यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सीएम के नाम पर फंसा पेच, राजस्थान में समर्थक बेकाबू; बसों में तोड़फोड़


🗒 गुरुवार, दिसंबर 13 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

 मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनावों में जीत के बाद कांग्रेस ने वापसी तो कर ली है, लेकिन इन राज्यों में मुख्यमंत्री किसे बनाया जाए, इसका फैसला कांग्रेस आलाकमान अभी नहीं कर पाया है। तीनों राज्यों में कांग्रेसी कार्यकर्ता अपने-अपने नेताओँ के समर्थन में नारेबाजी कर रहे हैं। भोपाल में कांग्रेस मुख्यालय के बाहर कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक आमने-सामने दिख रहे हैं। वहीं राजस्थान में कांग्रेस कार्यकर्ता उग्र होते दिख रहे हैं। सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की मांग को लेकर कुछ कार्यकर्ताओं ने एनएच- 21 पर जाम लगा दिया है। रोडवेज की एक बस में तोड़फोड़ भी की गई है।

सीएम के नाम पर फंसा पेच, राजस्थान में समर्थक बेकाबू; बसों में तोड़फोड़

बतादें कि बुधवार को इन तीनों राज्यों में विधायक दल की बैठक के बाद पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को सीएम का नाम फाइनल करने का प्रस्ताव दिया गया था। ऐसे में मुख्यमंत्री पर अंतिम फैसला पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को लेना था। 

सचिन पायलट ने पार्टी कार्यकर्ताओं से शांति और शिष्टाचार बनाए रखने की अपील की है। पायलट ने एक बयान जारी कर कहा 'मुझे नेतृत्व पर पूरा भरोसा है। राहुल जी और सोनिया जी जो भी फैसला लेंगे वो मुझे मान्य होगा। पार्टी के सम्मान को बनाए रखना हमारी जिम्मेदारी है। हम पार्टी के लिए समर्पित हैं।'

- सचिन पायलट को सीएम बनाने की मांग को लेकर कांग्रेसियों ने एनएच-21 जाम किया, बस में भी लगाई आग।

राजस्थान के करौली में सचिन पायलट के समर्थकों ने रोड जाम किया।

- जयपुर में सचिन पायलट के घर के बाहर जुटे समर्थक, नारेबाजी कर रहे हैं।

भोपाल में कांग्रेस मुख्यालय के बाहर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं की नारेबाजी, कमलनाथ और सिंधिया के समर्थक आमने-सामनेराजस्थान में सीएम के पद को लेकर सस्पेंस बरकरार, अशोक गहलोत और सचिन पायलट को दिल्ली में रोका गया।सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के घर पहुंची।सूत्रों के मुताबिक राजस्थान के लिए गहलोत और मध्य प्रदेश के लिए कमलनाथ का नाम तय माना जा रहा है। उधर, सिंधिया को डिप्टी सीएम बनाए जाने की भी ख़बरें मिल रही हैं।
- सचिन पायलट और अशोक गहलोत के साथ राहुल गांधी की बैठक खत्म हो गई है। बैठक खत्‍म होने के बाद पहले राहुल के घर से बाहर सचिन पायलट निकले, उसके कुछ समय बाद अशोक गहलोत बाहर आए।राहुल गांधी ने सचिन पायलट और अशोक गहलोत को अपने आवास पर बुलाया है। राहुल दोनों नेताओं से भी उनकी दावेदारी पर बात करेंगे। उसके बाद ही कोई फैसला हो पाएगा। दोनों नेता राहुल गांधी के घर पहुंचे चुके हैं। जहां उनसे बातचीत जारी है। 
- राजस्थान के निर्दलीय विधायक महादेव सिंह खंडेला ने अशोक गहलोत को सीएम बनाने की मांग की। खंडेला ने कहा, 'राजस्थान की जनता अशोक गहलोत को सीएम देखना चाहती है। मैं भी यही चाहता हूं और मुझे लगता है कि हाईकमान भी यही फैसला लेगी।'

राजस्थान के निर्दलीय विधायक राजकुमार गौड़ ने कहा, 'अशोक गहलोत दो बार राजस्थान के सीएम रहे हैं। उनके पास अनुभव है। राजस्थान की जनता और विधायक उन्हें ही सीएम देखना चाहते हैं।' 
- राजस्थान का सीएम किसे बनाया जाए, इसे लेकर राहुल गांधी और पर्यवेक्षकों के बीच मंथन जारी है। वहीं, दूसरी ओर निर्दलीय विधायकों के बयान आ रहे हैं। ज्यादातर विधायक अशोक गहलोत को सीएम देखना चाहते हैं। 

