यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब मायावती के जन्मदिन के बाद होगी सीटों के बंटवारे की घोषणा


🗒 शनिवार, जनवरी 12 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

गठबंधन का औपचारिक एलान होने के बाद अब सबकी नजर सीटों के बंटवारे पर है। किस संसदीय सीट पर कौन पार्टी लड़ेगी इसकी घोषणा अगले एक सप्ताह में ही कर दी जाएगी। हालांकि, प्रत्याशियों के नामों की सार्वजनिक घोषणा लोकसभा चुनाव की अधिसूचना जारी होने पर की जाएगी। बसपा सुप्रीमो मायावती ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी में शनिवार को यह तो साफ कर दिया कि 80 लोकसभा सीटों में से बसपा 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। अमेठी और रायबरेली सीट को कांगे्रस के लिए छोडऩे का एलान करने के साथ ही 38 सीटें सपा व दो अन्य छोटे दलों के लिए रखी गई हैैं। सूत्रों के मुताबिक 15 जनवरी तक मायावती लखनऊ में ही रहेंगी। इस बीच वह पार्टी के प्रमुख नेताओं से मिलेंगी। 15 को सुबह मायावती यहां अपना 63वां जन्मदिन मनाने के बाद दिल्ली चली जाएंगी। 

अब मायावती के जन्मदिन के बाद होगी सीटों के बंटवारे की घोषणा

सूत्र बताते हैैं कि 16 जनवरी को दिल्ली में मायावती ने अपने आवास पर पार्टी के प्रमुख नेताओं की बैठक रखी है। बैठक में अखिलेश यादव के साथ सपा के प्रमुख नेता भी शामिल होंगे। अगर किसी कारण से उस दिन बैठक न हो सकी तो 17 को दोनों ही पार्टियों के प्रमुख नेता एक साथ बैठेंगे। बैठक में तय होगा कि किस संसदीय सीट पर कौन पार्टी लड़ेगी? सीटों का बंटवारा तय होते ही इसकी घोषणा भी कर दी जाएगी। प्रत्याशियों के नाम का एलान लोकसभा चुनाव का कार्यक्रम जारी होने पर किया जाएगा। वैसे जिन्हें टिकट मिलना होगा उन्हें लोकसभा क्षेत्र का प्रभारी बना दिया जाएगा ताकि वे क्षेत्र में चुनाव की तैयारियों में जुट जाएं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि सीट बंटवारे का बड़ा आधार पिछले चुनाव के नतीजे और जातिगत समीकरण रहेगा। पिछले चुनाव में जिन 34 सीटों पर बसपा रनरअप रही थी उनमें से ज्यादातर पर बसपा चुनाव लड़ेगी। इसी तरह सपा भी विजयी के साथ रनरअप वाली 31 सीटों में से अधिकांश पर लड़ेगी। अगर रालोद तीन सीटों पर लडऩे को तैयार हुआ तो सपा उसे अपने कोटे से एक सीट दे सकती है। रालोद के अलावा क्षेत्र विशेष में प्रभाव रखने वाली पीस पार्टी, निषाद पार्टी, अपना दल जैसे को भी एक-एक सीट दी जा सकती है। व्यक्ति विशेष का प्रभाव होने पर उसे सपा के टिकट पर चुनाव मैदान में उतारा जा सकता है। 

बसपा की संभावित सीटें 

बुलंदशहर, मुजफ्फरनगर, आगरा, नगीना, जालौन, अलीगढ़, अकबरपुर, देवरिया, महराजगंज, शाहजहांपुर, सलेमपुर, मेरठ, मिर्जापुर, राबट्र्सगंज, बांसगांव, फतेहपुर, सुलतानपुर, फतेहपुर सीकरी, मछलीशहर, प्रतापगढ़, भदोही, चंदौली, जौनपुर, घोसी, मोहनलालगंज, अंबेडकरनगर, धौरहरा, बांदा, खीरी, डुमरियागंज, संतकबीरनगर, मिश्रिख, हरदोई, सीतापुर, कुशीनगर, सहारनपुर,  गाजियाबाद, बाराबंकी।    

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» एनआइए ने मेरठ और हापुड़ से दो को किया गिरफ्तार

» लखनऊ के पीजीआइ थाना क्षेत्र के उतरेटिया मे शिक्षिका ने कक्षा एक की छात्रा को पीटा, कान से आया खून

» कांग्रेस की रणनीति तय करने को लखनऊ में राज बब्बर और गुलाम नबी

» सपा-बसपा कार्यकर्ताओं में दिखी करीबी, रैली कर दिखाएंगे ताकत

» आशियाना थाना इलाके मे छात्र ने लगाई फांसी, मौत

 

नवीन समाचार व लेख

» जनपद अलीगढ़ की एलईडी फैक्ट्री में आग, 50 लाख का नुकसान

» फीरोजाबाद जिले मे रामगोपाल का शिवपाल को करारा जवाब, कहा पूर्वांचल गए तो पिट जाएंगे

» सेंट्रल नैनी जेल की हाई सिक्योरिटी बैरक से बंदी फरार, सात बंदीरक्षक सस्पेंड

» आजमगढ़ मे बालक का गला मफलर से बांध ब्लेड से काटा, गंभीर हालत में बालक अस्पताल में भर्ती

» एनआइए ने मेरठ और हापुड़ से दो को किया गिरफ्तार