यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

एसटीएफ ने डेरी विकास परिषद की फर्जी संस्था की ठगी पकड़ी, दो जालसाज गिरफ्तार


🗒 शुक्रवार, अप्रैल 12 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

एसटीएफ ने राष्ट्रीय पशु एवं डेयरी विकास परिषद नामक फर्जी संस्था बनाकर करोड़ों की ठगी से पर्दा उठाया है। जालसाज सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर सूबे के कई जिलों में वसूली कर रहे थे। शातिरों ने पशुधन अधिकारी, पशुधन निरीक्षक, शाखा प्रबंधक, कंप्यूटर ऑपरेटर समेत अन्य पदों पर भर्ती के नाम पर रुपये वसूले और फर्जी नियुक्ति पत्र तक थमा दिया। एसटीएफ ने शिवकुटी स्थित कार्यालय को सील कर दो जालसाजों को गिरफ्तार किया है। गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश में छापामारी की जा रही है। स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) को सूचना मिली कि कुछ जालसाज कई शहरों में कार्यालय खोलकर सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर लाखों की वसूली कर रहे हैं। एसटीएफ इंस्पेक्टर केशव चंद्र राय और अतुल सिंह की टीम ने शुक्रवार को शिवकुटी थाना क्षेत्र के स्टेनली रोड पर स्थित हाईटेक कार्यालय में छापामारी की तो जालसाजी का भंडाफोड़ हो गया। एसटीएफ ने आरोपित हेमंत बनर्जी पुत्र केसी बनर्जी निवासी देवोग्राम ननूर, बीरभूमि, पश्चिम बंगाल और मदन कुमार पुत्र भगौतीदीन निवासी उदापुर, जेठवारा, प्रतापगढ़ को गिरफ्तार कर लिया। 

एसटीएफ ने डेरी विकास परिषद की फर्जी संस्था की ठगी पकड़ी, दो जालसाज गिरफ्तार

कार्यालय में राष्ट्रीय पशु एवं डेयरी विकास परिषद (भारत सरकार का उपक्रम) लिखे हुए पैड, लेटर हेड, नियुक्ति पत्र, आइडी कार्ड विभिन्न विभागों के फर्जी पैड, नौ कंप्यूटर, लैपटाप, सीडी, पिंटर, परीक्षा, इंटरव्यू, कॉल लेटर और नियुक्ति पत्र बरामद हुए। एएसपी नीरज पांडेय के मुताबिक, कार्यालय से कौशांबी, प्रतापगढ़, वाराणसी, जौनपुर, कानपुर आदि शहरों का पशुधन अधिकारी, पशुधन निरीक्षक, शाखा प्रबंधक, कंप्यूटर ऑपरेटर, कार्यालय सहायक, क्लर्क आदि के फर्जी नियुक्ति पत्र बरामद हुए हैं। एसटीएफ ने कार्यालय को सील कर एसएसपी अतुल शर्मा को सूचित कर दिया। सीओ नवेंदु कुमार के मुताबिक, जालसाजों ने प्रदेश के एक दर्जन से अधिक जिलों में कार्यालय खोल सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर करोड़ों की ठगी की है। शिवकुटी स्थित कार्यालय से ही अकेले 22 लोगों को नियुक्ति पत्र देकर लाखों रुपये वसूले गए। गिरोह का सरगना वरिष्ठ तिवारी है जो लखनऊ में गिरफ्तार हुआ है। वरिष्ठ ने लखनऊ में दर्जनों लोगों को फर्जी नियुक्ति पत्र देकर लाखों रुपये वसूले हैं। आठ लाख रुपये ठगी करने पर मामले की रिपोर्ट शिवकुटी थाने में भी दर्ज हुई है। गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश में एसटीएफ छापामारी कर रही है।

प्रयागराज से अन्य समाचार व लेख

» जिला प्रयागराज के मऊआइमा में कनपटी पर सटाया तमंचा और लूट लिया दो लाख रुपये

» इलाहाबाद हाईकोर्ट से सपा नेता आजम खां को राहत, शस्त्र लाइसेंस निलंबन का आदेश रद

» औद्योगिक क्षेत्र के देव प्रयाग पेपर मिल हादसा, एक मजदूर की मौत

» प्रयागराज पुलिस मुठभेड में एक बदमाश को पैर में लगी गोली

» इलाहाबाद हाईकोर्ट प्रशासन ने किया 200 अपर जिला जज का तबादला

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर मे शोहदे की हरकतों से आजिज आकर युवती ने फांसी लगाकर दी जान

» एसटीएफ ने डेरी विकास परिषद की फर्जी संस्था की ठगी पकड़ी, दो जालसाज गिरफ्तार

» चंदोली मे रायफल संभालने में होमगार्ड के राइफल से चली गोली, रोजगार सेवक घायल

» कल से तीन दिन बैंक रहेंगे बंद, आज निपटा लें लेन-देन के सभी जरूरी काम

» बेटे का चेहरा देखने को तीन घंटे भटकते रहे माता-पिता