यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लखनऊ समेत प्रदेशभर के दमकल विभाग पर डीजल का पांच करोड़ 80 लाख रुपये बकाया


🗒 रविवार, अप्रैल 01 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मड़ियांव थाना क्षेत्र स्थित भरतनगर में एक मकान में गैस सिलिंडर में आग लग गई। फायर ब्रिगेड को सूचना दी गई। बीकेटी फायर स्टेशन में खड़ी दमकल डीजल के अभाव में मौके पर ही नहीं गई। मोहल्ले के लोगों ने पानी और बालू डालकर स्वयं आग बुझाई, अगर लोग दमकल के सहारे रहते और वक्त रहते आग न बुझाते तो बड़ा हादासा भी हो सकता था।

लखनऊ समेत प्रदेशभर के दमकल विभाग पर डीजल का पांच करोड़ 80 लाख रुपये बकाया

इंदिरानगर थाने के पास झुग्गी-बस्ती में आग लग गई। लोगों ने घटना की सूचना फायर ब्रिगेड को दी। डीजल का जुगाड़ करके दमकल घंटेभर बाद बमुश्किल मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक करीब 50 झोपड़े जलकर खाक हो चुके थे। कुछ ऐसा ही हाल ठाकुरगंज थाना क्षेत्र स्थित झुग्गी बस्ती में हुए अग्निकांड में हुआ, यहां भी दमकल वाहनों के देर से पहुंचने के लिए चलते करीब सौ झोपड़ियां जलकर राख हो गई।

अग्निकांड की सूचना पर तत्काल मौके पर पहुंचकर मदद करने वाले दमकल के इन दिनों पहिए थम गए हैं। उनकी डीजल की सप्लाई रोक दी गई है। भीषण गर्मी में अग्निकांड की घटनाओं को रोकने के लिए दमकल विभाग तो तैयार है, लेकिन बजट न मिलने से वाहनों को मौके पर पहुंचने में दिक्कत आ रही है। लखनऊ समेत प्रदेशभर के फायर स्टेशनों को डीजल खरीदने के लिए एक साल से बजट का इंतजार करना पड़ रहा है।

प्रदेशभर के करीब 125 फायर स्टेशनों से पेट्रोल पंपों का पांच करोड़ 80 लाख रुपये बकाया है, ऐसे में उन्होंने डीजल देने से इंकार कर दिया है।ं। ऐसे में गर्मी के चलते हर वर्ष सबसे अधिक आग लगने से फसलों को नुकसान होता है और किसान सड़क पर आ जाता है। जल्द बजट जारी न हुआ तो करोड़ों की सम्पत्ति आग में जलकर स्वाहा हो जाएगी। लखनऊ में आठ फायर स्टेशनों से 43 थाना क्षेत्र कवर किए जा रहे हैं। यहां करीब तीस लाख रुपये पेट्रोल पंपों का बकाया है। सीएफओ अभय भान पांडेय के मुताबिक आठ फायर स्टेशनों में 160 फायर मैन, 46 लीडिंग फायर मैन, 62 ड्राइवर, 28 फायर वाटर टेंडर, दो हाइड्रोलिक प्लेटफॉर्म, एक रेस्क्यू टेंडर, पांच पंप, आठ फायर स्टेशन अफसर, एक सेकंड अफसर हैं, लेकिन डीजल के अभाव में सबकुछ बेकार है। ऐसा ही हाल प्रदेशभर के फायर स्टेशनों का है।

डायरेक्टर फायर सर्विस पीके राव ने बताया कि प्रदेशभर में करीब पांच करोड़ 80 लाख रुपये की धनराशि पेट्रोल पंप मालिकों को देनी है, बकाया होने से उन्होंने डीजल देने से इंकार कर दिया है। शासन से बजट स्वीकृत कराने के लिए पत्र भेजा जा चुका है, धनराशि स्वीकृत होते ही बकाया धनराशि दे दी जाएगी।

उत्तर प्रदेश से अन्य समाचार व लेख

» यूपी में अब 12 बजे खुलेंगी शराब की दुकानें, आज से लागू हुई नई व्यवस्था

» यूपी में अब 12 बजे खुलेंगी शराब की दुकानें, आज से लागू हुई नई व्यवस्था

» शामली जनपद मे युवक को गोली मारी, अस्पताल में भर्ती

» उत्तर प्रदेश की दलित सियासत में उबाल, दलित हितों के मुद्दों पर टकराव और घेरेबंदी शुरू

» नेशनल हाईवे पर सभी टोल प्लाजा सिस्टम अपडेट, आठ फीसद तक टोल बढ़ा

 

नवीन समाचार व लेख

» आगरा के पुलिस एनकाउंटर में गिरफ्तार हुआ 25 हजार का इनामी रिंकू यादव

» रामगोपाल ने योगी पर साधा निशाना, कहा-ठोक देने जैसी भाषा बोलते हैं सीएम

» नोएडा मे राज्यपाल के बंगले में लाखों की चोरी, हिरासत में तीन संदिग्ध

» यूपी में अब 12 बजे खुलेंगी शराब की दुकानें, आज से लागू हुई नई व्यवस्था

» यूपी में अब 12 बजे खुलेंगी शराब की दुकानें, आज से लागू हुई नई व्यवस्था