मथुरा जनपद में हेमामालिनी बरकरार रख पायेंगी अपनी पिछली जीत का रिकॉर्ड

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मथुरा जनपद में हेमामालिनी बरकरार रख पायेंगी अपनी पिछली जीत का रिकॉर्ड


🗒 बुधवार, मार्च 20 2019
🖋 विजय सिंघल, दैनिक ब्यूरो चीफ मथुरा

टीम हेमा’ के कर्मों से नाराज भाजपाइयों ने साध रखी है चुप्पी, श्रीकांत समर्थक धड़ा भी है नाखुश

मथुरा जनपद में हेमामालिनी बरकरार रख पायेंगी अपनी पिछली जीत का रिकॉर्ड

 गठबंधन प्रत्याशी के पक्ष में कई भाजपाइयों की निष्ठा होगी डांवाडोल, भारी भितरघात का करना पड़ेगा सामना

 

ब्यूरो चीफ विजय सिंघल मथुरा जनपद में 2019 लोकसभा चुनाव में मथुरा से भाजपा का झंडा कौन उठाएगा अभी संशय में है। किंतु यदि पार्टी हाईकमान ने पुनः हेमा में ही विश्वास जताया तो हेमा अपनी पिछली जीत का रिकॉर्ड बरकरार रख पाऐंगी इसमें संदेह है। इसके पीछे कारणों की एक लंबी फेहरिस्त है जिसमे सबसे प्रमुख कारण है हेमा का खास कर्मचारी। ये कर्मचारी सांसद महोदया को तरह तरह के झूठ से पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओ के विरुद्ध बरगलाने और अपनी रोटी सेंकने में सिद्धहस्त है। ऊपर से ‘टीम हेमा’ के नाम पर इसी के अगल-बगल और आमने-सामने के 4-5 लोग नजर आते हैं। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगा कि हेमा की सांसद निधि के बंदरबांट और जनसमस्या निस्तारण में वरीयता निर्धारण पर शहर की एक ही गली के लोगों का कब्जा है। यूँ तो हेमा ने कलेक्ट्रेट के पास   सर्वसुविधायुक्त कार्यालय खुलवा रखा है जिससे आम जनपदवासियों, भाजपा के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं द्वारा सुझाये गए विकास कार्य व जनसमस्याओं का निस्तारण अथवा प्रयास पूर्ण ईमानदारी से सुनिश्चित हो किन्तु भाजपा के सैकड़ों जिला,महानगर,मंडल और बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं ने बताया कि उनके क्षेत्र में इस कर्मचारी द्वारा दूसरी पार्टियों और विरोधी धड़ों के कार्य कराए गए हैं जिससे पार्टी को वर्षों से सींच रहे भाजपाई अपने को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। आश्चर्यजनक बात यह है कि सांसद के शुरुआती दो वर्ष के कार्यकाल में सांसद निधि के विकास कार्यों में ईमानदारी और पारदर्शिता का झूठा प्रदर्शन करने वाला यह व्यक्ति आज सांसद निधि के विकास कार्यों में अपने चहेतों को सेट कर मलाई मारने में लगा है। विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि मजबूत गठबंधन प्रत्याशी और भाजपाइयों की ‘टीम हेमा’ से नाराजगी कोई बड़ा गुल खिला सकती है। सबसे बड़ी गुप्त सच्चाई ये है कि इस कर्मचारी की आज घोषित हुए रालोद के गठबंधन प्रत्याशी कुंवर नरेंद्र सिंह के प्रति गजब की निष्ठा है। पुराना नमक आज भी हलाली का जोर मारता देखा जाता है।

मथुरा से अन्य समाचार व लेख

» सड़क दुर्घटना में तीन की मौत, दो घायल, मारपीट में घायल महिला ने भी तोड़ा दम

» घर मे घुस कर दबंगो ने की फायरिंग,महिलाओं से की मारपीट

» पुलिस ने गस्त के दौरान चार लुटेरों को किया गिरफ्तार,अवैध असलाह किया बरामद

» मथुरा के फरह हाइवे पर सड़क हादसे में कार सवार दो युवकों की मौत

» मथुरा व्रन्दावन की धर्मनगरी में बढ़ता जा रहा अतिक्रमण