यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

तीन साल बाद आई रिपोर्ट में हुआ खुलासा,सिर और धड़ अलग-अलग महिला के थे


🗒 गुरुवार, सितंबर 13 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मडिय़ांव थाना क्षेत्र में चार दिसंबर 2015 को धड़ और सीतापुर में महिलाओं के सिर मिलने की घटना में करीब तीन साल होने को हैं, लेकिन विवेचना एक कदम भी आगे नहीं बढ़ सकी। पूरा दारोमदार डीएनए रिपोर्ट पर टिका था। लंबे इंतजार के बाद आई डीएनए रिपोर्ट में सिर और धड़ का आपस में मिलान नहीं हो पाया, जिससे गुत्थी और उलझ गई है। अब क्राइम ब्रांच इस केस की नए सिरे से जांच कर शिनाख्त का प्रयास करेगी।

तीन साल बाद आई रिपोर्ट में हुआ खुलासा,सिर और धड़ अलग-अलग महिला के थे

इस बीच तत्कालीन इंस्पेक्टर समेत आठ विवेचक बदल गए। विवेचना मडिय़ांव थाने से क्राइम ब्रांच पहुंच गई। गुत्थी सुलझना तो दूर अब तक सिर और धड़ की शिनाख्त तक नहीं हो सकी है। घटना के बाद से मडिय़ांव में तैनात रह चुके पांच थानेदार और क्राइम ब्रांच के दो इंस्पेक्टर इस केस की गुत्थी को अब तक नहीं सुलझा सके। विवेचना के दौरान अब तक 83 पर्चे काटे गए। स्टेट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एससीआरबी), जिला क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (डीसीआरबी) से भी संपर्क किया गया, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। केस न सुलझने पर पिछले वर्ष में तत्कालीन इंस्पेक्टर मडिय़ांव राघवन कुमार सिंह ने एसएसपी को पत्र लिखकर इस केस की जांच किसी बड़ी संस्था से कराने का अनुरोध किया था। तत्कालीन एसएसपी दीपक कुमार ने संबंधित मामले को चार सितंबर 2017 को क्राइम ब्रांच स्थानांतरित कर दिया था।चार दिसंबर 2015 को आइआइएम रोड स्थित सहारा सिटी होम्स की दीवार के किनारे दो महिलाओं के धड़ बोरों में मिले थे। वहीं दो सिर सीतापुर स्थित मानपुर थाना क्षेत्र स्थित एक पुलिया के नीचे मिले थे।

घटना के बाद मडिय़ांव थाने में तैनात रहे इंस्पेक्टर संतोष कुमार तिवारी, अजय प्रकाश त्रिपाठी, नागेश कुमार मिश्रा, अंजनी कुमार पांडेय, राघवन कुमार सिंह संबंधित केस की विवेचना कर चुके हैं। इसके अतिरिक्त क्राइम ब्रांच से इंस्पेक्टर विमलेश कुमार तिवारी, अतुल तिवारी के बाद अब अवधेश कुमार पांडेय विवेचना कर रहे हैं।एएसपी क्राइम दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि अभी सिर और धड़ की शिनाख्त नहीं हो सकी है, डीएनए रिपोर्ट में सिर और धड़ का मिलान नहीं हो सका है। केस और पेचीदा हो गया है, जिससे नए सिरे से जांच की जा रही है।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» राजधानी लखनऊ में बढ़ाए गए 31 पोलिंग बूथ, अतिसंवेदनशील की श्रेणी में 44 और शामिल

» लखनऊ के मोहनलालगंज से BSP के सीएल वर्मा और कांग्रेस के आरके चौधरी ने किया नामांकन

» डीआरएम कार्यालय में सहायक अकाउंटेंट सोनी ने घरवालों से बताई थी प्रताडऩा की कहानी

» अब राज्यसभा सदस्य अमर सिंह ने आजम खान को बताया राक्षसी प्रवृति का व्यक्ति, जया बच्चन पर भी तंज

» भाजपा ने जयाप्रदा पर आजम की टिप्पणी से खफा होकर खोला मोर्चा, प्रदेश में बड़े आंदोलन की तैयारी

 

नवीन समाचार व लेख

» मेरठ लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र के लक्खीपुरा में पावर लूम फैक्ट्री की टेंपरेरी लिफ्ट में दबकर दो साल के मासूम की मौत

» प्रयागराज मे बुजुर्ग महिला की हत्या में नामजद कांग्रेसी नेता गिरफ्तार

» कुशीनगर में चार दिन बाद भी पकड़ में नहीं आ सका विचित्र जीव, दहशत में लोग

» यूपी बोर्ड के परिणाम 18 से 20 अप्रैल तक आएगा

» राजधानी लखनऊ में बढ़ाए गए 31 पोलिंग बूथ, अतिसंवेदनशील की श्रेणी में 44 और शामिल