यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

UP मे अब मोबाइल फोन से डिलीट किये गए डाटा की हो सकेगी रिकवरी


🗒 रविवार, मार्च 10 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मोबाइल फोन से डिलीट किये गए डाटा की रिकवरी, मोबाइल के जटिल लॉक को खोलने से लेकर फोरेंसिक साइंस की अन्य जटिल जांचों के लिए अब यूपी पुलिस को दूसरे प्रदेश की फोरेंसिक साइंस लैब की ओर नहीं देखना होगा। डीजीपी ओपी सिंह ने शनिवार को महानगर स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला में उच्चीकृत नवीन कंप्यूटर फोरेंसिक इकाई का उद्घाटन किया। करीब ढाई करोड़ रुपये की लागत से अत्याधुनिक मशीनों व सॉफ्टवेयर के जरिये कंप्यूटर फोरेंसिक इकाई को मजबूत बनाया गया है।

UP मे अब मोबाइल फोन से डिलीट किये गए डाटा की हो सकेगी रिकवरी

यूपी पुलिस के सामने डिजिटल फ्राड, साइबर स्टॉकिंग, चाइल्ड पोनोग्राफी समेत अन्य जघन्य अपराधों में फोरेंसिक साइंस की चुनौती हमेशा से रही है। ऐसे केसों में प्रभावी नियंत्रण व विवेचना के लिए लखनऊ स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला में उ'चीकृत नवीन कंप्यूटर फोरेंसिक इकाई का गठन किया गया है। विधि विज्ञान प्रयोगशाला के आधुनिकीकरण योजना 2018-19 के तहत एडवांस कंप्यूटर फोरेंसिक अनुभाग को आधुनिक टूल्स से लैस किया गया है, जिनकी मदद से डिस्क फोरेंसिक, इमेज फोरेंसिक तथा सोशल मीडिया फोरेंसिक से संबंधित परीक्षण किये जा सकेंगे। खासकर सैलेब्राइट, मोबाइल चेक सूट समेत अन्य उपकरणों व सॉफ्टवेयर की मदद से मोबाइल से डिलीट किये गए डाटा की रिकवरी से लेकर लॉक किये गए मोबाइल व हाइड किये गए डाटा की भी जांच संभव होगी।गंभीर प्रकरणों व आतंकियों से बरामद मोबाइल फोन से डिलीट वाइस मैसेज, फोटोग्राफ, वीडियो, कॉल रिकार्ड को रिकवर किया जायेगा। सोशल मीडिया फोरेंसिक के तहत वाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर समेत सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म से संबंधित डाटा की रिकवरी भी की जा सकेगी। एडीजी तकनीकी सेवाएं आशुतोष पांडेय ने बताया कि एम्पैड फाइव व एम्पैड ऑथेंटीकेट जैसे सॉफ्टवेयर के उपयोग से सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के डाटा को प्रमाणित करने की सुविधा भी होगी। कई सॉफ्टवेयर की मदद से विवादित हार्डडिस्क में उपलब्ध डाटा का परीक्षण, लैपटॉप व सीपीयू से संबंधित डाटा की रिकवरी भी की जा सकेगी।एडीजी ने बताया कि विधि विज्ञान प्रयोगशाला आगरा तथा मुरादाबाद में भी कंप्यूटर फोरेंसिक अनुभागों की स्थापना की गई है। अगले माह वाराणसी व गाजियाबाद स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला में भी कंप्यूटर फोरेंसिक की की सुविधा उपलब्ध हो जायेगी। अब यूपी पुलिस के अलावा एटीएस, सीबीआइ व अन्य जांच एजेंसियों को भी फोरेंसिक साइंस से जुड़ी जांचों में महत्वपूर्ण सहयोग मिल सकेगा।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» राजधानी के ठाकुरगंज क्षेत्र में दूल्हे के पिता की डिमांड सुन बिफर पड़ी दुल्हन, जयमाल के बाद शादी से किया इन्कार

» लखनऊ के माल थाना क्षेत्र में युवक की हत्या कर शव फेंका, सोशल मीडिया पर फोटो देख भाई ने की शिनाख्त

» UP बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा आवेदन में 15 मई तक अभ्यर्थी सही कर सकते हैं गलती

» राजधानी स्थित हुसैनगंज इलाके केहोटल से पकड़े गए छह लड़के-तीन लड़कियां, पुलिस ने छापा मारा

» राजधानी मे फर्जी लेफ्टीनेंट को थाने के बाहर पीड़िता ने दी सजा, गाल पर जड़ा जोरदार थप्पड़

 

नवीन समाचार व लेख

» उन्नाव जिले में खून से लथपथ मिली नवविवाहिता की लाश

» उन्नाव के चर्चित रेप कांड की मॉनिटरिंग अब नहीं करेगा हाईकोर्ट

» अमेठी जिले के गौरीगंज थाना क्षेत्र मे तेज रफ्तार ट्रक ने मैजिक को मारी टक्कर, 11 घायल, 5 की हालत गंभीर

» काशी में प्रियंका का रोड शो कल, सलेमपुर में जनसभा

» एमएलसी द‍िनेश प्रताप स‍िंह और जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश स‍िंह पर मुकदमा दर्ज