मारपीट की घटना से आहत मुख्य सचिव ले सकते हैं दिल्ली सरकार से तबादला

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मारपीट की घटना से आहत मुख्य सचिव ले सकते हैं दिल्ली सरकार से तबादला


🗒 शनिवार, फरवरी 24 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश दिल्ली सरकार से तबादला ले सकते हैं। मारपीट की घटना से वह बहुत आहत हैं। वह गुरुवार और शुक्रवार को कार्यालय नहीं आए। बताया जा रहा है कि इस तरह के माहौल को देखते हुए उन्होंने केंद्र सरकार से दिल्ली सरकार में नहीं रहने की इच्छा जताई है।

मारपीट की घटना से आहत मुख्य सचिव ले सकते हैं दिल्ली सरकार से तबादला

1986 बैच के आइएएस अधिकारी अंशु प्रकाश ने हमेशा आप सरकार को सहयोग किया है। यहां तक कि मुख्यमंत्री के साथ औचक निरीक्षणों में भी अस्पतालों आदि में साथ गए हैं। उनकी गिनती महत्वपूर्ण फैसले जल्द लेने वाले अधिकारियों में होती है। वह अपने विनम्र स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। वे केजरीवाल सरकार में चौथे मुख्य सचिव के रूप में सेवा दे रहे हैं। उन्हें सबसे ज्यादा नाराजगी इस बात से भी है कि केजरीवाल और सिसोदिया के सामने उनके साथ मारपीट की गई और पार्टी के इन दिग्गज नेताओं ने इस घटना के खिलाफ एक शब्द भी नहीं बोला, बल्कि घटना को ही गलत साबित करने में लगे हैं।

भाजपा ने मुख्यमंत्री आवास में मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से हुई मारपीट की घटना की सीबीआइ जांच कराने की मांग की है। उसका कहना है कि दिल्ली सरकार अराजक व्यवहार करके भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था को तहस-नहस करना चाहती है। मुख्य सचिव के साथ मारपीट इसका ज्वलंत उदाहरण है। नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता का कहना है कि अधिकारियों की पिटाई करने को लेकर विधायक नरेश बाल्यान के बयान से आम आदमी पार्टी के चाल, चरित्र और चेहरे का पता चलता है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निवास पर मुख्य सचिव के साथ हुई मारपीट के विरोध में अधिकारियों का आंदोलन और जोर पकड़ रहा है। मुख्य सचिव के समर्थन में सोमवार को देशभर में जिला मुख्यालय पर अधिकारी मौन रखेंगे और इस घटना की निंदा करेंगे। इस संबंध में दिल्ली में आंदोलन चला रही आइएएस एसोसिएशन को देश भर के संगठनों ने भरोसा दिया है। एक वरिष्ठ आइएएस अधिकारी का कहना है कि मुख्य सचिव के साथ हुई घटना से अधिकारियों में रोष है। देशभर के आइएएस, दानिक्स व फॉरेस्ट सर्विस सहित अधिकारियों की विभिन्न एसोसिएशन उनके साथ आ चुकी हैं। इस घटना के विरोध में जिला मुख्यालयों पर डीएम के नेतृत्व में अन्य अधिकारी व कर्मचारी दिल्ली की तरह लंच के समय पांच मिनट का मौन रखेंगे।

नयी दिल्ली से अन्य समाचार व लेख

» शॉपिंग मॉल में तेंदुआ की खबर सुन मचा हड़कंप,वन विभाग के अधिकारियों ने दबोचा

» सीबीआइ प्रमुख बनने की रेस में कई नाम शामिल

» लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार का बड़ा फैसला, आर्थिक रुप से पिछड़े सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण मिलेगा

» मुख्य सचिव के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट मे अवमानना की मांग

» भारत के नए मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई बने, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर के किदवई नगर मे 'लुटेरी दुल्हन' के जाल में इस तरह फंस गया एयरफोर्स कर्मी, लाखों लगाया चूना

» अब तक लोकसभा चुनाव में आचार संहिता उल्लंघन के 4349 मामले आए सामने

» जिला चंदौली में भिड़े भाजपा तथा सपा कार्यकर्ता, चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

» महोबा मे तब तक बेरहमी से पीटता रहा जबतक नहीं चली गई मासूम की जान

» कानपुर के चकेरी मे लिफ्ट देकर बनाते थे शिकार, फिल्मी सीन की तरह हत्थे चढ़े लुटेरे