यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मेरठ में पुलिस कस्टडी से फरार होने के मामले में केपीएस के मालिक भानू प्रताप की मदद से भागा था बद्दो


🗒 सोमवार, अप्रैल 15 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 गाजियाबाद में पेशी के बाद कुख्यात बदन सिंह बद्दो के मेरठ में पुलिस कस्टडी से फरार होने के मामले में दिलचस्प कहानी सामने आई है। बद्दो होटल मुकुट महल से साकेत और फिर करन पब्लिक स्कूल के मालिक भानू प्रताप के बीसी लाइंस कैंट स्थित आवास पर गया। खुद को पैरोल पर आना बताकर वह भानू के साथ हापुड़ होते हुए दिल्ली गया। इससे पहले वह शास्त्रीनगर में एक तेरहवीं में भी शामिल हुआ। पुलिस ने रविवार को भानू प्रताप व हाल दिल्ली व मूलरूप से बिजनौर निवासी उसके कर्मचारी राहुल के अलावा मिक्का सरदार व उसके कर्मचारी अरूण को गिरफ्तार कर लिया। 

 मेरठ में पुलिस कस्टडी से फरार होने के मामले में केपीएस के मालिक भानू प्रताप की मदद से भागा था बद्दो

बद्दो की तलाश में ब्रह्रमपुरी थाना पुलिस से लेकर एसओजी,सर्विलांस टीम,क्राइम ब्रांच व एसटीएफ तक जुटी है। सभी टीमें अपने-अपने स्तर से काम कर बद्दो की फरारी से जुड़े लोगों को हिरासत में ले रही हैं। इसी कड़ी में पुलिस ने सबसे पहले कंकरखेड़ा के शिवपुरी निवासी फाइनेंसर मिक्की सरदार को उठाया। मिक्की का सदर में हनुमान चौक पर दफ्तर है। मिक्की को पकड़ने के अगले ही दिन पुलिस ने गढ़ रोड पर वैशाली निवासी मिक्की के करीबी अरुण को हिरासत में लिया था। अरुण के बाद पुलिस ने बद्दो की साकेत निवासी महिला मित्र को हिरासत में लिया,जो ब्यूटी पार्लर चलाती है। तीनों से पूछताछ में सामने आया कि बद्दो मिक्की के साथ होटल से कार में भागा। मिक्की ने उसे साकेत में महिला मित्र के घर छोड़ा और महिला मित्र उसे करन पब्लिक स्कूल के मालिक भानू प्रताप के घर छोड़कर आई। बद्दो भानू प्रताप के साथ उसी की इंडेवर कार में दिल्ली के लिए रवाना हुआ। बद्दो ने हापुड़ होते हुए दिल्ली जाने का रूट चुना। हापुड़ रोड पर पहुंचने से पहले वह शास्त्रीनगर में एक तेरहवीं में भी शामिल हुआ, लेकिन चंद मिनट रुकने के बाद वह वहां से निकल गया। भानू प्रताप के मुताबिक,वह बद्दो के साथ अपनी पुरानी यादें साझा करते हुए दिल्ली जा रहा था। इसी दौरान उसने पैरोल मिलने की बधाई भी दी,लेकिन रास्ते में ही उसके पास आए एक फोन ने चेहरे की हवाईयां उड़ा दीं। फोन पर बद्दो के कस्टडी से फरार होने की सूचना मिली। इसके बाद भी अनभिज्ञ होकर भानू चुपचाप गाड़ी दौड़ाता रहा। पूछताछ में सामने आया है कि बद्दो दिल्ली में एक मेट्रो स्टेशन पर उतरा और भानू को भेज दिया। इसके बाद भानू प्रताप ग्रेटर कैलाश स्थित अपने फ्लैट पर चला गया। पुलिस ने वहीं से भानू व उसके कर्मचारी राहुल को हिरासत में लिया। 

