यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

इस्लाम में हराम है इच्छामृत्यु, फैसले पर पुनर्विचार करे सुप्रीम कोर्ट: देवबंदी उलेमा


🗒 बुधवार, मार्च 14 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सुप्रीम कोर्ट द्वारा इच्छामृत्यु की इजाजत के फैसले पर देवबंदी उलेमा इसे न सिर्फ इस्लाम के खिलाफ, बल्कि इसे आत्महत्या बता रहे हैं. इतना ही नहीं उलेमा ने बताया कि इस्लाम में इच्छामृत्यु नाजायज ही नहीं हराम भी है.

इस्लाम में हराम है इच्छामृत्यु, फैसले पर पुनर्विचार करे सुप्रीम कोर्ट: देवबंदी उलेमा

मुफ़्ती ने बताया कि बीमारी या मुसीबत में भी मौत की दुआ करने की भी इस्लाम में इजाजत नहीं है. जीवन और मृत्यु अल्लाह के हाथ में है. इसमें मनुष्य का कोई हस्तक्षेप नहीं. लिहाजा सुप्रीम कोर्ट को अपने फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए.
बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसले में मरणासन्न व्यक्ति द्वारा इच्छामृत्यु के लिए लिखी गई वसीयत (लिविंग विल) को गाइडलाइन्स के साथ कानूनी मान्यता दे दी है. कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि मरणासन्न व्यक्ति को यह अधिकार होगा कि कब वह आखिरी सांस ले. कोर्ट ने कहा कि लोगों को सम्मान से मरने का पूरा हक है.
ज्ञात हो कि 'लिविंग विल' एक लिखित दस्तावेज होता है. जिसमें कोई मरीज पहले से यह निर्देश देता है कि मरणासन्न स्थिति में पहुंचने या रजामंदी नहीं दे पाने की स्थिति में पहुंचने पर उसे किस तरह का इलाज दिया जाए. 'पैसिव यूथेनेशिया' (इच्छामृत्यु) वह स्थिति है जब किसी मरणासन्न व्यक्ति की मौत की तरफ बढ़ाने की मंशा से उसे इलाज देना बंद कर दिया जाता है.
मौलाना सलिम अशरफ कासमी ने कहा कि इस्लाम में ये जायज नहीं है. ऐसी स्थिति ही पैदा नहीं होनी चाहिए, जिससे किसी को आत्महत्या करनी पड़े. समाज में सभी को सिर उठाकर जीने का हक मिला हुआ है.

सहारनपुर से अन्य समाचार व लेख

» दिल्ली एयरपोर्ट पर गिरफ्तार संदिग्ध बांग्लादेशी ने देवबंद के फर्जी पते पर बनवाया था पासपोर्ट

» शियों की इफ्तार पार्टी से परहेज करें सुन्नी, शादी दावत भी खाने से बचें: दारुल उलूम

» सहारनपुर जिले में शादी को महज 7 माह हुए थे और पति ने गला रेतकर नवविवाहिता को मार डाला

» बीजेपी ने की मुख्य चुनाव अधिकारी से देवबंद मौलाना के खिलाफ की शिकायत

» सहारनपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा मुजफ्फरनगर दंगों के खून से रंगे हैं अखिलेश के हाथ, नहीं आ सकते कैराना

 

नवीन समाचार व लेख

» बाराबंकी मे सेना की शराब की तस्करी का भंडाफोड़, 550 बोतल बरामद

» UP मे एक ने प्रेमिका के दूल्हे पर तानी बंदूक, दूसरा बिना दुल्हन लौटा

» अमित शाह की हरियाणा की सभी 10 लोस सीटों पर निगाह, प्रदेश के नेताओं संग की चर्चा

» लखनऊ मे सेना के जवानों ने फर्जी वारंट पर बनाए टिकट

» UP में प्रशासनिक फेरबदल, चार जिलों के डीएम भी बदले