- अशोक गहलोत और सचिन पायलट के समर्थक भी दिल्ली पहुंच गए हैं। दोनों के समर्थक कांग्रेस कार्यालय के बाहर अपने-अपने नेताओं को सीएम बनाने के लिए नारेबाजी कर रहे हैं। संसद के लिए जाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि विधायकों और कार्यकर्ताओं से राय ली जा रही है, सीएम पद पर जल्द ही फैसला हो जाएगा। 
-  राजस्थान के पर्यवेक्षक के.के. वेणुगोपाल राहुल गांधी से मिलने पहुंचे हैं। वहीं, मल्लिकार्जुन खड़गे भी राहुल से मिलकर छत्तीसगढ़ के सीएम के लिए अपनी राय जता चुके हैं। अब अंतिम फैसला राहुल गांधी करेंगे। 
- राजस्थान में सीएम के दावेदार सचिन पायलट और अशोक गहलोत, राहुल गांधी से मिलने दिल्ली पहुंच चुके हैं। उधर, राहुल गांधी ने पर्यवेक्षकों को भी मुलाकात के लिए बुलाया है। दोनों से बातचीत के बाद ही राहुल गांधी, राजस्थान के सीएम की घोषणा करेंगे। अशोक गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'पर्यवेक्षकों ने शांतिपूर्ण तरीके से सभी की राय ले ली है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को (राजस्थान के सीएम उम्मीदवार पर) निर्णय लेना है। पर्यवेक्षक दिल्ली पहुंच चुके हैं। आज बातचीत होगी और निर्णय लिया जाएगा।'राजस्थान में वसुंधरा सरकार को सत्ता से बेदखल कर कांग्रेस सहयोगियों की मदद से सरकार बनाने जा रही है। यहां पार्टी के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत और युवा नेता सचिन पायलट मुख्यमंत्री रेस में हैं। दोनों नेताओं के बीच मुख्यमंत्री पद के लिए खींचतान की ख़बरें आ रही हैं, दोनों के समर्थक अपने नेता को सीएम देखना चाहते हैं।इन तीनों राज्यों में छत्तीसगढ़ को छोड़ दें तो कांग्रेस को बहुमत नहीं मिला है। मध्यप्रदेश में कांग्रेस को 230 में 114 सीटों पर जीत मिली है, जबकि राजस्थान में 200 में 199 सीटों पर हुए चुनाव में 99 सीटें पार्टी की झोली में आई हैं। 

दोनों ही जगह पार्टी को सरकार बनाने के लिए बसपा और निर्दलियों का समर्थन मिल गया है। इस तरह कांग्रेस का दावा है कि उसके मध्यप्रदेश में 122 विधायकों और राजस्थान में 105 से ज्यादा विधायकों  का समर्थन हासिल है। छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने 90 में से 68 सीटों पर भारी बहुमत से जीत हासिल की है। 

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» एयर स्ट्राइक से बढ़ी निर्मला सीतारमण की मांग, मोदी और शाह सहित स्टार प्रचारकों की मांग बढ़ी

» बेनतीजा रही महागठबंधन की बैठक, फिर होगा मंथन

» सरकार ने लोकसभा चुनाव प्रस्ताव को अधिसूचना के लिए राष्ट्रपति के पास भेजा

» स्‍मृति ईरानी ने राहुल गांधी, रॉबर्ट वाड्रा पर लगाए गंभीर आरोप, प्रियंका से भी जोड़े भ्रष्‍टाचार के तार

» 'चौकीदार चोर है' से आहत सुरक्षा गार्ड, राहुल गांधी के खिलाफ मामला दर्ज कराने पहुंचे थाने

 

नवीन समाचार व लेख

» मथुरा में रंगोत्सव 2019 का रंगारंग आगाज ब्रज पर आधारित सीडी का हुआ विमोचन

» मथुरा में चुनाव की व्यवस्थाओं को देखने मंडी समिति पहुंचे डीएम एसएसपी मंडी सचिव मिले नदारद सख्त चेतावनी

» मथुरा के व्रन्दावन में 23 मार्च से शुरू होगा रथ का मेला बाली पूर्ण कोठी से होगा शुभारंभ

» मथुरा में पुलिस और गौ रक्षकों की कर्त्तव्यनिष्ठा के चलते बीती रात एक बड़ी सफलता लगी हाथ

» मथुरा के बरसाना में लट्ठमार होली को लेकर प्रशासन ने कसी कमर बरसाना को 3 जोन और 9 सैक्टर में बांटा