यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उन्नाव विधायक कांड में पीडि़ता के गांव में सीबीआइ पूछतांछ से लोगों की घिग्घी बंधी


🗒 शनिवार, अप्रैल 14 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

उन्नाव विधायक कांड की तहकीकात में लगी सीबीआइ हर उस बिंदु को खंगाल रही है जो इस मामले से जुड़ा है। लगातार दूसरे दिन सीबीआइ मामले की जांच करने माखी पहुंची। टीम ने पहले माखी थाना में रुककर मामले से जुड़े हर अभिलेख को खंगालने के साथ उसे अपने कब्जे में लिया फिर स्थानीय पुलिस के साथ गांव पहुंच वहां मौजूद गांव के लोगों से पूछताछ की। सीबीआइ की दस्तक से गांव में दहशत का माहौल रहा। विधायक के विपक्ष में कोई मुंह खोलने को तैयार नहीं हुआ फिर भी टीम ने अपने सवालों में घेरकर ग्रामीणों से कई अहम जानकारियां जुटाई।

उन्नाव विधायक कांड में पीडि़ता के गांव में सीबीआइ पूछतांछ से लोगों की घिग्घी बंधी

माखी गांव में सीबीआइ के ढाई घंटे

  • 12.27 बजे सीबीआइ टीम माखी थाना पहुंची
  • 1.54 बजे  सीबीआइ का मांखी गांव में डेरा
  • 2.53 बजे फिर से थाना परिसर में पड़ताल
  • 2.53 बजे सीबीआइ टीम उन्नाव रवाना

केस से जुड़े कुछ दस्तावेज खंगाले

शनिवार दोपहर 12.27 बजे सीबीआइ की पांच सदस्यीय टीम माखी थाना पहुंची। आगंतुक कक्ष में बैठकर उन्होंने थाना के एसओ और दीवान से केस से जुड़े कुछ दस्तावेज मंगाए। जांच के दौरान टीम को यहां से जो भी मिला उसे कब्जे में लेकर वह दोपहर 1.54 बजे पीडि़ता के गांव माखी पहुंची। टीम ने गांव की गलियों में भ्रमण किया। टीम को देख लोग घरों में कैद हो गए। जो सामने दिखे उनसे टीम ने पूछताछ की। दहशत में ग्रामीण कुछ भी बताने से बचते नजर आए। विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के आवास के सामने भी टीम कुछ देर रुकी। इसके बाद टीम 2.53 पर दोबारा थाना पहुंची और यहां कुछ देर रुकने के बाद सवा तीन बजे वहां से चली गई। इस दौरान पुलिस सांसें फूली नजर आईं।

शुरुआती दौर से दुष्कर्म पीडि़ता बार-बार यही कहती आ रही है कि वह अपनी फरियाद लेकर कई बार थाना गई पर उसकी एक नहीं सुनी गई। सीबीआइ ने पीडि़ता के बयानों के आधार पर थाना के शिकायत रजिस्टर को खंगाला। उन्होंने देखा कि कितनी बार पीडि़ता के आने की इंट्री रजिस्टर में दर्ज है। सूत्रों की माने तो इस दौरान टीम को कई अहम साक्ष्य मिले हैं।

सूत्रों की माने तो सीबीआइ टीम को शशि सिंह की तलाश में रही। इसके लिए माखी से शहर तक टीम की गाड़ी दौड़ती नजर आई। इस दौरान टीम ने कुछ संभावित जगहों पर छापामारी भी की। आखिर किसी को भनक तक नहीं लगी कि कब शशि सिंह सीबीआइ टीम के शिकंजे में आ गईं।

उन्नाव से अन्य समाचार व लेख

» उन्नाव ट्रांसगंगा सिटी को अनदेखा कर माननीय अधौगिक विकास मंत्री सतीश महाना के झूठे वादे

» गंगा रेती क़ी जमीन के लिए माफिया सक्रिय

» अब गांव मे डेंगू पीड़ित मिलेगे तो इसके जिम्मेदार ग्राम प्रधान होगे

» महिला से टप्पेबाजी कार उड़ाया गैस सिलेंडर

» उन्नाव की पूर्व सांसद अन्नू टंडन ने 12वी क्लास की बोर्ड परीक्षा की तैयारी के लिए छात्रो को सोलर लैम्प बंटवाए

 

नवीन समाचार व लेख

» राष्ट्रीय मार्शलआर्ट्स प्रतियोगिता मै बृज के फाइटर्स का बजा डंका

» मथुरा छाता के ग्रांम तरौली में लगा स्वामी बाबा का मेला, बड़ी संख्या में जुटे श्रद्धालु

» मथुरा के बरसाना बस अड्डे पर शौचालय जीर्णोद्धार का काम हुआ शुरु

» मथुरा के यमुना के द्रव घाट पर गंदगी का अंबार नगर निगम बेपरवाह

» गोवर्धन के गांव महमदपुर में वीडियो बनाने को लेकर हुए विवाद में खूनी हुआ संघर्ष