यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लूट या लेनदेन को लेकर हुई हत्या


🗒 मंगलवार, अप्रैल 25 2017
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

(मऊ) : स्थानीय नगर के मझवारा मोड़ क्षेत्र में सोमवार की शाम सराफा व्यवसायी की हुई हत्या को लेकर भले ही आक्रोश हो पर हत्या के कारण को लेकर सभी बस कयास तक ही सिमटे हैं। मृतक के भाई परशुराम वर्मा ने गोली मारकर आभूषण से भरा बैग लूटे जाने की प्राथमिकी दर्ज कराया है पर लूट के दौरान हत्या का यह तरीका गले से नीचे नहीं उतर रहा है। भारी राशि के लेनदेन को भी हत्या की वजह माना जा रहा है। अभी तक किसी भी तथ्य की पुष्टि न होने से बात बस अंधेरे में तीर चलाने जैसी है।

लूट या लेनदेन को लेकर हुई हत्या

अपराध के तरीके बदले, आधुनिक असलहे प्रयुक्त होने लगे और घटनाएं दिनदहाड़े बेखौफ हो रही हैं पर कारण वही रहा है। अपराध शास्त्र के इस शाश्वत कारण की कसौटी पर विनोद मौर्य की हत्या की घटना को परखें तो जोरू का मामला एक सिरे से खारिज होता है। जमीन का विवाद भी अभी तक खुले तौर पर सामने नहीं है। जर पर ध्यान केंद्रित करें तो सराफा व्यवसायी अग्रिम एवं उधार दोनों तरह से जेवर और सोना देते हैं। आभूषण बंधक रखकर पैसा भी देते हैं। नोटबंदी के दौरान भारी पैमाने पर अग्रिम राशि लेकर सोने का व्यवसाय हुआ है। जाहिर है कि इनमें से कोई न कोई एक कारण विनोद की हत्या की वजह बना है।

युवा हैं हत्यारे

विनोद वर्मा की हत्या के बाद भागते बदमाशों को तमाम नागरिकों ने देखा। बेहद युवा और स्मार्ट दिखने वाले बदमाशों ने बेहद सधे अंदाज में हत्या को अंजाम दिया।

अधिकारी भावुक

सराफा व्यवसायी विनोद वर्मा की हत्या के बाद नगर में मंगलवार को जाम के दौरान पहुंचे डीएम एवं एसपी ने मृतक के पुत्रों संदीप एवं प्रदीप की शिक्षा एवं पुत्री इलू के बाबत जानकारी प्राप्त किया। मुनिराज पुत्रों से प्रभावित हुए। उधर मृतक की पुत्री इलू ने इसी सप्ताह एक साक्षात्कार में शामिल होने के लिए प्राप्त आमंत्रण की जानकारी देते हुए अब सब कुछ बर्बाद होने की बात कहा तो जिलाधिकारी निखिल चंद्र शुक्ला भी भावुक दिखे।

सीएम तक पहुंचेगा मामला : सुजीत

ब्लाक प्रमुख सुजीत ¨सह ने विनोद की हत्या का प्रकरण मुख्यमंत्री तक पहुंचाए जाने की बात कही है। दरअसल नागरिकों ने प्रशासन के समक्ष मुख्यमंत्री को पत्र प्रेषित कर मुआवजा एवं एक आश्रित को नौकरी दिलाए जाने की मांग किया। प्रशासन ने इस पर सहमति जताया तो प्रमुख श्री ¨सह ने सीएम के संज्ञान में प्रकरण लाकर शीघ्र पर्दाफाश एवं आश्रितों की मदद के लिए कदम उठाए जाने की बात कही।

मऊ से अन्य समाचार व लेख

» घरेलू विवाद में पत्नी और दो बेटियों को गट्ठर में बांध सड़क किनारे फेंका

» बीजेपी सांसद हरिनारायन राजभर ने मंत्री अनुपमा के खिलाफ पत्र लिखने से किया इनकार

» मंत्री अनुपमा जायसवाल पर बीजेपी सांसद ने लगाया भ्रष्टाचार का गंभीर आरोप

» सीएम योगी आदित्यनाथ का अधिकारियों पर नियंत्रण नहीं: अमर सिंह

» मऊ मे घाघरा के तेज बहाव के बीच पीपापुल से टकराकर डूब गई नाव, 15 लापता

 

नवीन समाचार व लेख

» बाराबंकी मे सेना की शराब की तस्करी का भंडाफोड़, 550 बोतल बरामद

» UP मे एक ने प्रेमिका के दूल्हे पर तानी बंदूक, दूसरा बिना दुल्हन लौटा

» अमित शाह की हरियाणा की सभी 10 लोस सीटों पर निगाह, प्रदेश के नेताओं संग की चर्चा

» लखनऊ मे सेना के जवानों ने फर्जी वारंट पर बनाए टिकट

» UP में प्रशासनिक फेरबदल, चार जिलों के डीएम भी बदले