यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जानें आपके लिए चेक बाउंस होना है आपके लिए नुकसानदेह


🗒 शनिवार, अगस्त 11 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

कई बार ऐसा सुनने में आता है कि एक व्यक्ति भुगतान के लिए दूसरे व्यक्ति को चेक काटकर देता है, लेकिन किसी कारणवश वह बाउंस हो जाता है। इसके पीछे कई वजहें हो सकती हैं। आज के समय में कई बैंक ऐसे भी हैं जो कि चेक बाउंस होने पर जुर्माना वसूलते हैं।

जानें आपके लिए चेक बाउंस होना है आपके लिए नुकसानदेह

जुर्माने की राशि अलग-अलग बैंकों में अलग अलग हो सकती है। चेक बाउंस के जुर्माने की राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई में अलग-अलग है। कई बार यह चेक बाउंस होने के कारण और उसके प्रकृति पर भी निर्भर करता है। इसमें वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) भी जोड़ा जाता है।यदि अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस न होने और गलत सिग्नेचर से चेक बाउंस होता है तो प्राप्तकर्ता और दोषी दोनों से जुर्माना वसूला जाता है। हालांकि बाउंस हुआ चेक फिर से जमा हो सकता है। हम यहां बता रहे हैं कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक की ओर से चेक बाउंस होने पर कितना जुर्माना लिया जाता है...

एसबीआई का चेक बाउंस होने पर जुर्माना:

चेक बाउंस होने पर एचडीएफसी की ओर से लिया जाने वाला जुर्माना:

चेक बाउंस होने पर आईसीआईसीआई की ओर से लिया जाने वाला जुर्माना:

विशेष से अन्य समाचार व लेख

» निजी शैक्षणिक संस्थानों में आरक्षण के लिए अभी करना पड़ेगा और इंतजार

» गरीबी- अमीरी की खाई कैसे पटे ?

» अब फार्मेसी डिप्लोमा की बढ़ेंगी तीस हजार सीटें, प्रदेश में खुलेंगी 500 नई संस्थाएं

» सवर्ण आरक्षण से गरीबों को लाभ कम, नुकसान अधिक होने की आशंका

» SBI देता है नाबालिग के नाम पर बैंक अकाउंट खोलने का मौका

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला कुशीनगर में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, दो गंभीर

» लखनऊ एयरपोर्ट पर पकड़ा गया तस्करी का सोना, बिजली के तारों में ढलवाकर लाया जा रहे थे गिरफ्तार

» योगी सरकार के तीसरे बजट में किसानों की आय दोगुना करने को समृद्ध खेती का आधारभूत ढांचा मजबूत करने पर जोर

» बजट के सहारे समाज के आखिरी आदमी का सहारा बनने की कोशिश

» मौसम बदलते ही मोहनलालगंज सीएचसी पर बढ़ी रोगियों की संख्या