त्रिपाठी, नागेश कुमार मिश्रा, अंजनी कुमार पांडेय, राघवन कुमार सिंह संबंधित केस की विवेचना कर चुके हैं। इसके अतिरिक्त क्राइम ब्रांच से इंस्पेक्टर विमलेश कुमार तिवारी, अतुल तिवारी के बाद अब अवधेश कुमार पांडेय विवेचना कर रहे हैं।एएसपी क्राइम दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि अभी सिर और धड़ की शिनाख्त नहीं हो सकी है, डीएनए रिपोर्ट में सिर और धड़ का मिलान नहीं हो सका है। केस और पेचीदा हो गया है, जिससे नए सिरे से जांच की जा रही है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» उत्तर प्रदेश पुलिस को आज एक बड़ी सफलता मिली हिजबुल मुजाहिदीन की थी गणेश चतुर्थी पर कानपुर में धमाका करने की साजिश

» सरकार का अयोध्या में 151 मीटर ऊंची श्रीराम की मूर्ति लगाने का प्रस्ताव , बनेगा म्यूजियम

» अब प्रदेश में स्वयं सहायता समूह बनाकर 34 हजार महिला सफाई कर्मियों की होगी भर्ती

» लखनऊ के के रेस्टोरेंट पर लगा एक लाख का जुर्माना, ऑर्डर की गई डिश में मिले थे कॉकरोच

» स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने डॉक्टरों से कहा अपना घर समझकर अस्पताल ठीक करें डॉक्टर

 

नवीन समाचार व लेख

» वाराणसी के बीएचयू में बवाल के दूसरे दिन छात्रों का धरना-प्रदर्शन, पूरे दिन तनाव पूर्ण शांति

» बुलंदशहर मे शबनम पर Acid Attack, देवर सहित आरोपित गिरफ्तार

» जिला फिरोजाबाद में घर में शौचालय न होने पर शर्म की वजह से छात्रा ने दी जान

» उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग सीबीआइ के निशाने पर

» तीन साल बाद आई रिपोर्ट में हुआ खुलासा,सिर और धड़ अलग-अलग महिला के थे