यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उन्नाव से साक्षी महाराज ने टिकट पाने के लिए चला ऐसा दांव कि मंद पड़ गए विरोध के सुर


🗒 शुक्रवार, मार्च 22 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

तमाम विरोध और पेशबंदियों के बाद भी उन्नाव से फिर टिकट पाकर साक्षी महाराज ने साबित कर दिया कि वह सियासत के भी 'महाराज' हैं। विधानसभा चुनाव के बाद से पार्टी के भीतर पनपते विरोध और चुनाव के ठीक पहले फिर से टिकट के दावे के खिलाफ हुई पेशबंदी के बीच सांसद ने पार्टी आलाकमान को जीत का समीकरण समझा कर अपने लिए राह बना ही ली। एक बार फिर पिछड़ी जातियों का समीकरण उनके काम आ गया। लोकसभा चुनाव के एलान के ठीक बाद साक्षी महाराज द्वारा प्रदेश नेतृत्व को लिखे पत्र के वायरल होने से साफ था कि पार्टी में इस बार फिर उन्नाव की टिकट को लेकर सब ठीक नहीं था। सांसद का पार्टी भीतर ही विरोध और पेशबंदियों का दौर तो विधानसभा चुनाव के बाद ही शुरू हो गया था। हालांकि विपरीत हालात में भी खुद के लिए रास्ता बना लेने में माहिर साक्षी महाराज ने संसदीय सीट पर खुद को पिछड़ों में इकलौता जन प्रतिनिधि साबित करने के साथ जीत का समीकरण समझाकर पार्टी आला कमान को मना लिया है। यह भी बता दिया उनके न होने से क्या नुकसान हो सकता है। प्रदेश नेतृत्व को लिखे जिस पत्र को वायरल करके उनको 'बागी' और अनुशासनहीन साबित करने की कोशिश की गई उसी को उन्होंने हथियार बना लिया। 

उन्नाव से साक्षी महाराज ने टिकट पाने के लिए चला ऐसा दांव कि मंद पड़ गए विरोध के सुर

प्रदेश नेतृत्व को लिखे पत्र में साक्षी महाराज जो तथ्य रखे उनको पार्टी आलाकमान ने गंभीरता से लिया। पत्र में सांसद ने बताया था कि उनके अलावा जिले में ओबीसी का कोई प्रतिनिधित्व नहीं है। उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष के साथ ही तीन विधायक क्षत्रिय, दो विधायक ब्राह्मण, अनुसूचित जाति के दो और एक विधायक के वैश्य होने का तर्क देते हुए खुद को पिछड़ों का इकलौता प्रतिनिधि बताया था। साथ ही उन्होंने तकरीबन 22 लाख मतदाताओं में 10 लाख पिछड़े मतदाता होना बताया। सपा-बसपा गंठबंधन में उन्नाव संसदीय सीट सपा के खाते में आने के बाद उसने भले अभी तक अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया पर साक्षी ने जरूर अपने पत्र में लिखा था कि 2014 में सपा का ब्राह्मण प्रत्याशी दूसरे नंबर पर रहा था उसको उन्होंने तीन लाख पंद्रह हजार वोटों से हराकर जीत जीत दर्ज की थी। उसी को फिर से टिकट मिलने की पूरी संभावना है। इस तरह से उन्होंने ब्राह्मण नेता के दावे को भी आंकड़ों के साथ कुंद किया और वह उनके पक्ष में गया भी। 

उन्नाव से अन्य समाचार व लेख

» उन्नाव का एक और लाल हुआ आतंकी हमले में शहीद

» उन्नाव सदर चौकी इंचार्ज को मिली बड़ी सफलता

» उन्नाव से पकड़ा गया आरोपित यशराज गिरफ्तार कोयला व्यापारी के घर पुलिस की डकैती में

» जिला उन्नाव के इंडाग्रो स्लॉटर हाउस में गुटखा को लेकर खूनी संघर्ष, 35 घायल

» उन्नाव सांसद साक्षी महाराज बोले- मोदी नाम की सुनामी है, 2024 में नहीं होगा चुनाव

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर के सचेंडी में घर में अकेली वृद्धा की गला घोंटकर हत्या, गेट में बाहर से लगा था ताला

» कानपुर के महाराजपुर थानाक्षेत्र में हाईवे पर हादसे के बाद अराजक हुए ग्रामीण, पथराव कर वाहनों के शीशे तोड़े

» बागपत जिले मे होली पर मामूली विवाद के बाद ईंट से चेहरा कुचलकर दोस्त की हत्या

» प्रयागराज में रईसजादों ने वेटर को पीटकर अधमरा कर दिया

» वाराणसी एयरपोर्ट बैंकाक से सोना छिपाकर पहुंची महिला गिरफ्तार, पूछताछ जारी