यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस मे CBI ने कुछ नेताओं को फंसाने के लिए गढ़ी कहानी


🗒 शुक्रवार, दिसंबर 28 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

विशेष सीबीआइ अदालत ने कहा है कि गैंगस्टर सोहराबुद्दीन शेख, उसकी पत्नी कौसर बी और उसके सहयोगी तुलसीराम प्रजापति की कथित फर्जी मुठभेड़ की जांच सीबीआइ पूर्व नियोजित और पूर्व निर्धारित थ्योरी के आधार पर कर रही थी ताकि राजनीतिक नेताओं को उसमें फंसाया जा सके।

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस मे CBI ने कुछ नेताओं को फंसाने के लिए गढ़ी कहानी

विशेष सीबीआइ जज एसजे शर्मा ने 21 दिसंबर को अपने 350 पन्नों के आदेश में यह टिप्पणी की थी। उन्होंने तीन लोगों की मौत पर दु:ख व्यक्त करते हुए इस मामले के सभी 22 आरोपितों को बरी कर दिया था। फैसले की प्रति अभी भी उपलब्ध नहीं है, लेकिन शुक्रवार को इसके कुछ अंश मीडिया को उपलब्ध कराए गए।अपने आदेश में जज शर्मा ने कहा कि उनके पूर्ववर्ती (जज एमबी गोसावी) ने आरोपित नंबर 16 (भाजपा अध्यक्ष अमित शाह) को बरी करने का आदेश सुनाते हुए कहा था कि जांच राजनीति से प्रेरित थी। जज शर्मा ने कहा, 'मेरे समक्ष पेश की गई सारी सामग्री पर निष्पक्ष विचार और हर गवाह व साक्ष्य के परीक्षण के बाद मुझे यह कहने में कोई संकोच नहीं है कि सीबीआइ जैसी प्रतिष्ठित जांच एजेंसी के पास पूर्व नियोजित और पूर्व निर्धारित थ्योरी थी और इसकी पटकथा का मकसद राजनीतिक नेताओं को फंसाना था।'उन्होंने कहा कि मामले की जांच करने की बजाय सीबीआइ कुछ और ही कर रही थी। सीबीआइ ने कानून के मुताबिक जांच करने की बजाय वही किया जो 'मकसद' हासिल करने के लिए जरूरी था। इसके लिए सीबीआइ ने साक्ष्य निर्मित किए और आरोपपत्र में गवाहों के बयान दिए। ऐसे बयान अदालत में टिक नहीं सकते और गवाह अदालत में बेखौफ पेश हुए। उनकी गवाही से संकेत मिलता है कि सीबीआइ ने उनके बयान गलत दर्ज किए ताकि राजनीतिक नेताओं को फंसाने की उसकी पटकथा की पुष्टि हो सके। सीबीआइ ने जल्दबाजी में पुलिसकर्मियों को फंसाया जिन्हें साजिश की कोई जानकारी ही नहीं थी। इसकी बजाय वे निर्दोष प्रतीत हुए।आदेश के मुताबिक, सीबीआइ के पास इस थ्योरी को साबित करने के लिए कोई साक्ष्य नहीं था कि मारे गए तीनों लोगों का पुलिस टीम ने अपहरण किया था। सीबीआइ यह साबित करने में भी नाकाम रही कि आरोपित पुलिसकर्मी घटनास्थल पर मौजूद थे। न ही ऐसा कोई गवाह पेश हुआ जो कहे कि पुलिसकर्मियों को सरकारी हथियार दिए गए थे।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» भारत ने भूटान की मदद के लिए बढ़ाया हाथ, 4,500 करोड़ रुपये की वित्तीय मदद का एलान

» फिल्‍म द एक्‍सीडेंटल प्राइम मिनिस्‍टर का ट्रेलर रिलीज होने के बाद विवादों में कांग्रेस ने कहा-विवादित सीन हटाए बिना नहीं होने देंगे फिल्‍म का प्रदर्शन

» सांसदों को भारी पड़ेगा हंगामा, लागू हो सकती है निलंबन की व्यवस्था

» भाजपा ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए 17 राज्यों के लिए नियुक्त किए प्रभारी

» सिंधिया खेमे के एक तिहाई से ज्यादा मंत्री शामिल

 

नवीन समाचार व लेख

» राजधानी मे एटीएम क्लोनिंग कर 40 मिनट में उड़ाए 85 हजार रुपये

» केंद्रीय मंत्री साध्‍वी निरंजन ज्‍योति ने कहा कि तीन तलाक के मुद्दे पर कांग्रेस का असली चेहरा नजर आया

» मोहनलालगंज मे मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया

» आलमबाग थाना क्षेत्र में नकली अण्डा फैक्ट्री का भण्डाफोर

» अलीगढ़-:जिलाधिकारी की अध्यक्षता में हुई जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक जिला अधिकारी ने दिये महत्वपूर्ण निर्देश