यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

राजधानी मे युवा BJP नेता की चाकू घोंपकर हत्या, SSP को हटाने की मांग- हंगामा


🗒 मंगलवार, दिसंबर 04 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

राजधानी में बेखौफ बदमाश आए दिन वारदातों को अंजाम देकर पुलिस को चुनौती दे रहें हैं। भाजपा नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी की हत्या के बाद से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है। हत्या के अगले दिन मंगलवार को मामले में पुलिस की कार्यवाही से नारा परिजनों ने ट्रॉमा सेंटर के प्रवेश द्वार पर जमकर हंगामा किया। बिना आरोपितों की गिरफ्तारी के शव पोस्टमाॅर्टम के लिए भेजेने से इनकार कर दिया।

राजधानी मे युवा BJP नेता की चाकू घोंपकर हत्या, SSP को हटाने की मांग- हंगामा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बुलाने की जिद पर अड़े परिवारीजनों ने नारेबाजी कर एसएसपी कलानिधि नैथानी को बर्खास्त करने की मांग की। उधर, मृतक भाजपा नेता प्रत्यूषमणि की पत्नी ने महानगर कोतवाली में तहरीर दी है।प्रत्यूष की मौत से आक्रोशित परिजनों ने मंगलवार ट्रॉमा सेंटर के प्रवेश द्वार पर जमकर हंगामा किया। चारो तरफ पत्नी और प्रत्यूष के परिजनों की आवाज ही गूंज रही थी। इसी बीच ढांढस बांधने महापौर संयुक्ता भाटिया पहुंची। प्रत्यूष के परिवार की एक महिला रोते- चीखते बेहोश होने लगी, उसी दौरान महापौर संयुक्ता भाटिया ने उसको संभाला। साथ ही ढांढस बांधते हुए कहा कि जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी कर कठोर दंड दिया जाएगा।  वहीं, परिजनों से ढांढस बांधने कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ट्रॉमा सेंटर पहुंचे। उन्होंने कहा कि मामले में जल्द ही गिरफ्तारी होगी और कड़ी से कड़ी सजा आरोपियों को दी जाएगी। इनके साथ ही भाजपा नगर अध्यक्ष, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, महापौर संयुक्ता भाटिया व अन्य वरिस्ठ भाजपा नेताओं ने डेढ़ घंटे तक परिवारीजनों के साथ ट्रामा के अंदर बातचीत की। परिवार की मांगों के आश्वासन के बाद प्रदर्शन बंद हुआ। शव को पोस्टमाॅर्टम के लिए भेजा गया है। इसके बाद ट्रामा के बाहर ही मंत्री और परिवारीजनों ने दो मिनट का मौन रखकर प्रत्यूष को श्रद्धांजलि दी।

महानगर कोतवाली से चंद कदम की दूरी पर बादशाहनगर में सोमवार देर रात युवा भाजपा नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी (40) की पिटाई के बाद चाकू घोंपकर हत्या कर दी गई। घटनास्थल से थोड़ी दूरी पर ही उनकी बाइक भी खड़ी थी। पुलिस प्रत्यक्षदर्शियों से पूछताछ के साथ सीसी कैमरों की फुटेज भी खंगाल रही है। घटना से आक्रोशित परिवारीजन ने सैकड़ों भाजपा कार्यकताओं के साथ ट्रॉमा सेंटर के बाहर हंगामा किया। पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर एसएसपी को हटाने की मांग की। मौके पर पहुंचे एडीजी जोन, आइजी रेंज, डीएम और एसएसपी से भाजपा नेताओं से आधी रात तक नोंकझोंक होती रही। पुलिस मुकदमा दर्ज कर कुछ संदिग्धों से पूछताछ भी कर रही है।एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि रात सवा दस बजे के करीब सड़क दुर्घटना की सूचना पर महानगर पुलिस के साथ पीआरवी मौके पर पहुंची थी, जहां प्रत्यूषमणि त्रिपाठी लहूलुहान हालत में पड़े थे, पास में ही उनकी बाइक भी पड़ी थी। उन्हें ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने बताया कि उन्हें सीने के पास चाकू मारा गया है।मॉडल हाउस निवासी प्रत्यूषमणि त्रिपाठी भाजपा युवा मोर्चा के वरिष्ठ कार्यकर्ता थे और पूर्व में मोर्चा के प्रदेश मंत्री भी रह चुके हैं। सोमवार रात वह घर से बादशाहनगर निवासी मित्र से मिलने निकले थे। प्रत्यूष के परिवार में पत्नी रागिनी व दो बेटियां, एक मासूम बेटा है।भाजपा नेता ने अमीनाबाद कोतवाली में एक समुदाय के खिलाफ एफआइआर कराई थी। इसके बाद अज्ञात लोगों ने उनके घर में घुसकर हमला किया था, शिकायत के बावजूद पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरोप है। घरवालों ने इसी रंजिश के तहत हत्या की आशंका जताई है। उधर पुलिस ने इस मामले में रिपोर्ट दर्जकर एक आरोपित को गिरफ्तार करने का दावा किया है। उधर एसएसपी के मुताबिक प्रत्यूष पर भी एक महिला ने छेड़खानी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी, बाद में उन्होंने महिला के भाई पर मुकदमा कराया था।

