यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उन्नाव विधायक कांड में पीडि़ता के गांव में सीबीआइ पूछतांछ से लोगों की घिग्घी बंधी


🗒 शनिवार, अप्रैल 14 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

उन्नाव विधायक कांड की तहकीकात में लगी सीबीआइ हर उस बिंदु को खंगाल रही है जो इस मामले से जुड़ा है। लगातार दूसरे दिन सीबीआइ मामले की जांच करने माखी पहुंची। टीम ने पहले माखी थाना में रुककर मामले से जुड़े हर अभिलेख को खंगालने के साथ उसे अपने कब्जे में लिया फिर स्थानीय पुलिस के साथ गांव पहुंच वहां मौजूद गांव के लोगों से पूछताछ की। सीबीआइ की दस्तक से गांव में दहशत का माहौल रहा। विधायक के विपक्ष में कोई मुंह खोलने को तैयार नहीं हुआ फिर भी टीम ने अपने सवालों में घेरकर ग्रामीणों से कई अहम जानकारियां जुटाई।

उन्नाव विधायक कांड में पीडि़ता के गांव में सीबीआइ पूछतांछ से लोगों की घिग्घी बंधी

माखी गांव में सीबीआइ के ढाई घंटे

  • 12.27 बजे सीबीआइ टीम माखी थाना पहुंची
  • 1.54 बजे  सीबीआइ का मांखी गांव में डेरा
  • 2.53 बजे फिर से थाना परिसर में पड़ताल
  • 2.53 बजे सीबीआइ टीम उन्नाव रवाना

केस से जुड़े कुछ दस्तावेज खंगाले

शनिवार दोपहर 12.27 बजे सीबीआइ की पांच सदस्यीय टीम माखी थाना पहुंची। आगंतुक कक्ष में बैठकर उन्होंने थाना के एसओ और दीवान से केस से जुड़े कुछ दस्तावेज मंगाए। जांच के दौरान टीम को यहां से जो भी मिला उसे कब्जे में लेकर वह दोपहर 1.54 बजे पीडि़ता के गांव माखी पहुंची। टीम ने गांव की गलियों में भ्रमण किया। टीम को देख लोग घरों में कैद हो गए। जो सामने दिखे उनसे टीम ने पूछताछ की। दहशत में ग्रामीण कुछ भी बताने से बचते नजर आए। विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के आवास के सामने भी टीम कुछ देर रुकी। इसके बाद टीम 2.53 पर दोबारा थाना पहुंची और यहां कुछ देर रुकने के बाद सवा तीन बजे वहां से चली गई। इस दौरान पुलिस सांसें फूली नजर आईं।

शुरुआती दौर से दुष्कर्म पीडि़ता बार-बार यही कहती आ रही है कि वह अपनी फरियाद लेकर कई बार थाना गई पर उसकी एक नहीं सुनी गई। सीबीआइ ने पीडि़ता के बयानों के आधार पर थाना के शिकायत रजिस्टर को खंगाला। उन्होंने देखा कि कितनी बार पीडि़ता के आने की इंट्री रजिस्टर में दर्ज है। सूत्रों की माने तो इस दौरान टीम को कई अहम साक्ष्य मिले हैं।

सूत्रों की माने तो सीबीआइ टीम को शशि सिंह की तलाश में रही। इसके लिए माखी से शहर तक टीम की गाड़ी दौड़ती नजर आई। इस दौरान टीम ने कुछ संभावित जगहों पर छापामारी भी की। आखिर किसी को भनक तक नहीं लगी कि कब शशि सिंह सीबीआइ टीम के शिकंजे में आ गईं।

उन्नाव से अन्य समाचार व लेख

» उन्नाव के नवाबगंज में सुबह-सुबह हंसी-खुशी निकला था परिवार, पल भर में आई उनकी मौत की खबर

» शुक्लागंज पुलिस ने दो शतिरो को धर दबोचा

» मार पीट के विवाद में दो खिलाफ एनसीआर दर्ज

» उन्नाव के मौरावां में खाकी पहनने से पहले युवती को ओढ़ा दिया कफन

» उन्नाव अचलगंज कस्बे में कौशल विकास मिशन के तहत निकली गई रैली

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला कुशीनगर में जहरीली शराब पीने से चार की मौत, दो गंभीर

» लखनऊ एयरपोर्ट पर पकड़ा गया तस्करी का सोना, बिजली के तारों में ढलवाकर लाया जा रहे थे गिरफ्तार

» योगी सरकार के तीसरे बजट में किसानों की आय दोगुना करने को समृद्ध खेती का आधारभूत ढांचा मजबूत करने पर जोर

» बजट के सहारे समाज के आखिरी आदमी का सहारा बनने की कोशिश

» मौसम बदलते ही मोहनलालगंज सीएचसी पर बढ़ी रोगियों की संख्या