यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब आसान नहीं होगा बैंकों के फंसे कर्ज पर सवालों का जवाब देना


🗒 शनिवार, अप्रैल 14 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

पीएनबी घोटाला उजागर होने के बाद सवालों के घेरे में आई बैंकों की कार्यप्रणाली के बारे में सरकारी बाबुओं का तीखे सवालों से दो-चार होना पड़ सकता है। वित्त मंत्रालय के बाबुओं के लिए फंसे कर्ज यानी एनपीए की समस्या पर संसदीय समिति के सवालों का जवाब देना आसान नहीं होगा। यही वजह है कि मंत्रालय के अधिकारी अपना होमवर्क करने में जुट गए हैं।

अब आसान नहीं होगा बैंकों के फंसे कर्ज पर सवालों का जवाब देना

दरअसल बैंकों के फंसे कर्ज यानी एनपीए की सकल राशि (ग्रॉस नॉन-परफॉर्मिग असेट) नौ साल में 12 गुना हो गयी है। हाल यह है कि दिसंबर 2017 में जीएनपीए की राशि 8,31,141 करोड़ रुपये है। यह राशि भारत सरकार के बजट के लगभग एक तिहाई के बराबर है। खास बात यह है कि इसमें अधिकांश एनपीए सरकारी बैंकों का है। सरकारी बैंक वित्त मंत्रालय के बैंकिंग एवं वित्तीय सेवा विभाग के तहत आते हैं। ऐसे में जब 17 अप्रैल को वित्त मंत्रालय के अधिकारी संसद की वित्त मामलों संबंधी स्थायी समिति के समक्ष पेश होंगे तो उनके लिए संसद सदस्यों के तीखे सवालों का जवाब देना आसान नहीं होगा।

हालांकि सूत्रों का कहना है कि अधिकारियों ने इसके लिए होमवर्क करना शुरू कर दिया है। अधिकारी उन उपायों की सूची तैयार करने में जुट गए हैं जिनके जरिये सरकार ने एनपीए को घटाने की कोशिश की है। हालांकि हाल के वर्षो में एनपीए की राशि में उछाल आया है। सूत्रों का कहना है कि पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में एनपीए को छिपाकर रखा गया था जबकि अब इसे पारदर्शी ढंग से पेश किया गया है। यही वजह है कि एनपीए में वृद्धि दिख रही है।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली संसद की वित्त मामलों संबंधी स्थायी समिति की 17 अप्रैल को होने वाली बैठक में बैंकों और वित्तीय संस्थानों की फंसे कर्ज की राशि पर सवाल पूछने के लिए वित्त मंत्रालय के अधिकारियों को तलब किया है।

विशेष से अन्य समाचार व लेख

» बाबा भीमराव आंबेडकर दलितों के नहीं, हर शोषित-वंचित वर्ग की आवाज थे बाबा साहेब

» रिपोर्ट ने किया इशारा, कांग्रेस की आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपैया

» चढ़ावे से भंग हुुई इस 'मंदिर' की पवित्रता, आस्‍था लौटाना बड़ी चुनौती

» एडीआर की ओर से जारी एक रिपोर्ट में BJP देश की सबसे धनी पार्टी, 2016-17 में घोषित की 1034 करोड़ रुपए की आय

» सौ रुपये के नए नोट के लिए हो जाएं तैयार,जून तक होगा आपके हाथों में

 

नवीन समाचार व लेख

» हर जनपद की गली-गली में अब सौ नंबर, दस मिनट में पहुंचेगी बाइक से पुलिस

» वाराणसी में पांच नए थानों को शासन ने मांगा प्रस्ताव, मंथन शुरू

» वाराणसी मे पूनम यादव के परिजनों संग मारपीट, कूची गई बाइक

» वाराणसी मे प्रमुख सचिव कृषि ने किसानों को वितरित किया मृदा स्वास्थ्य कार्ड

» नहीं मनाई अम्बेडकर जयंती, पुलिस के खिलाफ नारेबाजी