भाजपा नेता प्रत्यूषमणि त्रिपाठी के घर में घुसकर दस दिन पहले ही उन पर हमला हुआ था। भाजपा नेता व प्रत्यूष के मित्र शैलेंद्र के मुताबिक घटना के बाद उन्होंने पुलिस अफसरों से सुरक्षा की मांग की थी, लेकिन प्रत्यूष को यह कहकर सुरक्षा नहीं दी गई कि तुम तो हट्टे-कट्टे हो सुरक्षा की क्या जरूरत? इस घटना से पुलिस की घोर लापरवाही भी उजागर हुई है, अगर सुरक्षा मिल जाती तो हत्या भी न होती। भाजपा नेता शैलेंद्र ने दावा किया कि एक समुदाय के जिन लोगों ने प्रत्यूष के घर पर हमला किया, उन्होंने ही हत्या की। शैलेंद्र के मुताबिक जब वह ट्रॉमा सेंटर पहुंचे तो प्रत्यूष ने लड़खड़ाती आवाज में उन्हें बताया कि घर पर हमला करने वालों ने ही पहले उन्हें पीटा फिर चाकू मार दिया।इंस्पेक्टर महानगर विकास पांडेय के मुताबिक, घटनास्थल के पास प्रत्यूष की बाइक भी खड़ी थी। चश्मदीदों से पूछताछ में पता चला कि यहां प्रत्यूष लहूलुहान हालत में मिले। आशंका है कि उनकी कहीं और पिटाई कर चाकू घोंपकर हत्यारे यहां फेंक गए।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» इंस्‍पेक्‍टर के परिजनों को 50 लाख, परिवार के एक सदस्‍य को नौकरी की घोषणा

» बुलंदशहर हिंसा की घटना में अभी हिंदू संगठनों का नाम लेना जल्दबाजी: केशव प्रसाद मौर्य

» मुख्यमंत्री ने बुलंदशहर की घटना के दिवंगत पुलिस इंस्पेक्टर की पत्नी को 40 लाख रु तथा माता पिता को 10 लाख रु आर्थिक सहायता देने की घोषणा की

» राजधानी लखनऊ में प्लॉट के नाम पर ठगे 4.75 लाख, व्यापारी की पत्नी से छेड़खानी

» हजरतगंज साइबर क्राइम सेल की टीम ने अश्लील फोटो वायरल करने की धमकी देकर डेढ़ लाख मांगने वाले को दबोचा

 

नवीन समाचार व लेख

» SC में सोनिया-राहुल की याचिका पर आखिरी सुनवाई आज

» राजधानी मे युवा BJP नेता की चाकू घोंपकर हत्या, SSP को हटाने की मांग- हंगामा

» महंत परमहंस 6 दिसंबर से पहले 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर

» जिला मुजफ्फरनगर में हनुमान मंदिर पर दलितों ने किया कब्जा, पुजारी को हटाकर प्रसाद बांटा

» बुलंदशहर में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह हत्याकांड में मुख्य आरोपी सहित तीन गिरफ्तार