यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान को नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यनल का नोटिस


🗒 बुधवार, अप्रैल 04 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

दिल्ली-एनसीआर के वातावरण में प्रदूषण और हवा की गुणवत्ता को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान को नोटिस जारी किया है। एनजीटी ने सभी से संबंधित आंकड़े जमा करने को कहा है।

उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान को नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यनल का नोटिस

साथ ही केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और दिल्ली प्रदूषण बोर्ड को इन आंकड़ों का अध्ययन कर अपनी सिफारिशें देने का निर्देश दिया है। एनजीटी अब मामले की सुनवाई 23 अप्रैल को करेगा।

इससे पहले सुनवाई के दौरान पीठ ने पंजाब व हरियाणा सरकार को वायु प्रदूषण से निपटने में कोताही बरतने के लिए फटकारा। पीठ ने दोनों राज्यों को वायु प्रदूषण पर पिछले फैसले का अध्ययन करने को कहा। साथ ही दिल्ली सरकार और पड़ोसी राज्यों की कार्यप्रणाली पर भी नाराजगी जाहिर की और वायु प्रदूषण से निपटने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को लेकर विस्तृत रिपोर्ट मांगी। पीठ ने कड़े शब्दों में कहा कि हमने यह पाया है कि राष्ट्रीय राजधानी की हवा में प्रदूषण का स्तर कभी सामान्य रहा ही नहीं है। पीठ ने पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान से इस पर फिर से नई योजना पेश करने को कहा।

नयी दिल्ली से अन्य समाचार व लेख

» मुख्य सचिव के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट मे अवमानना की मांग

» भारत के नए मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई बने, राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ

» केरल जैसे राज्यों में पुनर्वास के लिए 'आपदा टैक्स' पर विचार करेगा सात सदस्यीय मंत्रिसमूह

» लोगों को पता रहे कि उन्मादी भीड़ हिंसा की तो कानून का क्रोध बरसेगा: सुप्रीम कोर्ट

» यूपी सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने दिया सजा माफी के नियम प्रस्तुत करने का आदेश

 

नवीन समाचार व लेख

» लखनऊ मे गलाघोट कर मारी गयी थी युवती, पति के खिलाफ हत्या का मुकदमा

» राजधानी मे डीजीपी कार्यालय के पास खुलेआम गुंडई, पुलिस के सामने लहराए असलहे

» सूचना विभाग के हटाए गए निदेशक व अपर निदेशक

» मिट्टी जांच घोटाले में कृषि विभाग के नौ अधिकारी निलंबित

» उन्नाव ट्रांसगंगा सिटी को अनदेखा कर माननीय अधौगिक विकास मंत्री सतीश महाना के झूठे वादे