यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अहमदाबाद एक्सप्रेस से लखनऊ पहुंचे बिहार और यूपी के यात्रियों ने बयां किया दर्द बोले, पूछ-पूछकर किया जा रहा हमला


🗒 मंगलवार, अक्टूबर 09 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 चारबाग स्टेशन के प्लेटफार्म दो पर दोपहर 3:24 बजे अहमदाबाद-लखनऊ एक्सप्रेस पहुंची। ट्रेन के रुकते ही उतर रहे यात्रियों के चेहरे पर अपने घर लौटने की खुशी की जगह गुजरात का वह खौफनाक मंजर साफ दिख रहा था। कोई बिना खाना खाए ही सामान लेकर भाग निकला तो कोई बिना रिजर्वेशन कराए बोगी के शौचालय के पास बैठकर सफर करता रहा।

अहमदाबाद एक्सप्रेस से लखनऊ पहुंचे बिहार और यूपी के यात्रियों ने बयां किया दर्द बोले, पूछ-पूछकर किया जा रहा हमला

बिहार जाने वाले यात्री अहमदाबाद एक्सप्रेस से लखनऊ पहुंचे। यहां से वह दूसरी ट्रेनों से आगे को रवाना हुए। जबकि गोरखपुर सहित प्रदेश के कई अन्य जिलों के भी यात्री लखनऊ तक आए। यात्रियों ने बताया कि जिसको जहां जगह मिली वह सवार हो गया। रास्ते में टीटीई ने भी जुर्माना लगाने में कोई कोताही नहीं बरती। एक-एक सीट पर छह से सात लोग बैठने को मजबूर रहे। जबकि गैलरी तक में बच्चों, महिलाओं और वृद्धों ने कभी खड़े होकर तो कभी दूसरों की सीटों पर बैठकर लखनऊ तक का सफर तय किया। बोगी में इतनी अधिक भीड़ थी कि कोई वेंडर तक खानपान सामग्री बेचने नहीं आया। इन पीडि़तों ने लखनऊ पहुंचकर इस तरह अपनी पीड़ा बयां की।एक तरफ जहां गुजरात में हो रही ङ्क्षहसा के बीच उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग वहां से पलायन कर रहे हैं। वहीं रोजी रोटी के लिए लोगों का यहां से जाना अब भी जारी है। समस्तीपुर के रहने वाले विनय अपने एक दर्जन साथियों के साथ पहले बिहार से लखनऊ पहुंचे और फिर यहां से अहमदाबाद एक्सप्रेस से गुजरात रवाना हुए। विनय बताते हैं कि वह लोग जामनगर के हिम्मतनगर में मूंगफली के गोदाम में काम करते हैं। सेठ गुजराती हैं और उन्होंने कहा कि तुम लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी मेरी है। इस कारण हम लोग गुजरात जा रहे हैं।

गुजरात में कई इलाकों में उत्तर भारतीयों खासकर बिहारियों और यूपी वालों को ढूंढकर उनसे मारपीट हो रही है। मुझे भी एक दर्जन लोगों ने लाठी लेकर दौड़ा लिया। किसी तरह जान बचाकर घर पहुंचा और जरूरी सामान उठाकर अहमदाबाद स्टेशन पहुंच गया। यहां से लखनऊ आ रही ट्रेन में सवार हो गया। अब आगे बिहार जाना है।मैं मेहसाणा में रहता हूं। वहां के हालत अधिक गंभीर है। उत्तर प्रदेश और बिहार के लोगों पर हमले हो रहे हैं। डर के कारण बिना टिकट के ही मैं वहां से भाग निकला। रास्ते भर भूख के कारण बेहाल रहा। समस्तीपुर जाना था, इसलिए जो भी ट्रेन मिली उसमें सवार हो गया।गुजरात में खुद को बचाने के लिए पुलिस की मदद लेनी पड़ रही है। पुलिस सहयोग कर रही है लेकिन इसके बाद भी कहीं न कहीं हमले हो रहे हैं। हर समय किसी अप्रिय घटना की आशंका बनी रहती है। मुझे दीपावली पर गोरखपुर अपने घर जाना था। लेकिन हालात देखकर भाग निकला। गुजरात में पहले कभी डर नहीं लगता था। अब जो कुछ हो रहा है उसे लेकर परिवार की चिंता बढ़ गई है। पत्नी और छोटे बच्चों के साथ कुछ अनहोनी न हो जाए इसके लिए उनको साथ लेकर चला आया। अब हालात ठीक होने का इंतजार है।

मेरा घर फैजाबाद में है। वहां चुन चुनकर यूपी और बिहार के लोगों को पीटा जा रहा है। हमको गुजराती समुदाय के जान पहचान के लोग शक की नजर से देख रहे हैं। असुरक्षा की भावना के चलते सबको लेकर इमरजेंसी में निकल आया।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» अब सिपाहियों के विरोध पर सख्त कदम उठाने की तैयारी

» विवेक तिवारी की गाड़ी से नहीं टकराई थी सिपाहियों की बाइक

» संजय गांधी पीजीआइ के आइसीयू में भर्ती महंत परमहंस दास ने पिया जूस,डॉ.प्रवीण तोगडिय़ा को महंत से मिलने नहीं दिया गया

» बसपा अध्यक्ष मायावती ने गठबंधन को लेकर भाजपा और कांग्रेस पर निशाना साधा, गठबंधन में सीटों की भीख नहीं मांगेंगे

» लखनऊ के कृष्णा नगर थाना क्षेत्र मे दुगुना पैसा करने का लालच देकर लोगो को लगाया करोड़ों का चूना

 

नवीन समाचार व लेख

» बरेली, हरिद्वार व मुरादाबाद समेत 20 स्‍टेशनों को बम से उड़ाने की आतंकी धमकी ट्रेन व जंक्शन पर सघन चेकिंग

» अब सिपाहियों के विरोध पर सख्त कदम उठाने की तैयारी

» विवेक तिवारी की गाड़ी से नहीं टकराई थी सिपाहियों की बाइक

» जिला रायबरेली में अरुण जेटली के MPLAD से होगा विकास, ढ़ाई करोड़ स्वीकृत

» सीएम योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर में कलश स्थापित करेंगे नौ दिन रहेंगे व्रत