यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

BJP MLA को DIOS ने धमकाया : जितनी तुम्हारे घर में चप्पल हैं, उससे अधिक मेरे घर में राइफल


🗒 शनिवार, मई 06 2017
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पीलीभीत । प्रदेश में सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी के पीलीभीत के विधायक संजय सिंह गंगवार को जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआइओएस) अनिल कुमार मिश्रा से अधिक देर तक बात करने के एवज में कड़ी धमकी मिली। इसके बाद विधायक ने मामला सीएम योगी आदित्यनाथ तक पहुंचाया। जिसके बाद जिला विद्यालय निरीक्षक अनिल कुमार मिश्रा को निलंबित कर दिया गया। भाजपा के शहर विधायक संजय सिंह गंगवार से उलझना जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआइओएस) को अनिल कुमार मिश्रा महंगा पड़ गया। विधायक के भेजे फरियादी के सामने उन्हीं को धमकाने के साथ ही बेहद अपमानजनक भाषा के इस्तेमाल पर शासन ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। पीलीभीत में बोर्ड परीक्षा के दौरान एक शिक्षिका के मामले को लेकर विधायक संजय सिंह गंगवार की सिफारिश के साथ शिक्षिका के पति ने डीआइओएस से मुलाकात की थी। आरोप है डीआइओएस ने विधायक की सिफारिश मानने से मना कर दिया। साथ ही धमकी भरे अंदाज में बातचीत की जिसे शिक्षिका के पति ने फोन में रिकॉर्ड कर लिया। बाद में बातचीत की सीडी बनवाकर विधायक को सौंप दी। बातचीत में विधायक को देख लेने समेत कुछ आपत्तिजनक शब्द हैं। मामला प्रतिष्ठा से जुड़ा था लिहाजा विधायक ने लखनऊ में मुख्यमंत्री के समक्ष बात रखी। बाद में साक्ष्य के साथ वह उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा से मिले। उप मुख्यमंत्री ने इस रवैये को अनुशासनहीनता मानते हुए कार्रवाई के निर्देश दे दिए। इसके बाद शासन ने डीआइओएस को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। भाजपा विधायक संजय गंगवार के भाई विजय गंगवार ने 07 अपैल की घटना बताते हुए तत्कालीन जिलाधिकारी पीलीभीत से 08 अपैल को एक शिकायत की थी। यह है उस पत्र की छाया प्रति, जिसमें जिला विद्यालय निरीक्षक अनिल कुमार मिश्रा पर आरोप है कि उन्होंने विधायक संजय गंगवार के टुकड़े-टुकड़े करवा देने की धमकी दी। आरोप यह भी है कि जिला विद्यालय निरीक्षक अनिल कुमार मिश्रा ने धमकाते हुए कहा कि वह जिस परिवार से आते हैं उस परिवार में जितनी चप्पलें नहीं है उससे ज्यादा रायफलें हैं, गाँव के एक पूरे परिवार को ही उन्होंने खत्म करवा दिया, उनका भाई अभी कुछ दिन पहले ही जेल से छूटा है आदि-आदि। निलंबित डीआइओएस का कहना है कि उन्होंने विधायक के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं की। उन पर जो भी आरोप लगाए जा रहे हैं। वह निराधार हैं। वहीं निलंबित डीआईओएस अनिल मिश्रा का कहना है कि विधायक के नियम विरुद्ध कार्य करवाने के दबाव को उन्होंने नहीं माना, इसी को भाजपा विधायक ने प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया। षडयंत्र रचकर शासन को गुमराह कर उनके विरुद्ध कार्यवाही करा दी। पूरा प्रकरण शिक्षिका के विरुद्ध की गई डीआईओएस की कार्यवाही से शुरू हुआ बताया जा रहा है। जिला विद्यालय निरीक्षक का कहना है कि इस पूरे प्रकरण के पीछे एक शिक्षिका की बोर्ड परीक्षा के दौरान सचल दल में डियूटी लगाना वजह रही जिसकी डियूटी हाईकोर्ट के निर्देशों और शासन की नकल विहीन परीक्षा कराने के निर्देर्शों के चलते नहीं काटी गई। वहीं शिक्षिका राजनीतिक संरक्षण के चलते महीने भर से ज्यादा अनुपस्थित रही।

BJP MLA को DIOS ने धमकाया : जितनी तुम्हारे घर में चप्पल हैं, उससे अधिक मेरे घर में राइफल

पीलीभीत से अन्य समाचार व लेख

» जनपद पीलीभीत मे भाजपा विधायक का एसडीएम को पैसे देने का ऑडियो वायरल

» पीलीभीत मे 102 व 108 एंबुलेंस खस्ताहाल हो चुकी हैं कैसे पहुंचेंगे गंभीर मरीज

» पीलीभीत मे दलित छात्रा के साथ दुष्कर्म कर खीचीं अश्लील तस्वीरें, फिर शुरू हुआ ब्लैकमेलिंग का खेल

» पीलीभीत के अमरिया थाना क्षेत्र मे जमीन के विवाद में दो सगे भाइयों में खूनी संघर्ष, एक की मौत

» पीलीभीत में नहर किनारे मिला बाघ का शव, दो महीने में 3 बाघों की मौत से हड़कंप

 

नवीन समाचार व लेख

» अब महागठबंधन का सियासी मंच सजने से पहले ही पीएम उम्मीदवारी पर शह-मात का खेल शुरू

» सीएम योगी ने माब लिंचिंग को लेकर चल रहे बवाल पर कहा मनुष्य और गाय दोनों ही महत्वपूर्ण

» लोकसेवा आयोग से एक अभ्यर्थी को दो प्रवेशपत्र

» मुख्यमंत्री योगी का प्रशिक्षु आरक्षियों को पहली वर्चुअल क्लास में अनुशासन पाठ

» फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में बंद राठी की वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी