यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रियंका गांधी अस्पताल में भर्ती भीम आर्मी प्रमुख का हालचाल जानने पहुंचीं


🗒 बुधवार, मार्च 13 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

आनंद हास्पिटल में भर्ती भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने बुधवार शाम कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पहुंचीं। उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पश्चिम यूपी के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद थे। सियासी गलियारे में इस मुलाकात को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं।आनंद हास्पिटल में भर्ती भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर से मिलने बुधवार शाम कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पहुंचीं। उनके साथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर और पश्चिम यूपी के प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद थे। सियासी गलियारे में इस मुलाकात को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं।

प्रियंका गांधी अस्पताल में भर्ती भीम आर्मी प्रमुख का हालचाल जानने पहुंचीं

इस मुलाकात के बाद प्रियंका भूसा मंडी में कुछ दिन पूर्व हुए बवाल व आगजनी के पीडि़तों से मिलने मछेरान जाएंगी। वहां से बसा टीकरी गांव में शहीद अजय कुमार के घर जाने का भी कार्यक्रम है। इससे पहले प्रियंका गांधी के मेरठ के आनंद अस्पताल पहुंचने की खबर सुनते ही स्थानीय कांग्रेसी नेता और कार्यकर्ताओं अस्पताल पहुंचने लगे। इस पर उन्हें भीम आर्मी कार्यकर्ताओं ने उन्हें भगा दिया।मंगलवार को चंद्रशेखर तबीयत उस समय खराब हो गई जब वह सहारनपुर से दिल्ली के लिए बहुजन सुरक्षा अधिकार यात्रा निकाल रहे थे। यात्रा देवबंद पहुंची तभी अनुमति न होने के कारण पुलिस ने उसे रोक दिया और चंद्रशेखर को हिरासत में ले लिया। पुलिस की कार्रवाई से नाराज उनके समर्थकों ने हाईवे पर हंगामा शुरू कर दिया। गुस्साई भीड़ की अधिकारियों से जमकर नोकझोंक हुई। हंगामे के बीच अचानक चंद्रशेखर की तबीयत बिगड़ी और वह बेहोश हो गए। इसके बाद उन्हें मेरठ लाया गया और आनंद हास्पिटल में भर्ती कराया गया था।चंद्रशेखर और प्रियंका गांधी की इस मुलाकात के सियासी मायने निकाले जाने शुरू हो गए हैं। एक दिन पहले ही सपा-बसपा गठबंधन में कांग्रेस की इंट्री की चर्चाओं पर विराम लगाते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने साफ कह दिया था कि गठबंधन भाजपा को परास्त करने की पूरी क्षमता रखता है इसलिए किसी भी राज्य में कांग्रेस से गठबंधन या कोई तालमेल नहीं किया जाएगा। इन परिस्थितियों में कांग्रेस के पास दलितों के बीच पैठ बनाने के लिए चंद्रशेखर उचित माध्यम के रूप में दिख रहे हैं। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस क्या भीम आर्मी को रिझा पाएगी।

मेरठ से अन्य समाचार व लेख

» मेरठ मे नलकूप खंड में तैनात जेई की घर में घुसकर बेरहमी से हत्या

» मेरठ मे फैमिली पेंशन के नाम ली रिश्वत, बाबू और महिला गिरफ्तार

» जिला मेरठ में स्टेचू बनाने के कारखाने में लगी भीषण आग

» मेरठ मे कक्षा में बच्‍चों के सामने गुरुजी कर रहे थे ये गंदा काम, हो गए निलंबित

» मेरठ के सोना लूट कांड में मुख्य आरोपित समेत तीन लुटेरे गिरफ्तार

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर शहर में लुटेरों की धमाचौकड़ी, विधायक आवास के सामने लूट से मची सनसनी

» महोबा-सोशल मीडिया पर किसी राजनीतिक दल या किसी उम्मीदवार का प्रचार करने पर पड़ सकता है महंगा

» लखनऊ मे मायावती के करीबी अफसर रहे नेतराम के यहां छापे, मिले 225 करोड़ रुपये संपत्ति के दस्तावेज

» राजधानी के चर्चित ओमेक्स रेजीडेंसी के फ्लैट में पुलिसकर्मियों के डाका डालने के मामले में आरोपित मधुकर पुलिस रिमांड पर

» गोवर्धन में एसडीएम ने बैठक कर की अपील शांति पूर्ण ढंग से मनाएं होली का त्योहार