यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पीलीभीत बना यूपी का मिनी गोवा चूकाबीच का जंगल नए साल की अगवानी को तैयार


🗒 शनिवार, दिसंबर 30 2017
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

शायद ऐसा नजारा पहली बार दिखाई पड़ रहा है। नए साल-2018 की अगवानी के लिए टाइगर रिजर्व का जंगल भी पूरी तरह तैयार है। मिनी गोवा कहे जाने वाले इको पर्यटन केंद्र चूकाबीच की जहां सभी हटें करीब एक पखवारे पहले ही आनलाइन बुक हो चुकी हैं, वहीं जंगल के भीतर के गेस्ट हाऊस भी फुल हैं। ऐसे में टूरिस्टों को भ्रमण कर प्राकृतिक सुंदरता का आनंद उठाना पड़ेगा। पर्यटकों की संख्या बढऩे की वजह से चूकाबीच की रौनक देखते ही बनती है। पुराने साल के अंतिम दिन और नए साल के स्वागत के लिए टूरिस्ट उमड़ रहे हैं। हिमालय की तलहटी में बसे पीलीभीत टाइगर रिजर्व का जंगल काफी खूबसूरत है। उत्तर में नेपाल राष्ट्र और उत्तराखंड के जंगल की सीमाएं छूती है। टाइगर रिजर्व के जंगल से नेपाल की शुक्ला फांटा सेंक्चुअरी कुछ ही दूरी पर हैं, जहां पर वन्यजीवों की बहुलता है। आसानी से ग्रासलैंड में वन्यजीवों के अटखेलियां करते हुए दर्शन किए जा सकते हैं। ऐसा ही टाइगर रिजर्व का जंगल हैं, जहां पर ग्रासलैंड में लुप्तप्राय बंगाल फ्लोरिकन चिडिय़ां डांस करती हुई दिख जाएगी, तो तालाब में मगरमच्छ आराम फरमाता नजर आएगा। हिरनों के झुंड के झुंड जंगल के अंदर दौड़ते नजर आते हैं। जंगल के मुख्य रास्ते पर मोर का डांस मंत्रमुग्ध कर देता है।

पीलीभीत बना यूपी का मिनी गोवा चूकाबीच का जंगल नए साल की अगवानी को तैयार

टाइगर रिजर्व के जंगल में ईको पर्यटन केंद्र चूकाबीच, सप्तसरोवर, बाइफरकेशन आदि स्पाट हैं, जहां पर सैर सपाटा कर प्राकृतिक सुंदरता का आनंद उठाया जा सकता है। चूकाबीच में ट्री हट, बैंबू हट, अरण्य कुटीर, थारू हट में रात गुजार कर विशालकाय शारदा सागर डाम का आनंद लिया जा सकता है। जंगल के अंदर चिडिय़ों की चहचहाट मन को मोह लेती है। नए साल की अगवानी करने के लिए पीलीभीत टाइगर रिजर्व का जंगल तैयार है। टाइगर रिजर्व के ईको पर्यटन केंद्र चूकाबीच पर टूरिस्टों का पहुंचना शुरू हो गया है, जिससे जंगल के अंदर टूरिस्टों की भीड़ ही भीड़ नजर आ रही है। कोई चूकाबीच का भ्रमण कर रहा है, तो कोई नहरों का जंक्शन वाइफरकेशन की सैर कर रहा है। जंगल की सैर करने के बाद चूकाबीच पर कैंटीन के लजीज व्यंजन का स्वाद ले रहे हैं। जंगल के हटों समेत अन्य स्थानों पर सभी सुविधाएं मुकम्मल कर ली गई। जंगल के अंदर सफारी पर टूरिस्ट सैर कर रहे हैं। इस तरह चूकाबीच समेत पूरा जंगल नए साल की अगवानी के लिए तैयार है। 

प्रभागीय वनाधिकारी पीलीभीत टाइगर रिजर्व कैलाश प्रकाश ने बताया कि पर्यटन सीजन को डेढ़ माह का समय हो रहा है। नए साल पर तीन जनवरी तक ईको पर्यटन केंद्र चूकाबीच पर सभी हटें फुल चल रही है। सिर्फ टूरिस्ट डे विजीटर्स के रूप में जंगल की सैर कर सकता है। इसके लिए पीलीभीत के नेहरू ऊर्जा उद्यान व मुस्तफाबाद से जंगल सफारी की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। जिस पर्यटक की चूकाबीच में हटों की बुकिंग हैं। उन्हें किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। जंगल के अंदर मांस-मदिरा पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा हुआ है। आग्नेयास्त्र ले जाने पर पूरी तरह प्रतिबंध है। उल्लंघन करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

पीलीभीत से अन्य समाचार व लेख

» जनपद पीलीभीत मे भाजपा विधायक का एसडीएम को पैसे देने का ऑडियो वायरल

» पीलीभीत मे 102 व 108 एंबुलेंस खस्ताहाल हो चुकी हैं कैसे पहुंचेंगे गंभीर मरीज

» पीलीभीत मे दलित छात्रा के साथ दुष्कर्म कर खीचीं अश्लील तस्वीरें, फिर शुरू हुआ ब्लैकमेलिंग का खेल

» पीलीभीत के अमरिया थाना क्षेत्र मे जमीन के विवाद में दो सगे भाइयों में खूनी संघर्ष, एक की मौत

» पीलीभीत में नहर किनारे मिला बाघ का शव, दो महीने में 3 बाघों की मौत से हड़कंप

 

नवीन समाचार व लेख

» जिले में सात लाख पौधे रोपित होंगे

» पुलिस ने पकड़ी कार सवार दो लड़कों से 97 ग्राम चरस पकडी

» इलाहाबाद कुंभ मेले के नाम पर निकाला फर्जी टेंडर, ठगी का शिकार हुआ कारोबारी

» इलाहाबाद के कांग्रेस नेताओं द्वारा जारी किये गए पोस्टर राहुल और PM मोदी के गले लगने पर

» ममता सरकार ने किया समझौता, आयुष्मान भारत योजना में बंगाल भी शामिल