यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

ब्रह्मोस एयरोस्पेस के इंजीनियर निशांत अग्रवाल पर अब नागपुर में चलेगा मुकदमा


🗒 शुक्रवार, मार्च 15 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 उत्तर प्रदेश आतंकवाद निरोधक दस्ता (यूपी एटीएस) ने महाराष्ट्र एटीएस की मदद से नागपुर स्थित ब्रह्मोस एयरोस्पेस के जिस सीनियर सिस्टम इंजीनियर निशांत अग्रवाल को जासूसी के संदेह में गिरफ्तार किया था, उस पर अब नागपुर में ही मुकदमा चलेगा। यूपी एटीएस ने लखनऊ जेल में बंद निशांत को बुधवार को नागपुर कोर्ट में पेश किया था, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में नागपुर जेल भेज दिया गया।आइजी एटीएस असीम अरुण ने बताया कि चार अक्टूबर 2018 को एटीएस थाने में पाकिस्तानी एजेंटों द्वारा फर्जी फेसबुक आइडी के जरिये भारतीय रक्षा प्रतिष्ठानों के कर्मचारियों की मदद से गोपनीय दस्तावेज व जानकारियां जुटाये जाने संबंधी रिपोर्ट दर्ज की गई थी। इस कड़ी में यूपी एटीएस ने आठ अक्टूबर 2018 को नागपुर से ब्रह्मोस के इंजीनियर निशांत अग्रवाल को गिरफ्तार किया था। उसके लैपटॉप से कई गोपनीय व अतिसंवेदनशील दस्तावेज मिले थे। सामने आया था कि निशांत हनीट्रैप का शिकार हुआ था।

ब्रह्मोस एयरोस्पेस के इंजीनियर निशांत अग्रवाल पर अब नागपुर में चलेगा मुकदमा

निशांत के पाकिस्तान बेस्ड दो फर्जी फेसबुक आइडी के संपर्क में होने की बात भी सामने आई थी। तब एटीएस ने कानपुर व आगरा में रक्षा प्रतिष्ठानों से जुड़े दो अन्य व्यक्तियों के बारे में भी लंबी छानबीन की थी। आइजी एटीएस ने बताया कि गली नंबर-7, उज्जवलनगर, नागपुर (महाराष्ट्र) निवासी निशांत को ब्रह्मोस एयरोस्पेस से अनाधिकृत रूप से गोपनीय सूचनाएं जुटाने का आरोपी पाया गया। निशांत को नागपुर में गिरफ्तार किये जाने के बाद लखनऊ में स्पेशल सीजीएम की कोर्ट में पेश किया गया था।विवेचना में आरोपित निशांत अग्रवाल के खिलाफ ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के तहत अपराध किये जाने के पुख्ता साक्ष्य मिले हैं। ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के तहत नियमानुसार स्पेशल सीजेएम के न्यायालय में कंपलेंट दाखिल की गई। न्यायालय ने 12 मार्च को अपने आदेश में न्यायिक क्षेत्राधिकार न होने के कारण विवेचक को नागपुर कोर्ट में कंपलेंट दाखिल करने का निर्देश दिया था। इस पर 14 मार्च को नागपुर के न्यायालय में कंपलेंट दाखिल की गई। आरोपित निशांत को नागपुर कोर्ट में पेश किया था, जहां से उसे 14 दिनों की न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया।एटीएस ने 19 सितंबर, 2018 को मिलेट्री इंटेलीजेंस के इनपुट पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ की जासूसी के आरोप में बीएसएफ के जवान अच्युतानंद मिश्रा को गिरफ्तार किया था। बीएसएफ जवान पाकिस्तान की जिन फेक आइडी से जुड़ा था, उनकी जांच में दो और फर्जी आइडी सामने आई थीं। उन फर्जी आइडी की जांच में निशांत के बारे में पुख्ता जानकारी मिली थी।

लखनऊ से अन्य समाचार व लेख

» आशियाना थाना क्षेत्र सांई मंदिर मैदान

» राजधानी लखनऊ मे पंखे के कुंडी और रस्सी के सहारे लटका मिला छात्र का शव

» UP में सियासी सरगर्मी और बढ़ा सकती हैं सीबीआइ जांचें, जांच एजेंसी जुटा रही साक्ष्य

» उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा 2014 की आस अब विश्वास में बढ़ रही

» UPSSSC के पूर्व अध्यक्ष, सचिव व चार सदस्यों समेत अन्य पर FIR

 

नवीन समाचार व लेख

» प्रधानमंत्री को चुनाव आयोग ने दी क्लीन चिट, भाषण को नहीं माना आचार संहिता का उल्‍लंघन

» जिला अलीगढ़ से लापता युवती की आगरा में हत्या, जंगल में दफना दिया था शव

» मथुरा मे युवती संग फोटो एडिट कर ब्लैकमेलिंग से रकम ऐंठने की थे फिराक में, हुए गिरफ्तार

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा हमारी सरकार अयोध्या और मथुरा के बारे में सोचती है

» राम की नगरी अयोध्या मे पीएम मोदी ने कहा-बहनजी ने बाबा साहब के आदर्शों के विपरीत काम किया