यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लालू अस्‍पताल से कर रहे राजनीति, SC में CBI ने दाखिल किया हलफनामा


🗒 मंगलवार, अप्रैल 09 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

केंद्रीय जांच एजेंसी CBI ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में राजद सुप्रीमो लालू यादव की जमानत याचिका के मामले में जवाब दाखिल कर दिया है। सीबीआइ की ओर से दिए गए हलफनामे में कहा गया है कि चारा घोटाले के चार मामलों के सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव जेल-अस्‍पताल से रहकर राजनीति कर रहे हैं। एजेंसी की ओर से लालू को बेल नहीं देने की मांग की गई है।CBI ने राजद प्रमुख की जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि लालू बीमारी के आधार पर जमानत मांग रहे हैं ताकि उसकी आड़ में चुनाव में पार्टी की राजनीतिक गतिविधियां जारी रख सकें। मालूम हो कि करोड़ों रुपये के चारा घोटाला से संबंधित तीन मामलों में राजद सुप्रीमो ने जमानत के लिए शीर्ष कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ उनकी जमानत याचिका पर 10 अप्रैल को सुनवाई करेगी।

लालू अस्‍पताल से कर रहे राजनीति, SC में CBI ने दाखिल किया हलफनामा

सीबीआइ ने लालू की जमानत अर्जी के विरोध मे दाखिल अपने हलफनामे में कहा कि लालू अति गंभीर बीमारी के इलाज के लिए राची के रिम्‍स अस्पताल में हैं और अस्पताल से वे राजनीतिक गतिविधियां चला रहे हैं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने लालू प्रसाद की जमानत याचिका पर सीबीआइ से 9 अप्रैल तक जवाब मांगा था। राजद सुप्रीमो ने झारखण्ड हाई कोर्ट के 10 जनवरी के फैसले को चुनौती दी है। हाई कोर्ट ने मामलों में उन्हें जमानत देने इन्कार किया है। ये मामले 900 करोड़ रुपये से ज्यादा के चारा घोटाला से संबंधित हैं। 1990 के शुरू में कोषागार से जालसाजी कर पैसे की निकासी की गई थी। उस समय बिहार का बंटवारा नहीं हुआ था और राज्य की तत्कालीन राजद सरकार में लालू यादव मुख्यमंत्री थे।वर्ष 2017 से ही चारा घोटाले के चार मामलों में झारखंड की राजधानी रांची के बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल में बंद यादव ने अपनी अधिक उम्र और खराब स्वास्थ्य का हवाला देते हुए झारखंड हाई कोर्ट से जमानत की गुहार लगाई थी। 71 वर्षीय यादव ने अपनी याचिका में कहा है कि वह डायबिटीज, ब्लड प्रेशर एवं अन्य बीमारियों से जूझ रहे हैं। चारा घोटाला के एक मामले में वह जमानत ले चुके हैं। लालू प्रसाद यादव को देवघर दुमका और चाइबासा के कोषागार से जालसाजी से पैसे निकाले के मामले में सजा दी गई है। चाइबासा कोषागार से संबंधित दो में से एक मामले में उन्हें जमानत मिल चुकी है। वर्तमान में डोरंडा कोषागार से निकासी से संबंधित पांचवें मामले का वह सामना कर रहे हैं।

लालू प्रसाद यादव की ओर से सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस नेता और वरिष्‍ठ वकील कपिल सिब्‍बल ने जमानत की पैरवी करते हुए जल्‍द सुनवाई की मांग की थी। बहरहाल रांची के रिम्‍स में अपनी बीमारियों का इलाज करा रहे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव जेल में रहेंगे या फिर लोकसभा चुनाव 2019 में अपनी पार्टी राजद की चुनावी गतिविधियों में भाग लेंगे इस पर अब बुधवार को फैसला होगा। झारखंड हाई कोर्ट जनवरी 2019 में तमाम दलीलों को खारिज करते हुए गंभीर अपराध का हवाला देकर लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका खारिज कर चुका है।इससे पहले झारखंड हाई कोर्ट से बिहार के पूर्व सीएम व राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को तब बड़ा झटका लगा। जब जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी। सीबीआइ कोर्ट ने लालू प्रसाद को देवघर, दुमका और चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में सजा सुनाई है। उनकी ओर से हाई कोर्ट से उक्त तीनों मामलों में सजा को निलंबित करते हुए जमानत प्रदान करने का आग्रह किया गया था। लालू ने इन्‍हीं तीन मामलों में सुप्रीम कोर्ट से भी जमानत मांगी है।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» मतदान दिवस पर सरकार ने सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की

» हेलीकॉप्टर घोटाले में 'RG' को मिले थे 50 करोड़, रहस्य सुलझाने की कोशिश में जुटा ईडी

» कांग्रेस का राष्ट्रीय न्यायिक आयोग के गठन का वायदा

» तेज प्रताप को मिली हत्‍या की धमकी लालू खफा, RJD में भी लटकी कार्रवाई की तलवार

» अब कश्मीर में पार्टियां उठा रहीं धारा 370 का मुद्दा, भाजपा हुई खामोश

 

नवीन समाचार व लेख

» कन्नोज मे चारपाई पर पिता का शव देख रो रही बेटी ने खोल दी मां की घिनौनी करतूत

» जिला प्रयागराज के मऊआइमा में कनपटी पर सटाया तमंचा और लूट लिया दो लाख रुपये

» वाराणसी के बाबतपुर एयरपोर्ट पर विदेशी महिला पर्यटक के पास कई देशों की काफी नगदी बरामद

» UP मे आचार संहिता उल्लंघन के करीब 300 मुकदमे

» कल से लखनऊ और मोहनलालगंज के लिए नामांकन