यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

UP मे अब मोबाइल फोन से डिलीट किये गए डाटा की हो सकेगी रिकवरी


🗒 रविवार, मार्च 10 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मोबाइल फोन से डिलीट किये गए डाटा की रिकवरी, मोबाइल के जटिल लॉक को खोलने से लेकर फोरेंसिक साइंस की अन्य जटिल जांचों के लिए अब यूपी पुलिस को दूसरे प्रदेश की फोरेंसिक साइंस लैब की ओर नहीं देखना होगा। डीजीपी ओपी सिंह ने शनिवार को महानगर स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला में उच्चीकृत नवीन कंप्यूटर फोरेंसिक इकाई का उद्घाटन किया। करीब ढाई करोड़ रुपये की लागत से अत्याधुनिक मशीनों व सॉफ्टवेयर के जरिये कंप्यूटर फोरेंसिक इकाई को मजबूत बनाया गया है।

UP मे अब मोबाइल फोन से डिलीट किये गए डाटा की हो सकेगी रिकवरी

यूपी पुलिस के सामने डिजिटल फ्राड, साइबर स्टॉकिंग, चाइल्ड पोनोग्राफी समेत अन्य जघन्य अपराधों में फोरेंसिक साइंस की चुनौती हमेशा से रही है। ऐसे केसों में प्रभावी नियंत्रण व विवेचना के लिए लखनऊ स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला में उ'चीकृत नवीन कंप्यूटर फोरेंसिक इकाई का गठन किया गया है। विधि विज्ञान प्रयोगशाला के आधुनिकीकरण योजना 2018-19 के तहत एडवांस कंप्यूटर फोरेंसिक अनुभाग को आधुनिक टूल्स से लैस किया गया है, जिनकी मदद से डिस्क फोरेंसिक, इमेज फोरेंसिक तथा सोशल मीडिया फोरेंसिक से संबंधित परीक्षण किये जा सकेंगे। खासकर सैलेब्राइट, मोबाइल चेक सूट समेत अन्य उपकरणों व सॉफ्टवेयर की मदद से मोबाइल से डिलीट किये गए डाटा की रिकवरी से लेकर लॉक किये गए मोबाइल व हाइड किये गए डाटा की भी जांच संभव होगी।गंभीर प्रकरणों व आतंकियों से बरामद मोबाइल फोन से डिलीट वाइस मैसेज, फोटोग्राफ, वीडियो, कॉल रिकार्ड को रिकवर किया जायेगा। सोशल मीडिया फोरेंसिक के तहत वाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर समेत सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म से संबंधित डाटा की रिकवरी भी की जा सकेगी। एडीजी तकनीकी सेवाएं आशुतोष पांडेय ने बताया कि एम्पैड फाइव व एम्पैड ऑथेंटीकेट जैसे सॉफ्टवेयर के उपयोग से सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के डाटा को प्रमाणित करने की सुविधा भी होगी। कई सॉफ्टवेयर की मदद से विवादित हार्डडिस्क में उपलब्ध डाटा का परीक्षण, लैपटॉप व सीपीयू से संबंधित डाटा की रिकवरी भी की जा सकेगी।एडीजी ने बताया कि विधि विज्ञान प्रयोगशाला आगरा तथा मुरादाबाद में भी कंप्यूटर फोरेंसिक अनुभागों की स्थापना की गई है। अगले माह वाराणसी व गाजियाबाद स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला में भी कंप्यूटर फोरेंसिक की की सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। अब यूपी पुलिस के अलावा एटीएस, सीबीआइ व अन्य जांच एजेंसियों को भी फोरेंसिक साइंस से जुड़ी जांचों में महत्वपूर्ण सहयोग मिल सकेगा।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» राजदानी लखनऊ में कोयला व्यापारी के घर पुलिस ने डाली डकैती, दो दारोगा-सिपाही समेत चार गिरफ्तार

» राजधानी मे जमीन के फर्जी मुकदमे मामले में फंसे SSP, विवेचक ने कहा- दबाव में लगाई चार्जशीट

» चुनाव से पहले डीजीपी ओपी सिंह को हटाएं, मायावती जी ने सही मांग की: अखिलेश

» राजधानी लखनऊ के एसएसपी कलािनिध नैथानी ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

» भाजपा छोड़कर पूर्व मंत्री ओमवती और उनके पति सेवानिवृत्त आइएएस आरके सिंह कांग्रेस में शामिल

 

नवीन समाचार व लेख

» मेरठ मे कक्षा में बच्‍चों के सामने गुरुजी कर रहे थे ये गंदा काम, हो गए निलंबित

» जिला कुशीनगर में बाइक सवार तीन युवकों की हादसे में मौत

» राजदानी लखनऊ में कोयला व्यापारी के घर पुलिस ने डाली डकैती, दो दारोगा-सिपाही समेत चार गिरफ्तार

» UP मे अब मोबाइल फोन से डिलीट किये गए डाटा की हो सकेगी रिकवरी

» राजधानी मे जमीन के फर्जी मुकदमे मामले में फंसे SSP, विवेचक ने कहा- दबाव में लगाई चार्जशीट