सूत्रों के मुताबिक मैराथन पूछताछ के बाद बद्दो की महिला मित्र का रोल सामने नहीं आया है। लिहाजा पुलिस ने उसे फिलहाल क्लीनचिट देते हुए छोड़ दिया है। हालांकि पुलिस का कहना है कि सुबूत मिलने पर गिरफ्तार किया जाएगा। पुलिस कस्टडी से बद्दो के फरार होने के मामले की परत जैसे-जैसे खुलती जा रही हैं, वैसे-वैसे पुलिस सवालों के घेरे में आती जा रही है। जिस दिन बद्दो फरार हुआ,उस दिन मेरठ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली थी। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा का दावा किया जा रहा था, लेकिन बद्दो पुलिस के कथित इंतजामों को धता-बताकर मेरठ ही नहीं,गाजियाबाद की सीमा पार कर दिल्ली पहुंच गया। करन पब्लिक स्कूल के मालिक भानू प्रताप से पूछताछ में जो बात सामने आई है, उससे साफ जाहिर है कि बद्दो पुलिस से पूरी तरह बेफिक्र था। उसे पेशी पर लाने वाले फतेहगढ़ के पुलिसकर्मियों का नशा तीन घंटे बाद ही उतरेगा, यह बद्दो को शायद पता था। वह बागपत रोड से साकेत गया,वहां से कैंट और फिर शास्त्रीनगर तेरहवीं में शामिल हुआ। इसका मतलब उसने बेहद सुनियोजित तरीके से फरार होने का जाल बुन रखा था। वह एक के बाद एक मेरठ में आधा दर्जन से अधिक थानों की सीमाओं से गुजरा, लेकिन पुलिस कहीं नहीं दिखाई दी। मिक्की सरदार और उसके सहयोगी अरूण के अलावा भानू प्रताप व राहुल को गिरफ्तार कर लिया गया है। सभी को सोमवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। कई अन्य लोगों से पूछताछ चल रही है। 
- डॉ.अखिलेश नारायण सिंह,एसपी सिटी 
सिकंदर के जरिये संपर्क में था 

मिक्की सरदार, अरुण, बद्दो की महिला मित्र, करन पब्लिक स्कूल के मालिक भानू प्रताप और राहुल से पूछताछ में बद्दे को फरार होने का रूट लगभग स्पष्ट हो चुका है। जांच में सामने आया है कि बद्दो अपने बेटे सिकंदर के जरिये करीबियों के संपर्क में था। सिकंदर का भानू के घर आना-जाना था। बदन सिंह बद्दो की धरपकड़ के लिए उसके करीबियों की घेराबंदी में जुटी मेरठ पुलिस के खिलाफ सोमवार को कोर्ट में याचिका दायर होने वाली है। मिक्की सरदार और अरुण की पैरवी कर रहे अधिवक्ता संजीव गुर्जर ने बताया कि वह सोमवार को अदालत में पुलिस के खिलाफ याचिका दायर करने जा रहे हैं। आरोप है कि पुलिस संदिग्ध लोगों को हिरासत में पूछताछ के नाम पर परेशान कर रही है। अधिवक्ता संजीव गुर्जर ने बताया कि पुलिस ने 12 अप्रैल को ग्रेटर कैलाश दिल्ली में दबिश देकर करन पब्लिक स्कूल के मालिक भानू प्रताप को भी पकड़ लिया। भानू प्रताप के साथ मौजूद मिले राहुल को भी हिरासत में ले लिया था। तब से भानू प्रताप को भी अवैध हिरासत में रखा हुआ था। संजीव गुर्जर का कहना है कि 24 घंटे से ज्यादा हिरासत में रखना गैर-कानूनी है। बद्दो को मेरठ से दिल्ली तक पहुंचने में अभी तक दो कारों के इस्तेमाल की बात सामने आई है। होटल मुकुट महल से मिक्की अपनी स्विफ्ट कार में लेकर निकला था। जबकि भानू ने अपनी इंडेवर कार से बद्दो को दिल्ली छोड़ा। पुलिस ने दोनों कार बरामद कर ली हैं। 

मेरठ से अन्य समाचार व लेख

» मेरठ में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा अगर गठबंधन को अली पर विश्वास है तो हमें बजरंगबली पर

» फर्जी IFS प्रकरण मे अफगानिस्तान व दुबई समेत कई देशों में था जोया का संपर्क

» मेरठ मे प्रेमिका को बहन बताकर होटल में कमरा लिया, फिर किए चाकू से ताबड़तोड़ वार

» मेरठ एसटीएफ की टीम ने गुजरात में सराफ कारोबारी की हत्या करने में शामिल मुख्य आरोपी को दबोचा

» मेरठ में हुई भाजपा की रैली में भाजपा नेता के बिगड़े बोल, कहा-स्कर्ट वाली बाई साड़ी पहनकर मंदिर में जाने लगी

 

नवीन समाचार व लेख

» राजधानी लखनऊ मे कंटेनर में घुसी तेज रफ्तार DCM, वाहन की बॉडी काटकर निकाले गए चालक-क्लीनर

» ऑक्सफोर्ड इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पीसीबी हॉस्टल में छात्र की हत्या, छात्रों का उपद्रव

» राजधानी लखनऊ पुलिस और GRP का कारनामा युवती के शव का बिना शिनाख्त करा दिया अंतिम संस्कार

» लखनऊ के मोहनलालगंज सीट पर त्रिकोणीय मुकाबले की बन रही तस्वीर

» जिला चित्रकूट के मानिकपुर में तेज धमाके की आवाज सुन घरों से बाहर आए लोग, ये हुई घटना