यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

केंद्र सरकार ने ठगी को रोकने के लिए कसी कमर, स्वर्णाभूषणों पर अनिवार्य होगी हालमार्किग


🗒 बुधवार, मई 23 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सोने के गहनों की शुद्धता के नाम पर होने वाली ठगी पर पूरी तरह रोकने के लिए केंद्र सरकार ने कमर कस ली है। देश में स्वर्णाभूषणों पर हालमार्किग को अनिवार्य करने का फैसला किया गया है। इसके बाबत नया दिशा निर्देश इसी सप्ताह जारी किये जाने की संभावना है। इसके बाद हालमार्किग के बगैर कोई स्वर्णाभूषण बाजार में बेचना संभव नहीं होगा। इसके लिए सभी जौहरियों को लाइसेंस लेना जरूरी होगा।

केंद्र सरकार ने ठगी को रोकने के लिए कसी कमर, स्वर्णाभूषणों पर अनिवार्य होगी हालमार्किग

फिलहाल सोने के गहनों की हालमार्किग स्वैच्छिक है। सोने की गुणवत्ता का मसला उपभोक्ताओं और जौहरियों के परस्पर संबंधों पर छोड़ दिया गया था। लेकिन अब सरकार ने इस पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है। प्रस्तावित हालमार्किग में 22 कैरट, 18 कैरट और 14 कैरट के सोने की शुद्धता मापी जाएगी।

अनिवार्यता के इस नये प्रावधान को चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा ताकि स्वर्णाभूषण बनाने वाले जौहरियों को कोई दिक्कत न आने पाये। फिलहाल देश में तकरीबन ढाई लाख से ज्यादा जौहरियों में से केवल 25 हजार ने ही लाइसेंस ले लिया है।

केंद्रीय उपभोक्ता मामले मंत्रालय की ओर से जारी होने वाले दिशानिर्देशों पर हर हाल में अगले छह महीने के भीतर अमल करना जरूरी होगा। राज्यों की राजधानी व अन्य बड़े शहरों को इसी अवधि में प्रावधानों को लागू करना होगा, लेकिन दूर दराज और छोटे शहरों के लिए थोड़ी और रियायत देते हुए एक साल का समय दिया जा सकता है। इसके लिए राज्य सरकारें अपने यहां के सभी जौहरियों को इस बारे में पूरी जानकारी तो देंगी ही, साथ में उन्हें हालमार्किग की नई गाइडलाइन के बारे में विस्तार से बतायेंगी भी। नये नियमों के अनुसार सोने का गहना बेचने वाले सभी जौहरियों को लाइसेंस लेना अनिवार्य होगा।

सूत्रों के मुताबिक उपभोक्ता मंत्रालय के इस मसौदे को कानून मंत्रालय की हरी झंडी मिल चुकी है। नीति आयोग ने इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर उपभोक्ता मंत्रालय को लागू करने का सुझाव दिया था। फिलहाल देश में सोने के गहने की बिक्री चुनिंदा जौहरी ही करते हैं। क्योंकि प्रावधान को लागू करने की अनिवार्यता नहीं है, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

नयी दिल्ली से अन्य समाचार व लेख

» यूपी के पूर्व मंत्री अंगद यादव को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत देने से किया इन्कार

» सुप्रीम कोर्ट का कर्नाटक के राज्यपाल के फैसले पर तुरंत सुनवाई से इनकार

» कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण में दिखेगी विपक्षी एकता की झलक, केजरीवाल भी होंगे शामिल

» एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा जस्‍टिस लोया मामला, दाखिल की गयी पुनर्विचार याचिका

» अब बड़े उद्योगों से कर्ज वसूली की प्रक्रिया अब रफ्तार पकड़ेगी, भूषण स्टील का अधिग्रहण पहली सफलता

 

नवीन समाचार व लेख

» राजस्थान विधानसभा चुनाव निकट आते राजनीतिक गतिविधियां हुईं तेज

» यूपी के पूर्व मंत्री अंगद यादव को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत देने से किया इन्कार

» केंद्र सरकार ने ठगी को रोकने के लिए कसी कमर, स्वर्णाभूषणों पर अनिवार्य होगी हालमार्किग

» डॉ. राम विलास दास वेदांती कहा अयोध्या में मंदिर बनना शुरू नहीं हुवा तो कर लेंगे आत्मदाह

» मायावती का अनुसूचित समाज के वोटों पर अकेले अधिकार नहींः रामदास अठावले