मथुरा मे अधिकारियों ने गंभीरता से नहीं लिया किसान दिवस

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मथुरा मे अधिकारियों ने गंभीरता से नहीं लिया किसान दिवस


🗒 बुधवार, मई 16 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 किसान दिवस में बुधवार को अन्नदाता का दर्द सुनने के लिए बैंक, बिजली, मनरेगा, राजस्व, पुलिस और ¨सचाई विभाग के विभागाध्यक्ष नहीं पहुंचे। उन्होंने अपने अधीनस्थ अधिकारियों को भेजकर किसान दिवस की औपचारिकताएं पूरी कराईं। वे किसानों के सवालों का कोई संतोषजनक उत्तर न देकर उन्हें गुमराह करते रहे। सीडीओ ने सभी अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है।

मथुरा मे अधिकारियों ने गंभीरता से नहीं लिया किसान दिवस

राजीव भवन के सभाकक्ष में सीडीओ रामनिवास गुप्ता की अध्यक्षता में किसान दिवस का आयोजन किया गया। छाता के किसानों ने पुलिस पर अपने ही खेतों से निजी कार्य के लिए मिट्टी खोदकर लाते समय परेशान किए जाने का सवाल उठाया। उनकी इस समस्या को सुनकर निस्तारण करने को किसान दिवस में कोई पुलिस अफसर मौजूद नहीं था। इसी क्षेत्र के किसानों ने बताया कि उमराया और साहर माइनर की टेल तक पानी नहीं पहुंच रहा है। बलदेव रजवाह का मामला भी किसान दिवस में उठाया गया। सीडीओ ने मांट ब्रांच खंड गंगा नहर और अपर खंड आगरा कैनाल के अधिशासी अभियंता को पुकारा तो पता चला कि वे नहीं आए हैं। उन्होंने अपने अधीनस्थ अधिकारी को भेज दिया। पूछताछ में पता चला कि उन्हें कोई जानकारी नहीं है। सीडीओ ने मनरेगा में प्रस्ताव बनाकर माइनरों की सफाई करने के निर्देश दिए। किसानों ने नहर माइनरों की सफाई पर असंतोष जाहिर किया। भाकियू जिलाध्यक्ष बुद्धा ¨सह प्रधान, किसान हाकिम ¨सह और बंदी के रीतराम ने महावन तहसील में ओलों से सब्जियों की फसलों में हुए नुकसान का मुआवजा न दिए जाने की समस्या को उठाया। उपकृषि निदेशक धुरेंद्र कुमार ने बताया कि दैवीय आपदा में तत्काल राहत देने के लिए बीस करोड़ रुपये तहसील को आवंटित किए गए हैं। राजस्व विभाग की टीम सर्वे कर रही है। सर्वेक्षण के बाद मुआवजा वितरण किया जाएगा, लेकिन किसान दिवस में कोई राजस्व अधिकारी मौजूद नहीं था। बैंक, डीसी मनरेगा और बिजली संबंधी समस्याएं की सुनवाई करने के लिए किसान दिवस में कोई अफसर नहीं पहुंचा। सीडीओ ने बताया कि जिन जिम्मेदार अफसरों को किसान दिवस में आना चाहिए था, वह नहीं आए। उनको कारण बताओ नोटिस जारी किए जाएंगे।